, ‘भाजपा किसी को मारकर भी वोट ले सकती है’ अलवर से कांग्रेस उम्मीदवार का बयान
, ‘भाजपा किसी को मारकर भी वोट ले सकती है’ अलवर से कांग्रेस उम्मीदवार का बयान

‘भाजपा किसी को मारकर भी वोट ले सकती है’ अलवर से कांग्रेस उम्मीदवार का बयान

TV9 भारतवर्ष के साथ अलवर से कांग्रेस प्रत्याशी व केंद्रीय मंत्री जीतेंद्र सिंह का एक्सक्लूसिव इंटरव्यू.
, ‘भाजपा किसी को मारकर भी वोट ले सकती है’ अलवर से कांग्रेस उम्मीदवार का बयान

जयपुर. राजस्थान की सबसे ज्यादा चर्चित सीटों में से एक है राजस्थान की अलवर लोकसभा सीट क्योंकि इस सीट पर पूर्व केन्द्रीय मंत्री और राहुल गांधी के सबसे करीबी माने जाने वाले जीतेंद्र सिंह के सामने बीजेपी से बाबा बालकनाथ मैदान में हैं. दरअसल अलवर सीट केवल राजस्थान तक सीमित नहीं है क्योंकि अलवर के राजा भवर जीतेंद सिंह राहुल गांधी की टीम का हिस्सा होने के साथ ही ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के सचिव भी है. वहीं, दूसरी ओर मंहत बाबा बालकनाथ को योग गुरु बाबा रामदेव की सिफारिश से टिकट मिला है. वो यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के गुरू भाई हैं. बालकनाथ पूरे नाथ संप्रदाय के उपाध्यक्ष भी हैं. रोहतक में बाबा का मठ भी है. इसलिये इस सीट का असर देश की कई सीटों पर पड़ रहा है.

अलवर का सियासी समीकरण

आजादी के बाद अब तक अलवर लोकसभा सीट पर कांग्रेस का कब्जा रहा है. यहां पर आजादी के बाद कुल 16 आम चुनावों में 10 बार कांग्रेस, 3 बार बीजेपी, 1 बार जनता दल, 1 बार भारतीय लोकदल और 1 बार निदर्लीय का कब्जा रहा है. वहीं, साल 2014 के चुनाव में बीजेपी के महंत चांदनाथ यहां सांसद बने. 2014 में महंत चांदनाथ ने कांग्रेस उम्मीदवार जितेन्द्र सिंह को 2.83 लाख मतों के बड़े अंतर से हराया था.

चांद नाथ के निधन के बाद 2018 की शुरुआत में उपचुनाव हुए थे. कांग्रेस प्रत्याशी व पूर्व सांसद डॉ करन सिंह यादव ने बीजेपी के पूर्व सांसद जसवंत सिंह यादव को 1,96,496 मतों से पराजित किया. कांग्रेस के करन सिंह यादव को 6,42,416 और बीजेपी के जसवंत सिंह यादव को 4,45,920 वोट मिले थे. जातीय समीकरण की बात करें तो अलवर के अन्दर यादव- 17 फीसदी, एससी- 12.5 फीसदी, मेओ- 12 फीसदी, जाट 7.5 फीसदी, ब्राह्मण – 7 फीसदी, एसटी-7 फीसदी, राजपूत – 6.5 फीसदी, गुर्जर – 4 फीसदी, सैनी – 6 फीसदी, बिजनेसमैन – 7.5 फीसदी है.

वहीं पिछले 20 सालों के चुनावों पर नजर डालें तो यहां की लड़ाई यादव व गैर यादव के बीच रही है.  1996 से अभी तक बीजेपी ने 9 में से 7 बार यादव उम्मीदवार उतारा. लेकिन इनमें से वह दो बार चुनाव जीती है.

वहीं, जब अलवर लोकसभा के वोटर्स का रुख जानने हमारे संवादादाता जितेश जेठान्नदानी निकले इस दौरान कांग्रेस उम्मीदवार जितेंद्र सिंह किसी तरह प्रचार के दौरान खुद गाड़ी चलाते हुए जनता के बीच जा रहे है. गाड़ी चलाते हुए TV9 भारतवर्ष के संवादादता जितेश जेठान्नदानी से खास बातचीत में जितेन्द्र ने क्या कुछ खास कहा-

रिपोर्टर- आप खुद गाड़ी चला रहे है अगर आप आते हैं तो अलवर में विकास की गाड़ी कहा जाएगी?
जितेन्द्र सिंह- मुझे गाड़ी चलाने का शौक है. वैसे बड़ी-बड़ी कार कंपनियों में मैने काम किया है. अलवर के विकास की गाड़ी जो बहुत तेजी से चल रही थी. 100 की स्पीड़ से चल रही थी वो आज एक रिवर्स ग्रेयर में चल रही है. पांच साल में इनकी सरकार की जितनी बड़ी योजनाएं हों. आज हम किशनगढ़ क्षेत्र में हैं और इस क्षेत्र में अन्तर्राष्टीय कार्गो एयरपोर्ट आने वाला था और उसको बंद करके हजारों लोगों का रोजगार इस सरकार ने बंद कर दिया. अलवर की जनता अपने आप को ठगा हुआ महसूस कर रही है. ये चुनाव अलवर की जनता लड़ रही है जितेन्द्र सिंह अकेला नहीं लड़ रहा है.

रिपोर्टर- अलवर की गाड़ी में कई गड्ढे हैं जैसे मानो पानी की एक बड़ी समस्या है. मॉब लिचिंग भी एक समस्या है. पिछले दिनों देखा गया इस तरह की धटनाओं को. भाजपा नेता ज्ञानदेव आहूजा के विवादित बयान आते है. आप को क्या लगता है?
जितेन्द्र सिंह- चुनाव के आस-पास इस तरह की धटानाएं होती हैं यहां दो बड़े मेजर मॉब लिचिंग के मामले हुए हैं और बहुत सारी छोटे मोटी धटनाएं भी होती रहती हैं और भारतीय जनता पार्टी ये कोशिश करती है कि यहां का जो संवाद है, यहां का भाईचारा है उसको बिगाड़ने के लिये. क्योंकि यहां पर कुछ क्षेत्र मेवात का है तो यहां इस तरह के मामले करते रहते है, लेकिन अब कांग्रेस सरकार आते है वहां के लोगों में सुरक्षा की भावना आई है.

रिपोर्टर-अलवर से भाजपा के प्रत्याशी बाबा बालकनाथ अब मोदी की गाड़ी पर सवार होकर अपनी नैया पार लगाना चाहते हैं? क्या कहना है मोदी ही सब कुछ या विकास के मुद्दे पर भी चुनाव होना चाहिए?
जितेन्द्र- देखिए पिछली बार इनके गुरू मंहत चांदनाथ जी चुनाव लड़े थे. उन्होने भी उस समय कहा था आप मोदी जी को देखिए. अलवर की भोली-भाली जनता ने जुमले को सुनकर, उनके वादों को सुनकर, 2 करोड़ नौकरी की बात सुनकर वोट दे दिए थे चांदनाथ जी को और चांदनाथ जी यहां चार साल में चार धंटे के लिए भी नहीं आए . कोई चांदनाथ जी को कुछ कहता था तो वो सीधा जवाब देते थे मोदी जाने और तुम जानो. मैं कहा से आ गया बीच में. आज इस तरह की पुरानी फिल्म शुरू हो गई है. आज बाबा बालकनाथ जी पर कोई विश्वास नहीं कर रहा है क्योंकि वो बाहर के रहने वाले हैं. जब उनका खुद का वोट यहां का नहीं है तो वो अलवर से किस तरह से वोट की अपेक्षा करते हैं.

रिपोर्टर- आप पूर्व रक्षा राज्यमंत्री रहे हैं. सैना के नाम पर वोट मांगे जा रहे हैं. क्या लगता है राष्ट्रवाद और सेना के नाम पर वोट मांगने वाली भाजपा से विकास का मुद्दा कहीं दूर हो गया है?
जितेन्द्र सिंह- जी बिलकुल. आज पांच साल में ये सरकार फेल हो चुकी है. आज हर वर्ग चाहे वो मजदूर हो, किसान हो, चाहे छोटा व्यापारी हो. सभी लोग आज सरकार से दुखी हैं. आप देख रहे आज पूरे देश के अंदर सरकार के खिलाफ माहौल बन गया तो अब ये राष्ट्रवाद की बात. देश की रक्षा की बात अब उठने लगी है. मुझे इस बात की पीड़ा है क्योंकि मैं दोनों ही गृह और रक्षा विभाग का मंत्री रहा हूं. ये भारतीय सेना का इस्तमाल कर रहे हैं. सेना को राजनीति के अंदर लेकर आ रहे हैं. आज हमारे देश के अंदर एक तरह का माहौल बनाने की कोशिश की जा रही है क्योंकि उनकी सभी योजनाएं फेल हो चुकी हैं. जनता का माइड़ डायवर्ट करने के लिए ये सारी इनकी कहानी चल रही है. लेकिन आज जनता इनके जुमले समझ रही है और एक तरह से जनता ने इनको नकार भी दिया.

रिपोर्टर- साध्वी प्रज्ञा ने शहीद हेमन्त करकरे पर बयान दिया है, आप किस तरह से देखते हैं उसको? क्योंकि आप उस समय मंत्री रहे थे केंद्र में?
जितेन्द्र सिंह इनको वोट जिस तरह से मिल जाए चाहे किसी को मार के मिल जाए. चाहे किसी के उपर बम फेकर मिल जाए, किसी बम अपने आप गिराकर मिल जाए. वो सब हत्थखड़े अपनाते हैं. ये सारी यूटर्न की सरकार है. देखिए पहले क्या बोलते थे आज क्या बोलते हैं आज जनता ये पूछ रही है. पुलवामा में इतना बड़ा हादसा हो जाता है उसके उपर कोई सीबीआई की जांच नहीं, वहीं विपक्ष पर तो जल्द से सीबीआई, ईडी सभी तरह की जांच हो जाती है, लेकिन इतना बड़ा हादसा होने के बाद कोई जांच नहीं होती है.

, ‘भाजपा किसी को मारकर भी वोट ले सकती है’ अलवर से कांग्रेस उम्मीदवार का बयान
, ‘भाजपा किसी को मारकर भी वोट ले सकती है’ अलवर से कांग्रेस उम्मीदवार का बयान

Related Posts

, ‘भाजपा किसी को मारकर भी वोट ले सकती है’ अलवर से कांग्रेस उम्मीदवार का बयान
, ‘भाजपा किसी को मारकर भी वोट ले सकती है’ अलवर से कांग्रेस उम्मीदवार का बयान