धोनी के अंपायर को डराने की सच्चाई आई सामने, माही को बेवजह किया जा रहा बदनाम!

IPL 2020 में अंपायर पॉल राइफल (Paul Reiffel) के वाइड देने के फैसले को बदलने के बाद से एमएस धोनी (MS Dhoni) निशाने हैं.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 11:29 am, Wed, 14 October 20
सीएसके और हैदराबाद मैच में गेंद को वाइड न देने पर विवाद हो गया.

चेन्नई सुपर किंग्स और सनराइजर्स हैदराबाद के बीच मैच में विवाद हो गया. विवाद अंपायर से जुड़ा है. और इसमें एमएस धोनी निशाने पर हैं. वाकया हैदराबाद की पारी के 19वें ओवर में हुआ. शार्दुल ठाकुर बॉलिंग कर रहे थे. राशिद खान और शाहबाज नदीम क्रीज पर थे. हैदराबाद को जीत के लिए 11 गेंद में 25 रन चाहिए थे. शार्दुल ने राशिद के सामने वाइड यॉर्कर डाली. राशिद ने बल्ला चलाया लेकिन गेंद दूर रह गई. गेंद वाइड लग रही थी. ऐसे में अंपायर पॉल राइफल ने वाइड का इशारा करने को बांहें खोली. लेकिन इसी दौरान धोनी और शार्दुल ठाकुर थोड़े नाराज दिखे. उन्होंने अंपायर की ओर इस तरह का इशारा भी किया. ऐसे में वाइड देने जा रहे अंपायर पीछे हट गए. उन्होंने गेंद को वाइड नहीं दिया.

वाइड नहीं दी तो वॉर्नर हुए गुस्सा

वाइड न देने पर सनराइजर्स हैदराबाद के डगआउट में बैठे डेविड वॉर्नर नाराज दिखे. उन्होंने भी हाथों का इशारा करते हुए प्रतिक्रिया दी. आगे चलकर इस मसले पर मामला बढ़ गया. कमेंटेटर्स ने भी इस पर काफी बात की. सोशल मीडिया तो ख़ैर टूट ही पड़ा. धोनी को खूब कोसा गया. उन पर अंपायर पर दबाव डालने का आरोप लगा. कई लोगों ने अंपायर को भी घेरा. पूछा कि वे पीछे कैसे हट गए.

पर नियम क्या कहता है?

इन सबके बीच सवाल उठता है कि क्या राइफल का फैसला सही था? नियमों के अनुसार, राइफल गलत नहीं थे. अंपायर के रूप में फाइनल डिसीजन देने तक वे कभी भी फैसला बदल सकते हैं. आईपीएल के सेक्शन 2.12 में अंपायर के फैसला देने के बारे में लिखा है. यह कहता है,

एक अंपायर बिना देरी किए किसी भी फैसले को बदल सकते हैं. इसके अलावा अंपायर ने एक बार जो फैसला कर लिया वही अंतिम होगा.

इसके तहत राइफल के फैसले को देखने पर पता चलता है कि उन्होंने फैसला दिया नहीं था. वे वाइड देने की प्रक्रिया में थे. तो एक तरह से उन्होंने अपना फैसला बदला भी नहीं. अब बस सवाल यही उठता है कि क्या उन्होंने धोनी या किसी खिलाड़ी के दबाव में वाइड नहीं दी.

कौन हैं पॉल राइफल

पॉल राइफल काफी अनुभवी अंपायर हैं. वे आईसीसी के इलिट पैनल के अंपायर हैं. वे अब तक 48 टेस्ट, 70 वनडे और 16 इंटरनेशनल टी20 में अंपायरिंग कर चुके हैं. 2019 के क्रिकेट वर्ल्ड कप में भी राइफल अंपायर थे. अंपायर बनने से पहले वे क्रिकेटर थे. ऑस्ट्रेलिया के लिए उन्होंने 35 टेस्ट और 92 वनडे मुकाबले खेले. टेस्ट में राइफल ने 104 विकेट लिए और वनडे में 106 विकेट चटकाए हैं.

पहले भी अंपायरों से भिड़ चुके हैं धोनी

वैसे धोनी और अंपायरों  का पहले भी विवाद रहा है. आईपीएल 2019 में ही नोबॉल देकर फैसला बदलने पर धोनी मैदान में घुस गए थे. इस पर काफी बवाल हुआ था. बाद में धोनी पर जुर्माना लगा था. इसी तरह साल 2012 में माइक हसी को आउट देकर फिर नॉट आउट किए जाने पर धोनी अंपायर बिली बाउडेन से भिड़ गए थे.

(IPL 2020 की सबसे खास कवरेज मिलेगी TV9 भारतवर्ष पर. देखिए हर रोज: ‘रेगिस्तान में महासंग्राम)