IND vs SA 2nd Test: विराट ने कैसे लगाए एक ही मैच में दो-दो अर्धशतक?

विराट जब मैदान पर उतरते हैं तो रिकॉर्ड्स उनके कदम चूमते हैं. पुणे में भी कुछ ऐसा ही हुआ. बल्ले से तो विराट ने 98 अर्धशतक लगाए हैं लेकिन ये अर्धशतक सबसे खास है.
विराट, IND vs SA 2nd Test: विराट ने कैसे लगाए एक ही मैच में दो-दो अर्धशतक?

पुणे टेस्ट में विराट कोहली अपने शतक की तरफ बढ़ रहे हैं. विराट पुणे में बतौर कप्तान अपना 50वां टेस्ट मैच भी खेल रहे हैं. विराट कोहली, महेंद्र सिंह धोनी के बाद 50 टेस्ट में भारतीय टीम की अगुवाई करने वाले दूसरे कप्तान हैं. महज 5 साल में विराट भारत के सबसे सफल कप्तान बन चुके हैं और दुनिया के बेहतरीन कप्तानों में शुमार हो गए हैं.

विराट जब मैदान पर उतरते हैं तो रिकॉर्ड्स उनके कदम चूमते हैं. पुणे में भी कुछ ऐसा ही हुआ. बल्ले से तो विराट ने 98 अर्धशतक लगाए हैं लेकिन ये अर्धशतक सबसे खास है. विराट कप्तानी में अर्धशतक लगा चुके हैं. 50वें टेस्ट में टीम इंडिया की कमान संभाल रहे विराट कोहली ने सौरभ गांगुली को पीछे छोड़ दिया है.

गांगुली ने 49 टेस्ट में टीम इंडिया की कप्तानी की है. वहीं महेंद्र सिंह धोनी ने टीम इंडिया के लिए सबसे ज्यादा 60 टेस्ट में कप्तानी की. जबकि सुनील गावस्कर और मोहम्मद अजहरुद्दीन ने 47-47 टेस्ट में टीम इंडिया की कमान संभाली. जीत के मामले में विराट कोहली पहले ही भारत के सभी कप्तानों को पीछे छोड़ चुके हैं. अब उन्होंने कप्तानी का अर्धशतक लगाया है.

विराट बतौर भारतीय कप्तान सबसे ज्यादा मैच

कप्तान मैच जीत हार ड्रॉ जीत%
महेंद्र सिंह धोनी 60 27 18 15 45%
विराट कोहली 50* 29 10 10 58%
सौरभ गांगुली 49 21 13 15 42%
मो. अजहरुद्दीन 47 14 14 19 29.%
सुनील गावस्कर 47 9 8 30 19%

विराट कोहली विदेश में भी सबसे ज्यादा टेस्ट मैच जीतने वाले भारतीय कप्तान हैं. विराट की कप्तानी में भारत ने विदेशी जमीन पर 27 में से 13 मैच जीते हैं. सौरव गांगुली की कप्तानी में भारत ने 28 टेस्ट में 11 मैच जीते, जबकी धोनी की कप्तानी में टीम इंडिया 30 टेस्ट में सिर्फ 5 मैच विदेशी जमीन पर अपने नाम कर पाई.

आकंड़ों के लिहाज से विराट भारत के सबसे सफल कप्तान हैं और अब तो विराट कोहली दुनिया के बेहतरीन कप्तानों में शुमार हो चुके हैं. दुनिया के सबसे सफल कप्तानों की फेहरिस्त में विराट तीसरे नंबर पर हैं.

बतौर कप्तान स्टीव वॉ ने 57 टेस्ट में 71.9 फीसदी मैच में जीत हासिल की. ऑस्ट्रेलिया के ही रिकी पॉन्टिंग बतौर कप्तान 77 टेस्ट में 62.3 फीसदी मैचों में कामयाब रहे. विराट कोहली पॉन्टिंग से ज्यादा पीछे नहीं हैं, उन्होंने बतौर कप्तान 50 टेस्ट में 59.1 फीसदी मैच में भारत को जीत दिलाई.

महज 5 साल में विराट कोहली ने वो कर दिखाया है जो आज तक कोई दूसरा भारतीय कप्तान नहीं कर पाया. कप्तान विराट कोहली की कामयाबी की दास्तां शुरू हुई श्रीलंका में. अगस्त 2015 में विराट की कप्तानी में भारत ने श्रीलंका को उसी की जमीन पर हराया.

वो विराट ही हैं जिनकी कप्तानी में भारतीय टीम ने 22 साल बाद श्रीलंका में टेस्ट सीरीज अपने नाम की, लेकिन विराट की कप्तानी का सबसे कामयाब दौर आया साल 2018 में. टीम इंडिया ने जनवरी 2018 में दक्षिण अफ्रीका को जोहान्सबर्ग टेस्ट में 63 रन से हराया. इसी साल विराट की कप्तानी में टीम इंडिया ने इंग्लैंड में भी जीत हासिल की.

टीम इंडिया ने 203 रन से नॉटिंघम टेस्ट अपने नाम किया. 200 रन बनाने वाले कप्तान विराट कोहली मैन ऑफ द मैच रहे. दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज में भले ही भारत को हार का सामना करना पड़ा लेकिन विराट की अगुवाई में भारतीय खिलाड़ियों ने मेजबानों को कांटे की टक्कर दी और फिर विराट की कप्तानी में टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया में इतिहास रच दिया.

ऑस्ट्रेलिया में टीम इंडिया ने एडिलेड और मेलबर्न टेस्ट में जीत हासिल की और 4 मैच की टेस्ट सीरीज 2-1 से अपने नाम की. 72 साल में पहली बार टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीती.

ऐसी कामयाबी भारतीय क्रिकेट के इतिहास में किसी भी दूसरे कप्तान को नहीं मिली. अब विराट का अगला लक्ष्य टेस्ट चैम्पियनशिप का खिताब जीतना है. जिस अंदाज में टीम इंडिया उनकी कप्तानी में खेल रही है ये बात डंके की चोट पर कही जा सकती है कि खिताब जीतने के रास्ते पर टीम इंडिया के कदम मजबूती से आगे बढ़ रहे हैं.

ये भी पढ़ें- IND vs SA: मयंक अग्रवाल के लगातार दूसरे शतक से दक्षिण अफ्रीका पस्‍त, देखें Photos

Related Posts