हेमराज मीणा की प्रतिमा निर्माण में राजनीति आ रही आड़े, पुलवामा हमले में हुए थे शहीद

शहीद की पत्नी का कहना है की मैंने चुनाव लड़ने से मना कर दिया था इसलिए मेरे पति की प्रतिमा को यहां पर नहीं बनाया जा रहा है. तो वहीं सांगोद विधायक भरत सिंह पर लगाए गए आरोपों को विधायक ने सिरे से खारिज कर दिया है.
martyrs of Pulwama attack, हेमराज मीणा की प्रतिमा निर्माण में राजनीति आ रही आड़े, पुलवामा हमले में हुए थे शहीद

करीब डेढ़ साल पहले पुलवामा में आंतकी हमले में शहीद हुए CRPF के जवानो में शामिल सांगोद के लाल हेमराज मीणा की शहादत के बाद अब उनकी प्रतिमा निर्माण में राजनीति आड़े आ रही है. जिससे परेशान होकर शहीद की विरांगना मधुबाला मीणा कोटा में मीडिया के सामने आईं और अपनी आपबिति मीडिया को बताई.

वीरागंना मधुबाला का कहना है की पति की शहादत के बाद उनके और परिवार की एक ही इच्छा थी की उनकी याद में शहीद स्मारक बनाया जाए. ताकि कोटा जिले के लोग उनकी शहादत को याद करें. उन्होंने बताया तत्कालीन सांसद और वर्तमान में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला द्वारा 20 लाख रूपए की राशि की अनुशंसा की गई थी. शहीद स्मारक बनाने के लिए काम भी शुरू हो गया था, लेकिन स्थानीय विधायक भरत सिंह ने वहां काम रुकवा दिया.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

शहीद की पत्नी का ये भी कहना है की मैंने चुनाव लड़ने से मना कर दिया था इसलिए मेरे पति की प्रतिमा स्मारक को यहां पर नहीं बनाया जा रहा है. तो वहीं सांगोद विधायक भरत सिंह पर लगाए गए आरोपों को विधायक ने सिरे से खारिज कर दिया है. विधायक भरत सिंह का कहना है की शहीद हेमराज की याद में हमने काॅलेज बनवाया है. स्मारक निर्माण में मेरी तरफ से कोई रुकावट नहीं है और न ही मैनें किसी काम को रुकवाया है. तो वहीं बातो-बातो में विधायक ने शहीद की शहादात को राजनिती से भी जोड़ दिया.

विधायक ने कहा की पुलवामा हमले के बाद हुए चुनाव में अगर शहीद की पत्नी चुनाव लड़तीं तो ये शहीद हेमराज का सम्मान और श्रद्धाजंली होती. इस बयान के बाद बीजेपी ने भी विधायक का विरोध करना शुरू कर दिया है. साथ ही अब पूर्व विधायक हीरा लाल ने नागर ने विरोध जताते हुए उप जिला मजिस्ट्रेट कार्यालय पर प्रदर्शन कर अधिकारी को ज्ञापन सौंपा है.

Related Posts