BSP विधायकों के कांग्रेस में विलय के खिलाफ याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में आज होगी सुनवाई

साल 2018 के विधानसभा चुनाव में BSP टिकट पर संदीप यादव, वाजिब अली, दीपचंद खेरिया, लखन मीणा, जोगेन्द्र अवाना और राजेन्द्र गुढ़ा ने जीत दर्ज की थी, लेकिन अगले साल यानी 2019 के सितंबर में ये सभी BSP विधायक कांग्रेस में शामिल हो गए थे.
merger of BSP MLAs in Congress, BSP विधायकों के कांग्रेस में विलय के खिलाफ याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में आज होगी सुनवाई

बहुजन समाज पार्टी (BSP) के 6 विधायकों के कांग्रेस में विलय को चुनौती देने वाली भारतीय जनता पार्टी (BJP) के विधायक मदन दिलावर की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट मंगलवार को सुनवाई करेगा. इससे पहले राजस्थान हाई कोर्ट ने राज्य विधानसभा में BSP के 6 विधायकों के कांग्रेस में विलय पर विधानसभा अध्यक्ष की मंजूरी पर रोक से इनकर कर दिया था.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

दिलावर की ओर से पेश वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने सुप्रीम कोर्ट से मामले की तत्काल सुनवाई के लिए आग्रह किया, क्योंकि राजस्थान में विधानसभा सत्र 14 अगस्त से शुरू होने वाला है. इसके बाद जस्टिस अरुण मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने मामले पर मंगलवार को सुनवाई करने को कहा.

साल्वे ने दावा किया कि BSP के छह विधायकों ने दावा किया है कि उनकी पार्टी का कांग्रेस में विलय हो गया था और विधानसभा अध्यक्ष ने सितंबर 2019 में विलय को स्वीकार करने का आदेश पारित किया था.

BSP का कांग्रेस में नहीं हुआ विलय

साल्वे ने दलील दी कि BSP ने खुद को एक मूल राजनीतिक पार्टी होने का दावा किया था और राजस्थान में कांग्रेस के साथ उसका विलय नहीं हुआ. उन्होंने जोर देकर कहा कि विलय के सवाल को एक अमूर्त तरीके से तय नहीं किया जा सकता है.

साल्वे ने कहा कि उनके मुवक्किल ने मार्च 2020 में अयोग्यता याचिका दायर की थी, जिसे स्पीकर ने जुलाई में तकनीकी आधार पर खारिज कर दिया था. उन्होंने कहा कि उनके मुवक्किल ने हाई कोर्ट का भी रुख किया है और इस मामले में नोटिस जारी किया गया है. याचिकाकर्ता ने दावा किया कि राजस्थान में 7 दिसंबर, 2018 को विधानसभा चुनाव हुए थे, जिसमें 6 विधायक BSP के टिकट पर चुने गए थे.

साल 2018 के विधानसभा चुनाव में BSP टिकट पर संदीप यादव, वाजिब अली, दीपचंद खेरिया, लखन मीणा, जोगेन्द्र अवाना और राजेन्द्र गुढ़ा ने जीत दर्ज की थी, लेकिन अगले साल यानी 2019 के सितंबर में ये सभी BSP विधायक कांग्रेस में शामिल हो गए थे.

Related Posts