2020 आईपीएल पर बोले सुरेश रैना- यूएई का मौसम बढ़ाएगा खिलाड़ियों की मुश्किलें

एक इंटरव्यू में सुरेश रैना (Suresh Raina) ने कहा कि-“यूएई का मौसम चुनौती भरा होगा. हम लोगों को ये देखना होगा कि गर्मी में विकेट कैसे खेलता है."

इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) के सबसे कामयाब बल्लेबाजों में शुमार सुरेश रैना (Suresh Raina) ने आईपीएल के इस सीजन (IPL 2020) को लेकर बड़ा बयान दिया है. चेन्नई सुपरकिंग्स टीम के भरोसेमंद बल्लेबाजों में शुमार सुरेश रैना को इस टूर्नामेंट के अनुभवी खिलाड़ियों में गिना जाता है. हाल फिलहाल में सुरेश रैना ने अपनी प्रैक्टिस के कई वीडियो भी सोशल मीडिया में पोस्ट किए हैं.

एक इंटरव्यू में सुरेश रैना ने कहा कि-“यूएई का मौसम चुनौती भरा होगा. हम लोगों को ये देखना होगा कि गर्मी में विकेट कैसे खेलता है. अच्छी बात ये है कि यूएई में ‘लॉजिस्टिकल प्रॉब्लम’ नहीं होगी क्योंकि दुबई से अबू धाबी या दुबई से शारजाह जाने में 40-45 मिनट का समय ही लगता है. ऐसे में खिलाड़ियों के पास आराम का और प्लान करके का ज्यादा समय होगा”. सुरेश रैना ने ये भी माना कि यूएई की पिचें चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए फायदेमंद रहेंगी क्योंकि चेन्नई में ऐसी ही पिचों पर खेलने की उन्हें आदत है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

कैसी रहेगी चेन्नई सुपरकिंग्स की दावेदारी

इस सवाल के जवाब में सुरेश रैना ने कहा कि- “पिछले तमाम साल में चेन्नई सुपरकिंग्स एक ही बात सोचकर आगे बढ़ी है- मेहनत करो और इनाम पाओ. 2018 में जब हमारी वापसी हुई थी हर कोई चेन्नई की टीम के बारे में बात कर रहा था. उसे ‘डैड आर्मी’ कह रहा था. हमने उस चुनौती को स्वीकार किया और उस साल हम चैंपियन बने. अब तो लगभग हर टीम के खिलाड़ी बाल बच्चे वाले हैं तो अब सारी टीमें ‘डैड आर्मी’ बन गई हैं. हमारी टीम मैनेजमेंट और खुद धोनी इस बात का पूरा ध्यान रखते हैं कि खिलाड़ी का परिवार आराम से रहे. वो हमें ‘पॉजिटिव’ बनाए रखते हैं. एक टीम के तौर पर यही हमारी सबसे बड़ी ताकत है. उम्मीद करते हैं कि इस साल भी हम अपनी कामयाबी को दोहरा पाएंगे”.

धोनी के भविष्य पर क्या बोले सुरेश रैना

सुरेश रैना धोनी के करीबी दोस्तों में से हैं. धोनी की कप्तानी में सुरेश रैना ने काफी क्रिकेट खेली है. चेन्नई की टीम में दोनों शुरू से हैं. धोनी के भविष्य को लेकर रैना ने कहा- “यूं तो उम्र का फर्क पड़ता है लेकिन धोनी के मामले में कहानी दूसरी है. वो एक नैचुरल एथलीट हैं. उनकी ताकत अलग ही है. 140-150 किलोमीटर की रफ्तार से आ रही गेंद पर अगर आप फिट नहीं है तो उस तरह छक्का नहीं मार सकते. खेल को लेकर उनकी सोच ‘टफ’ है. वो हमेशा हमारी ड्राइविंग फोर्स रहेंगे”.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts