राजस्‍थान विधानसभा में RSS के जिक्र पर हंगामा, मंत्री के बयान पर भड़की भाजपा

राजस्थान विधानसभा का दो दिवसीय विशेष सत्र संविधान पर चर्चा के लिए बुलाया गया था. जहां पर सदन में कई बार कांग्रेस और बीजेपी के सदस्य एक दूसरे से भिड़ते नजर आए.

राजस्थान विधानसभा के दो दिनी विशेष सत्र में गुरुवार को उस वक्त हंगामा मच गया जब विधायी कार्य मंत्री शांति धारीवाल ने आरएसएस के विचारक एमएस गोलवलकर को लेकर टिप्पणी कर दी.

संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल ने चर्चा के दौरान यह कहकर हंगामा मचा दिया कि संघ के गुरु गोलवलकर की शाखाओं में राष्ट्रीय ध्वज नहीं फहराया जाता था. उन्होंने कहा कि गोलवलकर ने अपने पुस्तक ‘बंच ऑफ थॉट्स में मुस्लिमों, ईसाइयों व वामपंथियों के रूप में तीन खतरे बताए हैं.

उन्होंने एक बार फिर से कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने 30 जनवरी को देशवासियों से घरों-प्रतिष्ठानों पर तिरंगा फहराने के बात कही लेकिन गोलवलकर की संस्थाओं में भगवा ही फहराया गया.

धारीवाल के हमले पर बीजेपी ने किया हंगामा

शांति धारीवाल के हमले पर भाजपा विधानसभ के अंदर हंगामा कर दिया. विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष और दिग्गज बीजेपी नेता गुलाबचंद कटारिया ने हंगामे के बीच में कहा कि सत्र संविधान पर सार्थक चर्चा के लिए बुलाया गया है. हमने भी पढ़ा है. पहले क्या हुआ इसके बजाय संविधान पर सार्थक बहस की जाए तो अच्छा होगा.

1 साल में करीब 100 बार आरएसएस पर टिप्पणी

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज से ठीक 346 दिन पहले राजस्थान प्रदेश में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी. जनता की सेवा की बात कहीं थी. लेकिन मुख्यमंत्री के अधिकतर भाषाणों में और मीडिया के सामने हर बार मुद्दा कोई भी आरएसएस पर निशाना साधने से नहीं बचते हैं.

हाल ही में 14 नबंवर को नेहरू जयंती के कार्यक्रम में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने करीब 30 मिनट का भाषण दिया. गौर करने वाली बात ये थी कि 30 मिनट के भाषण में 25 बार अशोक गहलोत ने आरएसएस और मोदी पर निशाना साधा.

अशोक गहलोत ने नेहरू जंयती के कार्यक्रम में ये तक कहा था कि देश की आजादी में बीजेपी और आरएसएस का कोई योगदान नहीं रहा था. उन्होंने आरोप लगाते हुए ये तक कहा था कि ये लोग अंग्रेजों के मुखबिरी का काम करते रहे हैं. पलटवार करते हुए बीजेपी विधायक अशोक लाहौटी ने कहा था कि स्वतंत्रता संग्राम में हमारे नेता केशव बलिराम हेडगेवार स्वतंत्रता सेनानी थे.

ये भी पढ़ें-

बाढ़ और सूखे से राहत दिलाने को केंद्र का प्‍लान, पूरे देश की नदियां होंगी लिंक

कुर्सी गंवाई अब कस सकता है कानूनी शिकंजा, देवेंद्र फडणवीस के घर पर कोर्ट का समन तामील