दिनेश कार्तिक का अनुभव और 2007 का ये रिकॉर्ड ऋषभ पंत पर पड़ा भारी

जब युवा और आक्रामक ऋषभ पंत की जगह दिनेश कार्तिक को वर्ल्ड कप टीम में शामिल किया गया तो कुछ हैरानी हुई.. लेकिन इंग्लैंड में डीके का रिकॉर्ड देखने से माजरा समझ में आता है.

एमएसके प्रसाद की अगुआई में टीम सेलेक्टर्स ने वर्ल्ड कप के लिए टीम इंडिया का एलान कर दिया. सबसे ज्यादा चर्चा दिनेश कार्तिक और विजय शंकर को 15 मेंबर टीम में शामिल करने पर है. धुआंधार खब्बू बल्लेबाजी से कप्तान विराट कोहली के चहेते बने ऋषभ पंत का टीम में रहना तय माना जा रहा था लेकिन बाजी पलट गई. 33 साल के दिनेश कार्तिक दूसरे विकेटकीपर के लिए  21 साल के पंत पर भारी पड़ गए.

दिनेश कार्तिक के पक्ष में उनका अनुभव और विकेटकीपिंग टेकनीक ने अहम भूमिका निभाई.  दिनेश कार्तिक ने 2004 में इंग्लैंड के लॉर्ड्स मैदान पर इंटरनेशनल वनडे क्रिकेट की शुरुआत की. तब कार्तिक सिर्फ विकेटकीपर की भूमिका में थे जो थोड़ी बुहत बैटिंग कर सकते थे.

लेकिन कुछ ही महीने बाद महेंद्र सिंह धोनी ने दिसंबर, 2004 में टीम में जगह बनाई और जल्दी ही अपनी अनॉर्थोडॉक्स बैटिंग से क्रिकेट जगत पर छा गए. उनकी छाया में दिनेश कार्तिक का करियर डंवाडोल रहा. कभी सौरभ गांगुली के चहते रहे दिनेश कार्तिक कई बार टीम से अंदर-बाहर होते रहे.

इंग्लैंड में डीके का जलवा

लेकिन घरेलू और काउंटी क्रिकेट में दिनेश कार्तिक ने शानदार प्रदर्शन जारी रखा. बतौर बैट्समैन उन्होंने टेकनीक पर काम किया और किरण मोरे के साथ कीपिंग पर भी ध्यान देते रहे. 2006 में माही ने ब्रेक लिया तो टीम इंडिया में कार्तिक की वापसी हुई. पर विरेंद्र सहवाग की फॉर्म  में वापसी के बाद फिर वे नेपथ्य में चले गए.

इसके बाद रिद्धिमान साहा और पार्थिव पटेल भी टीम में आते जाते रहे जिससे दिनेश कार्तिक के लिए अंतिम 11 में स्थायी जगह बनाना मुश्किल हो गया.

लेकिन विदेशी पिचों पर दिनेश कार्तिक ने जब भी मौका मिला शानदार बैटिंग का मुजाहिरा पेश किया. इसकी बानगी 2007 में इंग्लैंड के साथ टेस्ट सिरीज में दिखी. सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़ और गांगुली जैसे दिग्गजों को पीछे छोड़ दिनेश कार्तिक ने सबसे ज्यादा रन बनाए. कार्तिक ने 43 की औसत से 263 रन बनाए जिसेक बूते भारत पहली बार इंग्लैंड में टेस्ट सिरीज जीत सका.

इंग्लैंड के पिचों की स्विंग से डीके बखूबी वाकिफ हैं. जब सेलेक्टर्स ने पंत और डीके पर चर्चा की होगी तो 2007 का रिकॉर्ड जरूर सामने आया होगा. कार्तिक के उलट ऋषभ पंत ने पिछले साल अक्टूबर में ही इंटरनेशनल वनडे में पदार्पण किया और सिर्फ पांच मैच खेले हैं. वहीं दिनेश कार्तिक ने 91 मैचों  में 1738 रन बनाए हैं.