राजस्थान में कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में गहलोत-पायलट को ठहराया जिम्मेदार

सुसाइड नोट में किसान ने राजस्थान सरकार द्वारा कर्ज माफी का वादा पूरा न करने को अपनी मौत की वजह का कारण बताया है.

जयपुर. राजस्थान में आए दिन कर्ज से परेशान होकर किसान आत्महत्याएं कर रहे हैं. तो वहीं सरकार की किसानों के कर्ज माफी की घोषणाएं केवल मात्र घोषणाएं ही बनकर रह गई हैं. ऐसा ही एक मामला रविवार को श्रीगंगानगर जिले के रायसिंहनगर इलाके के गांव ठाकरी के एक किसान सोहन लाल कड़ेला के जहर खाकर आत्महत्या कर लेने का मामला सामने आया है. सोहनलाल ने आत्महत्या करने से पहले एक सुसाइड नोट लिखा, साथ ही उसने अपने मोबाइल से एक वीडियो भी बनाया. सुसाइड नोट में उसने राजस्थान सरकार द्वारा कर्ज माफी का वादा पूरा न करने को अपनी मौत की वजह का कारण बताया है.

किसान ने सुसाइड नोट में राजस्थान सरकार के मुख्यमंत्री व उपमुख्यमंत्री पर किसानों से धोखे का आरोप लगाया है. हालांकि पुलिस ने इस सुसाइड नोट की पुष्टि नही की है. हम आपको यहां बता दें कि सोहनलाल ने अपने ही घर में जहरीला पदार्थ खा लिया था. जिससे गंभीर अवस्था में इलाज के लिए सरकारी अस्पताल में लाया गया. हालत गंभीर होने पर उसे श्रीगंगानगर रेफर कर दिया. लेकिन रास्ते में पदमपुर के पास सोहनलाल ने दम तोड़ दिया. पुलिस ने मृतक के शव को सरकारी अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया गया है.

ये भी पढ़ें: झारखंड: पहले लगवाए ‘जय श्री राम के नारे,’ फिर पीट-पीट कर भीड़ ने कर दी तबरेज की हत्या

आत्महत्या से पहले फेसबुक पर डाली पोस्ट

इससे पूर्व सोहनलाल द्वारा सोशल मीडिया पर स्टेटस डाला गया जिसमें लिखा कि सारी उम्र कोई जीने की वजह नहीं पूछता लेकिन मौत के बाद सब पूछते हैं कैसे मरे. उधर ग्रामीणों द्वारा सोहनलाल द्वारा लिखा गया सुसाइड नोट पुलिस को सौंप दिए जाने की चर्चा भी है. जबकि पुलिस इनकार कर रही है. फेसबुक पर डाला गया पोस्ट-

किसान की फेसबुक पर आत्महत्या से पहले अंतिम पोस्ट.

सुसाइड नोट में ये लिखा

मैं आज अपनी जीवन लीला समाप्त करने जा रहा हूं. इसमें किसी का कोई दोष नहीं है. इस मौत के जिम्मेदार गहलोत व सचिन पायलट हैं. उन्होंने बकायदा बयान दिया था कि 10 दिन में आप का कर्ज माफ कर देंगे. हमारी सरकार आई तो अब इनके वादे का क्या हुआ. सभी किसान भाइयों से विनती है कि मेरी लाश तब तक मत उठाना जब तक सभी किसानों का कर्ज माफ ना हो. आज सरकार को झुकाने का वक्त आ गया है. अब इनका मतलब निकल गया है. सभी भाइयों से विनम्र निवेदन है कि सब किसान भाइयों के लिए मरने जा रहा हूं. सबका भला होना चाहिए किसान की एकता को आज दिखाना है. मेरी मौत का मुकदमा अशोक गहलोत पर कर देना. मेरे गांव ठाकरी के वासियों से भी विनती करता हूं कि गांव में एकता बनाए रखना. मेरा घर मेरा परिवार आप लोगों के भरोसे छोड़ कर जा रहा हूं. मेरे परिवार का ख्याल रखना एक बात और अब की बार सरपंची गांव में रखना. यह विनती है मेरी आपका सोहन लाल कड़ेला.

सोहन लाल कड़ेला का लिखा गया सुसाइड नोट.
सोहन कड़ेला की तस्वीर.

हालांकि थाना प्रभारी किशन सिंह ने सुसाइड नोट मिलने की बात से ही इनकार करते हुए कहा कि हमें कोई सुसाइड नोट नही मिला है जिसमे मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री का नाम हो, लोग अफवाह फैला रहे है.

ये भी पढ़ें: बाड़मेर: दर्दनाक हादसे में 14 लोगों की मौत, PM मोदी ने जताया दुख

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *