अगर MS धोनी ने संन्यास नहीं लिया तो जबरदस्ती किए जाएंगे बाहर!

चयनकर्ताओं और भारतीय क्रिकेट में महत्व रखने वाले लोगों का मानना है कि धोनी के संन्यास लेने का ये सही समय है.

MS Dhoni Retirement News

नई दिल्ली. पूर्व भारतीय कप्तान व विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी ने रिटायरमेंट को लेकर अभी तक कोई बयान नहीं दिया है, जिससे अलग-अलग तरह के कयासों का दौर जारी है. वर्ल्ड कप में धोनी का प्रदर्शन भी सवालों के घेरे में रहा था और ऐसे में यही लग रहा है कि वह कभी भी संन्यास की घोषणा कर सकते हैं. TOI में छपी खबर के मुताबिक BCCI में मौजूद सूत्र ने कहा है कि ‘धोनी को अब टीम में जगह नहीं मिलेगी, ऐसे में उन्हें खुद ही संन्यास की घोषणा कर देनी चाहिए.’ धोनी को आगे टीम में न चुनना यही संकेत है कि उनको जबरन संन्यास दिलाया जा रहा है.

इंडियन क्रिकेट में मौजूद बड़े नामों की ये ही राय है कि 38 साल के एमएस धोनी को क्रिकेट से संन्यास ले लेना चाहिए. वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में धोनी के नंबर-7 पर बल्लेबाजी करने पर भी सवाल खड़े हुए थे. इसके साथ ही उनकी सेमीफाइनल और इंग्लैंड के खिलाफ मौजूदा परिस्थितियों के हिसाब से खेली गई धीमी पारियों पर भी सवाल खड़े हुए थे. धोनी मैच को अंत ले जाकर खत्म करने के लिए जाने जाते हैं, लेकिन वह इस वर्ल्ड कप में ऐसा करने में नाकाम रहे. अंत में वह तेज बल्लेबाजी करने में विफल रहे.

एमएस धोनी के करियर stats.

TOI ने विश्वसनीय सूत्रों के हवाले से लिखा, ‘मुख्य चयनकर्ता MSK प्रसाद ने अगर अभी तक धोनी से बात नहीं की है तो वह जल्द ही उनसे बात करेंगे और उनको बताएंगे कि उनके संन्यास लेने का समय आ गया है.” आगे लिखा, ‘हम चकित हैं कि उन्होंने अभी तक इसकी घोषणा नहीं की है. ऋषभ पंत जैसे युवा बल्लेबाज अपने समय का इंतजार कर रहे हैं. जैसा हमने वर्ल्ड कप में देखा की धोनी अब उस तरह के बल्लेबाज नहीं रह गए हैं. नंबर 6 और 7 पर बल्लेबाजी पर उतरने के बावजूद वह तेज गति से रन बनाने में कामयाब नहीं रहे और इससे टीम की दिक्कतें बढीं.”

ये भी पढ़ें: संन्यास लेने के बाद भाजपा से सियासी पारी शुरू कर सकते हैं धोनी, बीजेपी नेता का दावा

इसके साथ ही सूत्र ने धोनी के वेस्टइंडीज दौरे पर चुने जाने की संभावनाओं को भी नकार दिया. उन्होंने बताया, “मुझे नहीं लगता कि 2020 T20 वर्ल्ड कप के लिए धोनी चयनकर्ताओं के प्लान में शामिल हैं. उनको अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से शान से संन्यास लेना चाहिए. वह अब टीम में चुने जाने के लिए ऑटोमैटिक चॉइस नहीं हैं.” बता दें कि, धोनी और इंडियन क्रिकेट में मौजूद लोगों के बीच अभी तक धोनी के संन्यास को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई है. सूत्र के अनुसार, “हम धोनी का ध्यान नहीं भटकाना चाहते थे और वो खुद चाहते होंगे कि टीम और उनका ध्यान वर्ल्ड कप पर ही रहे. लेकिन, अब संन्यास लेने का सही समय है. अब उनकें अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में साबित करने के लिए कुछ नहीं बचा है.

धोनी का वर्ल्ड कप प्रदर्शन.

पूर्व भारतीय क्रिकेटर और भारतीय क्रिकेट में कैसे काम होता है इसके जानकार ने बताया, “मैं सुनिश्चित हूं कि धोनी भारतीय टीम में दोबारा नहीं चुने जाएंगे. अब उनको संन्यास ले ही लेना चाहिए.” इसके साथ ही उन्होंने कहा कि, “वास्तव में मुझे लगता है कि विराट कोहली की कप्तानी की भी समीक्षा होगी. ये कैम्पेन किसी भी मायने में सफल नहीं रहा है. जिम्मेदारी ऊपर से शुरू होनी चाहिए.”

ये भी पढ़ें: विंडीज दौरे पर कप्‍तान नहीं होंगे विराट, धोनी भी टीम से रहेंगे बाहर!

अभी तो ऐसा ही लग रहा है कि धोनी संन्यास ले ही लेंगे. अपनी कप्तानी में तीनो ICC ट्रॉफी जेतने वाले धोनी का क्रिकेट करियर शानदार रहा है. उन्होंने 350 ODI मुकाबलों में 50.57 की औसत से 10, 773 रन बनाए हैं और 98 T20I में 37.60 की औसत से 1617 रन बनाए हैं. अगर बोर्ड से आ रही बातों को मानें तो धोनी इन्ही आंकडों के साथ अपने करियर को अलविदा कह देंगे.

धोनी ने इस वर्ल्ड कप में 8 पारियों में 273 रन बनाए हैं. इस वर्ल्ड कप में धोनी के स्ट्राइक रेट की काफी चर्चा हुई है. जब इंग्लैंड के खिलाफ और सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ टीम को तेज गति से रनों की जरुरत थी तब धोनी तेज खेलने में नाकाम रहे और टीम को हार का समाना करना पड़ा.

 

Related Posts