2008 में ऑस्ट्रेलिया दौरा रद्द कर सकते थे लेकिन हमने जीतकर मिसाल पेश करने की कोशिश की: अनिल कुंबले

2008 सिडनी टेस्ट मैच में मंकीगेट एपिसोड (Monkeygate Episode) के साथ-साथ भारतीय टीम खराब अंपायरिंग का शिकार भी हुई थी. मंकीगेट एपिसोड में एंड्रयू सायमंड्स ने हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) पर नस्लीय टिप्पणी का आरोप लगाया था.
Anil Kumble and Australia tour in 2008, 2008 में ऑस्ट्रेलिया दौरा रद्द कर सकते थे लेकिन हमने जीतकर मिसाल पेश करने की कोशिश की: अनिल कुंबले

आधुनिक क्रिकेट के इतिहास में भारत का 2008 का ऑस्ट्रेलिया दौरा हमेशा याद रखा जाएगा. ये वही दौरा था जिसमें मंकीगेट एपिसोड (Monkeygate Episode) हुआ था, जिसे विश्व क्रिकेट के इतिहास के सबसे बड़े विवादों में से एक माना जाता है. उन दिनों अनिल कुंबले भारतीय टीम के कप्तान हुआ करते थे. करीब एक दशक से ज्यादा समय बीतने के बाद अनिल कुंबले (Anil Kumble) ने एक इंटरव्यू में भारतीय टीम का दौरा रद्द न करने की वजह बताई है.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

कुंबले ने आर अश्विन के साथ बातचीत में कहा- “आप जानते हैं कि एक कप्तान के तौर पर आपको मैदान में फैसले लेने होते हैं. लेकिन यहां स्थिति अलग थी, यहां मुझे मैदान के बाहर खेल के हित में फैसला लेना था. हमें एक टीम के तौर पर साथ रहना था. लेकिन चुनौती यह थी कि उस वक्त ये चर्चा गर्म थी कि भारतीय टीम दौरे को बीच में ही छोड़कर वापस आना चाहती है. लोग उस वक्त ये बात मान भी लेते कि भारतीय टीम के साथ गलत हुआ इसलिए टीम वापस आ गई. लेकिन भारतीय टीम ने तय किया कि वो सीरीज के बाकी बचे मैच जीतकर एक बड़ा उदाहरण सेट करेगी. लिहाजा दौरा जारी रहा.”

सिडनी टेस्ट में टीम इंडिया हुई थी खराब अंपायरिंग का शिकार

2008 सिडनी टेस्ट मैच में मंकीगेट एपिसोड के साथ-साथ भारतीय टीम खराब अंपायरिंग का शिकार भी हुई थी. मंकीगेट एपिसोड में एंड्रयू सायमंड्स (Andrew Symonds) ने हरभजन सिंह पर नस्लीय टिप्पणी का आरोप लगाया था. ICC ने भज्जी पर तीन मैच का बैन लगा दिया था. बाद में मामला जस्टिस जॉन हेनसन की अदालत में पहुंचा जहां भज्जी पर मैच फीस का जुर्माना लगाकर उन्हें छोड़ दिया गया.

इसके अलावा सिडनी टेस्ट में भारतीय टीम को 122 रनों से हार का सामना करना पड़ा था. इस मैच में माइकल क्लार्क ने एक ही ओवर में तीन विकेट लेकर भारत को 210 रनों पर ही समेट दिया था. उन्होंने एक ही ओवर में हरभजन सिंह, आरपी सिंह और ईशांत शर्मा को आउट किया था. आपको बता दें कि हाल ही में उस मैच में अंपायरिंग कर रहे स्टीव बकनर ने भी माना था कि उस टेस्ट मैच में उनसे गलतियां हुई थीं.

भारत ने जीता था अगला टेस्ट मैच

उस दौरे में अगला टेस्ट मैच पर्थ में था. पर्थ में अपेक्षाकृत तेज पिच के इतिहास को जानते हुए हर कोई उम्मीद कर रहा था कि ऑस्ट्रेलिया जीत की हैट्रिक लगाएगा. लेकिन भारतीय टीम ने उलटफेर करते हुए ऑस्ट्रेलिया को पर्थ टेस्ट मैच में मात दी थी. भारत ने वो टेस्ट मैच 72 रनों से जीता था. इसके बाद अगला टेस्ट मैच ड्रॉ हो गया था. भारतीय टीम 2-1 से सीरीज हार गई थी लेकिन हर किसी ने भारतीय टीम के प्रदर्शन की तारीफ की थी. दिलचस्प बात यह भी है कि टेस्ट सीरीज के तुरंत बाद खेली गई CB सीरीज में भारत ने ऑस्ट्रेलिया को मात दी थी. हालांकि उस सीरीज में कप्तानी MS धोनी (MS Dhoni) कर रहे थे.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

Related Posts