कभी ‘माली’ थे दलजीत सिंह, आज देश के नंबर एक पिच क्‍यूरेटर- ईडन गार्डंस को बनाया पेसर्स का स्‍वर्ग

दलजीत सिंह चाहते थे कि पिच क्‍यूरेटर्स को भी वही सम्मान मिले जो मैच अधिकारियों को मिलता है. वह खुद फर्स्‍ट क्‍लास क्रिकेटर रहे हैं.

भारत अपना पहला डे-नाइट टेस्‍ट कोलकाता में खेल सकता है. बांग्‍लादेश के खिलाफ सीरीज का दूसरा टेस्‍ट यहां होगा. ईडन गार्डंस के ऐतिहासिक मैदान पर यह टेस्‍ट गुलाबी गेंद से खेला जाएगा. इसकी पिच तेज गेंदबाजों के लिए मुफीद रहेगी. BCCI के पैनल ऑफ क्‍यूरेटर्स के प्रमुख रहे दलजीत सिंह के मुताबिक, “डे-नाइट पिंक बॉल मैचों की खातिर पिच में ज्‍यादा घास छोड़ी जाती है.” ऐसा इसलिए क्‍योंकि गुलाबी गेंद गंदी जल्‍दी होती है.

दलीप ट्रॉफी में भी सिंह ने यही किया था. इसकी वजह से मैच के पहले तीन गेंद तेज गेंदबाजों को मदद मिली. सिंह ने पिच तैयार करने के तरीके को भी बदला है. अब परंपरागत तरीकों की जगह साइंटिफिकली पिच तैयार की जा रही है. पिछली बार जून 2016 में जब यहां पर गुलाबी गेंद से मैच हुआ तो पेसर्स ने कहर बरपाया था. मोहम्‍मद शमी ने CAB सुपर लीग के फाइनल की पहली पारी में पांच विकेट झटके थे.

कौन हैं दलजीत सिंह?

दलजीत ने देश के कई क्रिकेट स्‍टेडियम्‍स की पिच तैयार की है. उनका आखिरी मैच भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच सितंबर 2019 में हुआ मैच था. भारत के कप्‍तान विराट कोहली ने उन्‍हें सम्‍मानित भी किया था.

दलजीत को BCCI पिच कमेटी में 2012 में शामिल किया गया था. दलजीत ने घरेलू टीम को मदद करने वाली पिचों की जगह खेल के बेहतरी के लिए पिचों के निर्माण की सोच जगाई. 2012 में जब वह चेयरमैन बने थे तब उन्होंने सर्टिफिकेशन कोर्स शुरू किया था.

दलजीत सिंह ने क्‍यूरेटर्स के लिए 21 दिन की वर्कशॉप आयोजित कराई थी जहां थ्योरी और प्रैक्टिल जानकारी दी गई थी. तब पहली बार क्‍यूरेटर्स के पास क्यूरेटर मैन्युअल आया था. वह चाहते थे कि क्‍यूरेटर्स को भी वही सम्मान मिले जो मैच अधिकारियों को मिलता है.

दलजीत ने पिच क्‍यूरेटर्स को भारत में वह सम्‍मान दिलाया भी. उनके आने से पहले तक, पिच क्‍यूरेटर्स को ‘माली’ की तरह ट्रीट किया जाता था. उन्‍होंने भारतीय क्रिकेट को 22 साल अपनी सेवाएं दीं. वह खुद फर्स्‍ट क्‍लास क्रिकेटर रहे हैं. ये दलजीत का ही योगदान है कि देश में BCCI से सर्टिफाइड करीब 100 क्‍यूरेटर्स काम कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें

‘कहीं भी कमाल दिखा सकते हैं टीम इंडिया के गेंदबाज’

सौरव गांगुली के BCCI अध्यक्ष बनने पर कोच रवि शास्त्री ने दिया बड़ा बयान