“ऋषभ पंत बस इतना समझ लें, फियरलेस और केयरलेस में फर्क होता है”

"ऋषभ पंत को इस बात को समझने की जरूरत है कि फियरलेस क्रिकेट और केयरलेस क्रिकेट में अंतर होता है. टीम चाहती है वे बिना किसी डर के क्रिकेट खेलें."

भारतीय क्रिकेट टीम के नवनियुक्त बल्लेबाजी कोच विक्रम राठौर ने कहा है कि वह टीम के लगभग सभी खिलाड़ियों से मिल चुके हैं. तीन मैचों की सीरीज का पहला मैच बारिश की भेंट चढ़ जाने के बाद भारत और दक्षिण अफ्रीका की टीमें बुधवार को यहां आईएस बिंद्रा स्टेडियम में होने वाले दूसरे टी-20 मैच में बढ़त लेने के इरादे से मैदान में उतरेंगी.

राठौर ने मैच की पूर्वसंध्या पर संवाददाता सम्मेलन में कहा, “टीम के साथ बातचीत अच्छी रही है. मैं काफी लंबे समय से इस पेशे में हूं. मैंने टीम के लगभग सभी खिलाड़ियों के साथ बातचीत की है. कुछ भी मुश्किल नहीं है. मुझे टीम के साथ समायोजित होने में कुछ समय लगेगा, लेकिन मैं ऐसा कर लूंगा.”

पिछले कुछ समय से विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत अपने बल्लेबाजी शॉट को लेकर काफी आलोचनाओं का सामना कर रहे हैं. लेकिन पूर्व राष्ट्रीय चयनकर्ता ने कहा है कि फियरलेस क्रिकेट और केयरलेस क्रिकेट में काफी अंतर होता है.

उन्होंने कहा, “सभी युवा खिलाड़ियों को इस बात को समझने की जरूरत है कि फियरलेस क्रिकेट और केयरलेस क्रिकेट में अंतर होता है. टीम चाहती है वे बिना किसी डर के क्रिकेट खेलें. हम चाहते हैं कि पंत उन शॉट्स को खेलें, जो उन्हें खास बनाते हैं. लेकिन हम नहीं चाहते कि कोई बल्लेबाज लापरवाह बने.”

यह पूछे जाने पर कि क्या रोहित शर्मा टेस्ट में ओपनिंग की समस्या का हल कर सकते हैं, बल्लेबाजी कोच ने कहा, “मैं सोचता हूं कि वह किसी भी टीम के लिए बहुत अच्छा खिलाड़ी है. सभी ने इस बात का समर्थन किया है कि रोहित शर्मा को ओपन करना चाहिए.”

उन्होंने कहा, ” वह सीमित ओवरों के शानदार सलामी बल्लेबाज हैं,इसलिए ऐसा कुछ नहीं है कि वह टेस्ट में सफल नहीं हो सकते हैं. अगर उन्होंने टीम के गेम प्लान को सही से निभा लिया तो ये टीम के लिए और उनके लिए काफी अच्छा होगा.”

ये भी पढ़ें

धोनी का उत्तराधिकारी माने जाने वाले ऋषभ पंत को शास्‍त्री ने क्‍यों दिया अल्‍टीमेटम?

स्‍टीव स्मिथ और विराट कोहली में बेस्‍ट कौन? सौरव गांगुली का ये है जवाब