BCCI पर पड़ी कोरोना की मार, 11 कोच को नौकरी से निकालने की तैयारी में बोर्ड

इस साल फरवरी के बाद से ही भारत में कोई भी क्रिकेट मैच नहीं खेला गया है. इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) भी संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में खेली जा रही है. घाटे को कम करने के लिए BCCI अब धीरे-धीरे अपनी कमर कसने लगा है.

कोरोनावायरस की मार देश के हर एक सेक्टर में दिखने लगा है. लाखों लोगों को अपनी नौकरी गंवानी पड़ी है. अब कोरोना की वजह से आर्थिक मंदी की चपेट में दुनिया का सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) भी आ गया है. बोर्ड कोरोना महामारी बाद पहली बार अपने बड़े कर्मचारियों की छंटनी कर रहा है. BCCI ने राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (NCA) में कार्यरत 11 कोचों के वार्षिक अनुबंधों को आगे नहीं बढ़ाने का फैसला किया है. इनमें पांच रिटायर्ड भारतीय खिलाड़ी रमेश पोवार, एसएस दास, हृषिकेश कानिटकर, सुब्रतो बनर्जी और सुजीत सोमसुंदर शामिल हैं.

इस साल फरवरी के बाद से ही भारत में कोई भी क्रिकेट मैच नहीं खेला गया है. इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) भी संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में खेली जा रही है. घाटे को कम करने के लिए बोर्ड अब धीरे-धीरे अपनी कमर कसने लगा है.

राहुल द्रविड़ ने दी जानकारी 

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार भारत के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़, जिन्होंने NCA  प्रमुख के रूप में टीम की कमान संभाली थी. उन्होंने पिछले सप्ताह कोचों को उनकी सेवाओं की समाप्ति की जानकारी दी है. जिन लोगों को छोड़ने के लिए कहा गया है, उनमें पूर्व घरेलू खिलाड़ी सीतांशु कोटक भी शामिल हैं.

सभी 11 कोचों को 30-55 लाख रुपये तक के वेतन पर एक साल के अनुबंध पर नियुक्त किया गया था. इस महीने उनका अनुबंध समाप्त हो रहा है. हालांकि, अभी तक इस मामले पर BCCI की ओर कोई भी आधिकारिक बयान जारी नहीं किया गया है.

पहले नहीं दी गई कोई सूचना 

एक कोच ने बताया कि हमें दो दिन पहले राहुल द्रविड़ का फोन आया और उन्होंने हमें सूचित किया कि BCCI ने हमारे अनुबंध को आगे नहीं बढ़ाने का फैसला किया है. हमें कोई वास्तविक कारण नहीं दिया गया. उन्होंने आगे बताया कि राहुल ने हमसे कहा कि उन्होंने हमें बनाए रखने की पूरी कोशिश की लेकिन वह आगे कुछ नहीं कर पाए. पिछले तीन महीनों से हम कोविड -19 के बाद वेबिनार और नियोजन गतिविधियों में भाग ले रहे हैं. अब अचानक, हमें बताया गया है कि हमारी सेवाओं की अब आवश्यकता नहीं है.

कोरोनावायरस के चलते मार्च से NCA में क्रिकेट गतिविधियां पूरी तरह से रुक गई थीं. हालांकि, इस महीने की शुरुआत में BCCI ने अनुबंधित खिलाड़ियों को बेंगलुरु स्थित अकादमी में प्रशिक्षण का विकल्प दिया गया था.

Related Posts