जिस होटल में ED ने की छापेमारी, उसी होटल में भेजे गए गहलोत खेमे के विधायक

मुख्यमंत्री आवास के बाहर चार बसें खड़ी थीं, जिनमें सवार होकर विधायक होटल गए. यह रिसॉर्ट पॉलिटिक्स गहलोत खेमे के विधायकों को एकजुट रखने के कदम का हिस्सा है, क्योंकि उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने रविवार को घोषणा की थी कि गहलोत सरकार अल्पमत में है.
Rajasthan Political Crisis, जिस होटल में ED ने की छापेमारी, उसी होटल में भेजे गए गहलोत खेमे के विधायक

जयपुर में मुख्यमंत्री आवास पर सोमवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक खत्म होने के तुरंत बाद राजस्थान के कांग्रेस विधायकों को दिल्ली-जयपुर राजमार्ग पर स्थित फेयरमोंट होटल भेज दिया गया. इसके पहले पार्टी विरोधी तत्वों को दंडित करने की मांग वाला एक प्रस्ताव पारित किया गया. फेयरमोंट वही होटल है, जहां ED (प्रवर्तन निदेशालय) के दस्ते ने सोमवार सुबह छापा मारा था. विधायकों के होटल पहुंचने के बाद भी ED की टीम वहां मौजूद थी और छापेमारी कर रही थी.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

मुख्यमंत्री आवास के बाहर चार बसें खड़ी थीं, जिनमें सवार होकर विधायक होटल गए. यह रिसॉर्ट पॉलिटिक्स गहलोत खेमे के विधायकों को एकजुट रखने के कदम का हिस्सा है, क्योंकि उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने रविवार को घोषणा की थी कि गहलोत सरकार अल्पमत में है. हालांकि गहलोत ने पायलट के दावे को दरकिनार करते हुए बहुमत की संख्या का प्रदर्शन किया और उनके साथ खड़े 100 से अधिक विधायकों ने जीत का चिन्ह प्रदर्शित किया.

पार्टी ने सीएलपी की बैठक के बाद सोमवार को बीजेपी के खिलाफ एक प्रस्ताव पारित किया और कहा कि पार्टी लोकतंत्र की हत्या की कोशिशों की निंदा करती है. प्रस्ताव में कहा गया कि पार्टी विरोधी गतिविधियों के पीछे के लोगों को दंडित किया जाए, साथ ही पार्टी उस किसी भी अलोकतांत्रिक कदम की निंदा करती है, जो पार्टी की छवि धूमिल करता हो.

इसके पहले सभी विधायकों को बैठक में हिस्सा लेने के लिए एक व्हिप जारी किया गया था, हालांकि पायलट और उनके समर्थक 18 विधायक बैठक से गायब थे.

Related Posts