झंडे की तरफ नहीं देखा तो चीनी अधिकारियों ने फ्रैंच खिलाड़ी पर लगा दिया जुर्माना

चीन की सरकार ने राष्ट्रपति शी जिनपिंग के तहत देशभक्ति को बढ़ावा देने के लिए 2017 में कानून लागू किया है, जो किसी को भी राष्ट्रगान का अपमान करने वाले को तीन साल तक की जेल की सजा देता है.

फ्रांस के एक पूर्व एनबीए खिलाड़ी पर खेल से पहले राष्ट्रगान के दौरान चीनी झंडे को न देखने के लिए चीन में खेल अधिकारियों ने 1,400 डॉलर का जुर्माना लगाया है. चीनी बास्केटबॉल एसोसिएशन (CBA) के खिलाड़ियों को “मार्च ऑफ़ द वॉलंटियर्स” के दौरान राष्ट्रीय चिन्ह को देखना होता है, लेकिन टीवी पर दिखाया गया कि ग्वर्सचॉन याबूसले का सिर शुक्रवार के खेल के पहले झुका हुआ था. मालूम हो कि याबूसले, नानजिंग टोंगसी मंकी किंग के लिए खेलते हैं.

इसके बाद CBA ने शनिवार को एक बयान में कहा, याबूसले को “गंभीर चेतावनी” दी गई थी और ध्वज को आवश्यक रूप से नहीं देखने के लिए 10,000-युआन का जुर्माना लगाया गया था. इस साल CBA टीम में शामिल होने से पहले दो सत्रों के लिए बोस्टन सेल्टिक्स के लिए फॉर्वर्ड खेलने वाले याबूसले ने इस घटना पर कोई टिप्पणी नहीं की है.

चीन की सरकार ने राष्ट्रपति शी जिनपिंग के तहत देशभक्ति को बढ़ावा देने के लिए 2017 में कानून लागू किया है, जो किसी को भी राष्ट्रगान का अपमान करने वाले को तीन साल तक की जेल की सजा देता है. ऐसे में याबूसले को दी गई सजा पर चीनी सोशल मीडिया में अलग-अलग राय सामने आई हैं. एक लोकप्रिय Weibo सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर एक व्यक्ति ने लिखा, “वह चीन से पैसा लेकर खुश है, लेकिन वह उसका सम्मान नहीं करता है.”

दूसरे यूजर ने लिखा, “इस खिलाड़ी को तुरंत निष्कासित कर दिया जाना चाहिए और उसके क्लब को चैम्पियनशिप से अयोग्य घोषित किया जाना चाहिए.” हालांकि काफी लोगों ने प्रतिबंधों को कठोर और बेमतलब बताया. एक व्यक्ति ने लिखा, “यह बकवास है. पहला, वह चीनी नहीं है. इसके अलावा, वह खड़ा था और उसने कोई अपमानजनक इशारा नहीं किया.”

ये भी पढ़ें: रूस को लगा बड़ा झटका, टोक्यो ओलंपिक-फीफा वर्ल्ड कप में नहीं ले पाएगा हिस्सा, जानिए वजह