बेन स्‍टोक्‍स ने Ashes 2019 में फूंकी जान, 131 साल बाद हुआ ऐसा अजूबा

कुल 219 गेंदें खेलकर बेन स्‍टोक्‍स ने 135 रन बनाए. पुछल्‍ले बल्‍लेबाजों संग खेलते हुए स्‍टोक्‍स ने आखिरी 85 रन सिर्फ 67 गेंदों में बना डाले.

टेस्‍ट क्रिकेट की सबसे खूबसूरत, बेलौस, दिलचस्‍प पारियों में से एक. एशेज इतिहास का सबसे बेहतरीन प्रदर्शन. स्‍टुअर्ट ब्रॉड ने ठीक ही लिखा, ‘बेन स्‍टोक्‍स को भी ये अंदाजा नहीं होगा कि उन्‍होंने क्‍या कर दिया है!’

ऑस्‍ट्रेलिया के हर तीर का स्‍टोक्‍स के पास जवाब मौजूद था. बेन स्‍टोक्‍स ने एशेज 2019 में जान फूंक दी है. दो मैच बाकी हैं और सीरीज 1-1 से बराबर है.

एशेज 2019 के तीसरे टेस्‍ट में इंग्‍लैंड की पूरी टीम पहली पारी में 67 पर आउट हो गई थी. दूसरी पारी में लक्ष्‍य 359 रन था और बेन स्‍टोक्‍स ने फिर जो किया, वैसा कुछ 131 साल साल पहले हुआ था.

तब कोई टीम पहली पारी में 70 रन पर ऑलआउट होने के बावजूद टेस्‍ट जीतने में सफल ही थी. ये वो दौर था जब मोटर कार नहीं बनी थी और राइट बंधुओं ने पहला विमान नहीं उड़ाया था.

स्‍टोक्‍स की इस पारी की रफ्तार देखिए. बेन स्‍टोक्‍स ने शुरुआती 2 रन बनाने के लिए 61 गेंदें खेली थीं. 152 गेंदों पर जब उन्‍होंने 50 रन पूरे किए तो तालियों की गड़गड़ाहट पर कोई रिएक्‍शन नहीं दिया. काम अभी बाकी था.

ब्रॉड 0 पर आउट हुए. एक विकेट बचा था और फिर स्‍टोक्‍स ने जो खेल दिखाया, उसे क्रिकेट प्रेमी कभी नहीं भूल पाएंगे. स्‍टोक्‍स ने 199 गेंदों में शतक पूरा किया. यानी अगले 50 रन बनाने को स्‍टोक्‍स ने केवल 47 गेंदें खेली. कुल 219 गेंदें खेलकर बेन स्‍टोक्‍स ने 135 रन बनाए. पुछल्‍ले बल्‍लेबाजों संग खेलते हुए स्‍टोक्‍स ने आखिरी 85 रन सिर्फ 67 गेंदों में बना डाले.

आखिरी विकेट के लिए जैक लीच और स्‍टोक्‍स के बीच 76 रनों की साझेदारी हुई. इसमें लीच का योगदान 1 रन का रहा जो उन्‍होंने इंग्‍लैंड का स्‍कोर ऑस्‍ट्रेलिया के बराबर करते वक्‍त बनाया. लीच के इस रन को क्रिकेट इतिहास का ‘सबसे महत्‍वपूर्ण 1 रन’ कहा जाने लगा है.

टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में चौथी बार है जब इंग्लैंड एक विकेट से मैच जीतने में सफल रहा. इससे पहले उसने 1922-23 में केपटाउन में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ, 1907-08 में मेलबर्न में ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ और 1902 में ओवल में ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ एक विकेट से जीत दर्ज की थी.

ये भी पढ़ें

जसप्रीत बुमराह ने वो किया जो एशिया का कोई क्रिकेटर न कर सका, पढ़ें WI में टूटे कौन से रिकॉर्ड्स

गांगुली को छोड़ा पीछे, धोनी की बराबरी की, इस मायने में भारत के सबसे सफल टेस्ट कप्तान बने कोहली