राजस्थान: CM गहलोत का सभी विधायकों को Letter, लिखा-सरकार अस्थिर करने के मंसूबे कामयाब न होने दें

अशोक गहलोत ने लिखा (Ashok Gehlot) आप चाहें किसी भी राजनीतिक पार्टी के विधायक हों, आप यह सुनिश्चित करने का फैसला करें कि किस प्रकार राजस्थान (Rajasthan) के हितों के लिए जनता द्वारा चुनी हुई बहुमत प्राप्त सरकार मज़बूती के साथ कार्य करती रहे.
Rajasthan CM Ashok Gehlot write letter to All MLAs for Support, राजस्थान: CM गहलोत का सभी विधायकों को Letter, लिखा-सरकार अस्थिर करने के मंसूबे कामयाब न होने दें

राजस्थान में सियासी संकट (Rajasthan Political Crisis) के बीच सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने राज्य के सभी विधायकों को पत्र लिखकर सरकार बचाने के लिए समर्थन की मांग की है. मुख्यमंत्री ने सभी 200 विधायकों को 3 पेज का पत्र लिखा है, जिसमें वर्तमान में सियासी हालात और कोरोना संकट के बारे में बात की गई है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने पत्र में लिखा कि मेरी आप सभी से अपील है कि लोकतंत्र को बचाने, हम में जनता का विश्वास बरकरार रखने एवं गलत परंपराओं से बचने के लिए आपको जनता की आवाज सुननी चाहिए. आप चाहें किसी भी राजनीतिक पार्टी के विधायक हों, आप अपने अन्य साथियों, परिवारजनों और अपने क्षेत्र के मतदाताओं की भावनाओं को समझकर यह सुनिश्चित करने का फैसला करें कि किस प्रकार राजस्थान के हितों के लिए जनता द्वारा चुनी हुई बहुमत प्राप्त सरकार मज़बूती के साथ कार्य करती रहे और सरकार को अस्थिर करने के मंसूबे कामयाब न हो सकें.

Rajasthan CM Ashok Gehlot write letter to All MLAs for Support, राजस्थान: CM गहलोत का सभी विधायकों को Letter, लिखा-सरकार अस्थिर करने के मंसूबे कामयाब न होने दें

मुझे विश्वास है कि प्रदेशवासियों के व्यापक हित में आप सच्चाई के साथ खड़े रहेंगे और राज्य के विकास और समृद्धि के लिए जनता से किए वादों को पूरा करने में अपना सहयोग करेंगे. पत्र में सीएम ने ये भी लिखा की मुझे यह बताते हुए प्रसन्नता हो रही है कि दिसंबर 2018 में कांग्रेस सरकार (Congress Government) के चुने जाने के साथ ही पिछले डेढ़ साल में राज्य सरकार (State Government) ने प्रदेश के विकास एवं अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने का हर संभव प्रयास किया है.

सरकार ने संवेदनशील, पारदर्शी एवं जवाबदेह प्रशासन देते हुए शिक्षा, उच्च शिक्षा, चिकित्सा, बिजली, पानी, सड़क और आधारभूत सुविधाओं के विकास के साथ-साथ पंचायत समिति व उपखंड स्तर पर उल्लेखनीय फैसले किए, जिसकी सर्वत्र प्रशंसा हुई.

गहलोत (Gehlot) ने पत्र में कोरोना महामारी (Corona Pandemic) को लेकर भी सरकार के प्रयासों का जिक्र पत्र में किया. साथ ही उन्होंने राजस्थान में कोरोना की स्थिति पर भी चिंता ज़ाहिर की. गहलोत ने पत्र में ये भी लिखा कि चुनाव में हार-जीत होती रहती है, जनता का फैसला हमेशा सबसे ऊपर होता है. चुनी हुई सरकार को गिराना लोकतांत्रिक मूल्यों के विरुद्ध है और मैं इसे महापाप की श्रेणी में मानता हूं.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

Related Posts