सेक्सुअल हैरेसमेंट का आरोप वापस होने के बाद भी क्रिकेटर अतुल बेडाडे को राहत नहीं, छिनी कोच की कुर्सी

अतुल बेडाडे (Atul Bedade) पर लगे आरोपों में कहा गया था कि उन्होंने फिजिकलिटी यानी शारीरिक ताकत को लेकर व्यक्तिगत कॉमेंट किए थे. इसके अलावा उन्होंने कई ऐसी बातें भी कहीं थीं जिससे टीम के खिलाड़ियों को मनोबल गिरता है.
Cricketer Atul Bedade not relieved, सेक्सुअल हैरेसमेंट का आरोप वापस होने के बाद भी क्रिकेटर अतुल बेडाडे को राहत नहीं, छिनी कोच की कुर्सी

पूर्व क्रिकेटर अतुल बेडाडे को बड़ौदा की महिला सीनियर क्रिकेट टीम के हेड कोच की कुर्सी से हटा दिया गया है. यह फ़ैसला मंगलवार को लिया गया. अतुल बेडाडे पर मार्च में टीम की खिलाड़ियों ने ‘सेक्शुअल हैरेसमेंट’ का आरोप लगाया था. इसके बाद उन्हें एसोसिएशन ने सस्पेंड कर दिया था. साथ ही इस मामले की जांच शुरू कर दी गई थी. बाद में शिकायतकर्ताओं ने अपनी शिकायत वापस ले ली. बड़ौदा क्रिकेट एसोसिएशन ने अतुल बेडाडे का ‘सस्पेंशन’ भी वापस ले लिया. बावजूद इसके अपेक्स काउंसिल ने उन्हें हटाने का फ़ैसला किया.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

इस संबंध में आधिकारिक बयान में कहा गया कि इस मामले की गंभीरता को देखते हुए यह फ़ैसला किया गया है. जो बड़ौदा क्रिकेट एसोसिएशन के भी हित में है. बेडाडे पर लगे आरोपों में कहा गया था कि उन्होंने फिजिकलिटी यानी शारीरिक ताकत को लेकर व्यक्तिगत कॉमेंट किए थे. इसके अलावा उन्होंने कई ऐसी बातें भी कहीं थीं जिससे टीम के खिलाड़ियों को मनोबल गिरता है. बोर्ड का कहना था कि महिला टीम के कोच का इस तरह गुस्सा दिखाना और असंसदीय भाषा का इस्तेमाल करना स्वीकार नहीं किया जा सकता. अतुल बेडाडे पर ये सारे आरोप प्रैक्टिस सेशन के दौरान महिला खिलाड़ियों से उनके बर्ताव को लेकर लगाए गए मालूम होते थे.

सचिन तेंदुलकर के करीबी दोस्त हैं अतुल बेडाडे

अतुल बेडाडे का अपना क्रिकेट करियर तो छोटा ही रहा. लेकिन उनकी बड़ी पहचान ये थी कि वो सचिन के करीबी दोस्तों में थे. दोनों में बचपन की दोस्ती है. सचिन जब भी मैच खेलने बड़ौदा जाते थे वो बेडाडे के घर ज़रूर जाते थे. बेडाडे को करीब साल भर पहले बड़ौदा क्रिकेट एसोसिएशन ने अपनी महिला टीम की कोचिंग का जिम्मा सौंपा था. इस मामले के बाद अतुल बेडाडे ने अपना पक्ष रखते हुए कहा था कि ये सभी आरोप चौंकाने वाले हैं. उनका कहना था कि सभी आरोप झूठे और निराधार हैं. उन्होंने कहा था कि वो इस पूरे मामले में बहुत जल्दी ही अपना पक्ष रखेंगे. बाद में शिकायत करने वाली खिलाड़ियों ने अपनी शिकायत वापस भी ले ली थी. बावजूद इसके उनकी कुर्सी चली गई.

बतौर भारतीय क्रिकेटर छोटा ही था अतुल बेडाडे का करियर

अतुल बेडाडे का अंतरराष्ट्रीय करियर भी आपको बता देते हैं. अतुल बेडाडे बाएं हाथ के बल्लेबाज हैं. जिन्हें 1994 में भारतीय टीम से खेलने का मौका मिला था. फर्स्ट क्लास क्रिकेट में तीन हजार से ज्यादा रन बनाने वाले अतुल बेडाडे की पहचान एक आक्रामक बल्लेबाज की रही है. उन्हें छक्के मारने के लिए खूब याद किया जाता है.

1994 में उन्होंने यूएई के खिलाफ शारजाह में वनडे डेब्यू किया था. उस समय अजहरूद्दीन टीम के कप्तान हुआ करते थे. अपने पहले मैच में अतुल बेडाडे ने सिर्फ 7 रन बनाए थे. इसके बाद पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया, श्रीलंका और वेस्टइंडीज जैसी टीमों के खिलाफ भी मैच खेले. लेकिन वेस्टइंडीज के खिलाफ एक मैच में अर्धशतक को छोड़कर उन्होंने किसी मैच में कोई बड़ी पारी नहीं खेली. लिहाजा सिर्फ 8 महीने के करियर में 13 मैच खेलने के बाद उनकी छुट्टी हो गई. इन 13 मैचों में उन्होंने 22.57 की औसत से कुल 158 रन बनाए थे.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts