विराट कोहली की जगह रोहित शर्मा हो सकते हैं कप्तानी का विकल्प, गौतम गंभीर का बयान, VIDEO

गौतम गंभीर ने टीवी9 भारतवर्ष से बातचीत के दौरान कहा कि टीम इंडिया की कप्तानी को लेकर कोई पैनिक बटन दबाने की जरुरत नहीं है लेकिन बात अगर विकल्प की है तो रोहित शर्मा सबसे अच्छे विकल्प हो सकते हैं.

लंदन: सेमीफाइनल में टीम इंडिया की हार के बाद टीम इंडिया में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है. देश के दिग्गज क्रिकेटर विराट कोहली की कप्तानी पर सवाल खड़ा कर रहे हैं. टीम इंडिया के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर टीवी9 भारतवर्ष से एक्सक्लूसिव बातचीत की. इस दौरान गंभीर ने कहा कि एक मैच हारने पर कोई फैसला नहीं लिया जा सकता लेकिन अगर विकल्प की बात है तो विराट कोहली की जगह आप रोहित शर्मा को कप्तानी दे सकते हैं.

गौतम गंभीर ने टीवी9 भारतवर्ष से बातचीत के दौरान कहा कि टीम इंडिया की कप्तानी को लेकर कोई पैनिक बटन दबाने की जरुरत नहीं है लेकिन बात अगर विकल्प की है तो रोहित शर्मा सबसे अच्छे विकल्प हो सकते हैं. रोहित शर्मा ने चार बार आईपीएल खिताब अपने नाम किया है. इतना तो एम एस धोनी ने नहीं जीती. मैं ये नहीं कहता कि विराट कोहली को हटा दें. कोहली ने टीम इंडिया को टेस्ट रैंकिंग में नंबर 1, वनडे में नंबर 1 बनाया है. एक मैच हारने से विराट कोहली खराब कप्तान नहीं हो जाते. मैंने उनकी कप्तानी की हमेशा बात की है वो इतने अच्छे कप्तान नहीं है जितने कि रोहित शर्मा और एमएस धोनी है वो उनके आईपीएल को लेकर था क्योंकि आईपीएल में उनको रोहित शर्मा और धोनी का सपोर्ट नहीं मिलता. लेकिन कोहली ने जैसे इस टूर्नामेंट में कप्तानी की है बहुत बेहतर कप्तानी की है.

गंभीर ने कहा कि बात अगर विकल्प की है तो कोहली का विकल्प रोहित शर्मा हो सकते हैं. लेकिन पैनिक बटन दबाने की जरुरत नहीं है. आप कोहली की ही कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया को ऑस्ट्रेलिया में ही हरा कर आए हो. विश्व कप में आप सेमीफाइनल खेल के आए हो तो मुझे नहीं लगता है कि कोहली की कप्तानी पर इतना जल्दी कोई फैसला लेना चाहिए.

गौरतलब है कि सेमीफाइल के नॉकआउट मुकाबले में टीम इंडिया को हार मिली थी जिससे टीम इंडिया का विश्व कप जीतने का फैसला खत्म हो गया. सेमीफाइनल मुकाबले में कई फैसले ऐसे थे जिससे हर कोई हैरान था. सबसे बड़ी हैरानी का मुद्दा तो ये था कि जब पांचवे नंबर पर हार्दिक पांड्या को टीम ने मैदान पर उतार दिया. जबकि टीम के विकेट गिर चुके थे तो जाहिर तौर पर उस वक्त धोनी ही ऐसे बल्लेबाज थे जो विकेट पर जमकर खेल सकते थे लेकिन उस वक्त पर पांड्या को नहीं भेजा गया.