Rajasthan Political Crisis: गजेंद्र सिंह शेखावत का बड़ा बयान, पायलट के बीजेपी में आने के दिए संकेत

राजस्थान कांग्रेस में चल रही सियासी हलचल के बीच शेखावत ने कहा है कि कोई भी बड़े जनाधार वाला नेता किसी भी राजनीतिक दल में शामिल होना चाहे तो उसका स्वागत किया जाता है.
Rajasthan Political Crisis, Rajasthan Political Crisis: गजेंद्र सिंह शेखावत का बड़ा बयान, पायलट के बीजेपी में आने के दिए संकेत

केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता गजेंद्र सिंह शेखावत ने राजस्थान के सियासी घटनाक्रम पर बड़ा बयान दिया है. उनके बयानों से ये संकेत मिल रहा है कि सचिन पायलट बीजेपी में शामिल हो सकते हैं. दरअसल राजस्थान कांग्रेस में चल रही सियासी हलचल के बीच शेखावत ने कहा है कि कोई भी बड़े जनाधार वाला नेता किसी भी राजनीतिक दल में शामिल होना चाहे तो उसका स्वागत किया जाता है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

बीजेपी नेता ने राजस्थान के सियासी घटनाक्रम के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को जिम्मेदार ठहराया है. उन्होंने कहा कि पिछले 6 महीनों से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत इस योजना में अपनी रणनीति को अमलीजामा पहनाने में लगे हुए थे. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को इस बात के लिए बधाई दी जा सकती है कि वह इस योजना में सफल हुए. शेखावत ने आगे कहा कि पिछले लंबे समय से जो यह फिल्म चल रही थी उसके निर्माता-निर्देशक, नायक, लेखक एक ही व्यक्ति थे और वह थे अशोक गहलोत.

शेखावत ने कहा इस बारे में मैं पहले भी दो बार बोल चुका हूं कि सूबे के मुखिया किस योजना में लगे हुए हैं. आज कल बॉलीवुड में ट्रेंड चल रहा है कि कोई फिल्म असफल होती दिखे तो उसे सफल बनाने के लिए उसके पीछे कई तरह के प्रोपेगेंडा क्रिएट किए जाते हैं. पिछले डेढ़ साल में कांग्रेस की सरकार हर क्षेत्र में जिस तरह से असफल हुई है, उसके बाद में उन्हें इस तरह का प्रोपेगेंडा चलाना ही था.

अशोक गहलोत ने की एक तीर से दो निशाने लगाने की कोशिश

बीजेपी नेता ने गहलोत पर हमलावर होते हुए कहा कि राजभवन से बाहर निकलने के बाद उनके चेहरे पर जो खुशी देखी जा रही थी कि वह अपनी योजना में सफल हुए, लेकिन उनकी इस सफलता की लोकतंत्र को बहुत बड़ी कीमत चुकानी पड़ी है. उन्होंने कहा कि बीजेपी के विधायकों को अपने क्षेत्र में जाने से रोका गया पुलिस ने उनके चारों तरफ घेरा डाल लिया जो विधायक जयपुर के होटल में बाड़े बंदी में बैठे हैं उन्हें किस तरह से डराया जा रहा है.

शेखावत ने कहा कि अब यह सरकार अल्पमत की सरकार है और अब अल्पमत की सरकार अपनी कुर्सी बचाने के लिए मंत्री पद से लेकर संसदीय सचिव की कितनी रेवड़िया बांटेगी यह भविष्य का सवाल है, लेकिन इसकी कीमत किसी को चुकानी पड़ेगी तो वह है राजस्थान की जनता. इस योजना में मुख्यमंत्री गहलोत ने एक तीर से दो निशाने लगाने की कोशिश की थी अपने पहले निशाने में तो वह सफल होते हुए प्रतीत होते हैं, लेकिन आने वाले समय में वह सफलता कितनी सफल साबित होगी और कितनी स्थाई होगी या नहीं होगी यह तो भविष्य बताएगा.

इसी के साथ शेखावत ने चुनौती भरे शब्दों में कहा कि उनकी दूसरी योजना जो भारतीय जनता पार्टी और हमारे शीर्ष नेतृत्व पर हमला करने की है वह उचित नहीं. इस सबके लिए भारतीय जनता पार्टी पर दोषारोपण करना उचित नहीं. मियां बीवी के झगड़े में पंडित को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है यह बात में पिछले 2 महीने से कह रहा हूं.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts