कांग्रेस प्रवक्‍ता बोले- पायलट-गहलोत दोनों खुश, जो भी मुद्दे उठे हैं उन पर 3 सदस्‍यीय पैनल करेगा सुनवाई

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने फैसला किया है कि AICC सचिन पायलट और नाराज विधायकों द्वारा उठाए गए मुद्दों को दूर करने के लिए एक तीन सदस्यीय समिति का गठन करेगी.
political turn in rajasthan turmoil, कांग्रेस प्रवक्‍ता बोले- पायलट-गहलोत दोनों खुश, जो भी मुद्दे उठे हैं उन पर 3 सदस्‍यीय पैनल करेगा सुनवाई

राजस्थान कांग्रेस के बागी नेता सचिन पायलट (Sachin Pilot) और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) की मुलाकात के बाद राजस्थान में व्याप्त सियासी गतिरोध को सुलझा लिया गया है. AICC महासचिव केसी वेणुगोपाल ने बताया कि सचिन पायलट ने पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की और विस्तार से अपनी शिकायतें व्यक्त कीं. उनकी स्पष्ट, खुली और निर्णायक चर्चा हुई. सचिन पायलट ने राजस्थान में कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस सरकार के हित में काम करने के लिए प्रतिबद्ध किया है.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

केसी वेणुगोपाल के मुताबिक इस बैठक के बाद, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने फैसला किया है कि AICC सचिन पायलट और नाराज विधायकों द्वारा उठाए गए मुद्दों को दूर करने के लिए एक तीन सदस्यीय समिति का गठन करेगी और उसके बाद एक उचित प्रस्ताव पर पहुंचेगी.

उन्होंने कहा, यह बीजेपी के अलोकतांत्रिक चेहरे पर सीधा प्रहार है. वे ऐसे घोड़े-व्यापार करने वाले लोग हैं और लोकतांत्रिक तरीके से चुनी हुई सरकार को तोड़फोड़ कर रहे हैं. यह वास्तव में भाजपा के गलत कामों का नतीजा है. पायलट भी खुश हैं और हमारे मुख्यमंत्री भी खुश हैं

राजस्थान के बागी कांग्रेस नेता सचिन पायलट और उनके समर्थकों को पार्टी में लाने की कोशिशों के बीच, नाराज चल रहे नेता ने सोमवार को राहुल गांधी से उनके आवास पर मुलाकात की. सूत्रों के मुताबिक, पायलट के राहुल गांधी से उनके आवास पर मुलाकात करने के बाद दोनों ने पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी की मौजूदगी में एक और मुलाकात की. राहुल गांधी और प्रियंका गांधी पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के निवास पर पहुंचे, जहां तीनों ने मुलाकात कर विचार विमर्श किया.

कांग्रेस नेताओं ने दावा किया कि पायलट खेमे ने अहमद पटेल सहित पार्टी के शीर्ष नेताओं से संपर्क किया था और हालिया घटनाक्रम पर राहुल गांधी को भी विश्वास में लिया गया है और उन्होंने इस कदम का समर्थन किया है. कांग्रेस ने पायलट के बागी तेवर दिखाने के बाद उन्हें उपमुख्यमंत्री और राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष पद से बर्खास्त कर दिया था. रविवार की रात जैसलमेर के एक होटल में ठहरे गहलोत खेमे के कांग्रेस विधायकों की बैठक में विद्रोहियों को पार्टी में वापस लेने को लेकर मिश्रित विचार सामने आए. कुछ विधायकों ने बागी खेमे के नेताओं को वापस लेने के लिए कहा, वहीं कुछ इसके पक्ष में नहीं थे.

-IANS इनपुट के साथ

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

Related Posts