Corona काल में खेली गई पहली International Cricket Series का विजेता बना इंग्लैंड

क्रिकेट विशेषज्ञों (Cricket Experts) ने कहा था कि वेस्टइंडीज अपने कई अनुभवी खिलाड़ियों के बगैर आया है. ऐसे में युवा खिलाड़ियों के दम पर इंग्लैंड का सामना कर पाना वेस्टइंडीज के लिए बहुत मुश्किल होगा.
international cricket series, Corona काल में खेली गई पहली International Cricket Series का विजेता बना इंग्लैंड

कोरोना काल (Corona Era) में क्रिकेट (Cricket) फिर से कब शुरू होगा इस बात का अंदाजा किसी को नहीं था. लेकिन इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड (England Cricket Board) ने बायो सिक्योर जोन तैयार कर वेस्टइंडीज (West Indies) की मेजबानी करने का फैसला किया. और कोरोना काल की पहली क्रिकेट सीरीज शुरू की. तीन टेस्ट मैच की इस सीरीज में जीत मेजबान इंग्लैंड की हुई. ये जीत कोई आम जीत नहीं है. बल्कि बेहद खास है.

इस सीरीज पर पूरी दुनिया की नजर थी. कैसे नए नियमों के साथ इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच टेस्ट सीरीज खेली जाएगी? कैसे खिलाड़ी बिना दर्शकों के मैदान पर उतरेंगे? कैसे कोरोनावायरस के संक्रमण से खिलाड़ियों को बचाया जाएगा? ये तमाम सवाल सभी के जहन में थे. लेकिन पूरे एहतियात के साथ ये सीरीज हुई और क्रिकेट फिर से बहाल हो गया.

इंग्लैंड ने 2-1 से जीती सीरीज

अपने घर में वेस्टइंडीज के खिलाफ जब इंग्लैंड मैदान में उतरा था, तब इंग्लैंड फेवरेट माना जा रहा था. क्रिकेट विशेषज्ञों ने कहा था कि वेस्टइंडीज अपने कई अनुभवी खिलाड़ियों के बगैर आया है. ऐसे में युवा खिलाड़ियों के दम पर इंग्लैंड का सामना कर पाना वेस्टइंडीज के लिए बहुत मुश्किल होगा. लेकिन पहले मैच में जो रूट की गैर मौजूदगी में बेन स्टोक्स की कप्तानी में इंग्लैंड मैदान पर उतरा. लेकिन साउथैम्पटन में खेले गए पहले टेस्ट मैच में मेहमान वेस्टइंडीज ने बाजी ही पलट दी. वेस्टइंडीज ने इंग्लैंड को चार विकेट से हराकर बड़ा उलटफेर किया. इसी के साथ टेस्ट सीरीज में 1-0 की बढ़त हासिल कर वेस्टइंडीज ने विश्व क्रिकेट में तहलका मचा दिया.

international cricket series, Corona काल में खेली गई पहली International Cricket Series का विजेता बना इंग्लैंड

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

दूसरे टेस्ट में दबाव इंग्लैंड पर था. जो रूट लौट चुके थे. पहले टेस्ट में बाहर बैठे तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड प्वेइंग इलेवन में शामिल किए गए. रूट की कप्तानी में इंग्लैंड ने शानदार प्रदर्शन किया. बेन स्टोक्स पर से कप्तानी का दबाव खत्म हो चुका था और वो अपना नेचुरल खेल खेलते दिखाई दिए. साथ ही ब्रॉड की घातक गेंदबाजी के सामने वेस्टइंडीज बेबस नजर आया. इंग्लैंड ने मैनचेस्टर टेस्ट में वेस्टइंडीज को 113 रन की करारी शिकस्त दी. इस मैच में बेन स्टोक्स को मैन ऑफ द मैच के खिताब से नवाजा गया.

सीरीज 1-1 से बराबर हो चुकी थी. अब बारी तीसरे टेस्ट मैच की थी. तीसरा टेस्ट भी मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान पर ही खेला गया. लेकिन इस बार इंग्लैंड विरोधी के खिलाफ अपनी कमर कस चुका था. इंग्लैड ने शुरू से ही अपनी ताकत से वेस्टइंडीज पर दबाव बनाना शुरू किया. और तीसरे टेस्ट को इंग्लैंड ने 269 रन के बड़े अंतर जीतते हुए सीरीज 2-1 से अपने नाम कर ली. इस मैच में तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड ने अपने 500 टेस्ट विकेट भी पूरे किए. और मैन ऑफ द मैच भी बने.

ब्रॉड और बेन स्टोक्स का दिखा जलवा

विजडम ट्रॉफी इंग्लैंड ने जीत ली. लेकिन इस जीत में इंग्लैंड के दो खिलाड़ियों का बड़ा रोल रहा. ऑलराउंडर बेन स्टोक्स और तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड. स्टोक्स ने इस सीरीज में 90.75 की शानदार औसत से सबसे ज्यादा 363 रन बनाए. इसमें एक शतक और एक अर्धशतक भी शामिल है. वहीं ब्रॉड ने बेशक दो टेस्ट खेले लेकिन विकेट लेने के मामले में वो सबसे आगे रहे. ब्रॉड ने 16 विकेट लेकर इंग्लैंड को जीत दिलाने में अहम किरदार निभाया था.

इस सीरीज से पहले सलाइवा पर लगे बैन को लेकर तरह–तरह के बयान सामने आए. कहा गया कि तेज गेंदबाजों के लिए मुश्किल होगी. गेंदबाज स्विंग नहीं करा पाएंगे. लेकिन ब्रॉड ने तमाम चीजों की पीछे छोड़ते हुए अपने प्रदर्शन से ये साबित कर दिया वो हर कंडिशन में विकेट लेने का हुनर जानते हैं. स्टुअर्ट ब्रॉड और वेस्टइंडीज के रोस्टन चेज को मैन ऑफ द सीरीज के खिताब से सम्मानित किया गया.

इसी के साथ ही इंग्लैंड ने इतिहास रचते हुए कोरोना काल में खेली गई पहली सीरीज पर जीत के साथ अपना नाम लिखा.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts