INDvsWI: वर्ल्‍ड कप में टीम इंडिया का विजयरथ बरकरार, वेस्‍टइंडीज को 125 रनों से हराया

स्‍लो विकेट वाली ओल्‍ड ट्रेफर्ड की पिच पर विराट कोहली ने 72 रनों की शानदार पारी खेली, उन्‍हें मैन ऑफ द मैच चुना गया.

लंदन: भारत ने गुरुवार को ओल्ड ट्रेफर्ड मैदान पर खेले गए मैच में वेस्टइंडीज को 125 रनों के बड़े अंतर से हरा दिया. भारत अब 11 अंकों के साथ 10 टीमों की अंकतालिका में दूसरे स्थान पर आ गया है. न्यूजीलैंड के भी 11 अंक हैं, लेकिन रन रेट के मामले में भारत उससे बेहतर है. इसी जीत के साथ ही भारत ने आईसीसी वर्ल्‍ड कप 2019 में अपने विजय रथ को अब तक बरकरार रखा है. विराट कोहली को उनकी शानदार 72 रनों की पारी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया.

ओल्‍ड ट्रेफर्ड के मैदान पर टॉस जीतकर पहले बल्‍लेबाजी का फैसला करते हुए टीम इंडिया शुरुआत में थोड़ी खराब स्थिति में नजर आई, लेकिन कप्‍तान विरोट कोहली ने पहले विजय शंकर और बाद में धोनी के साथ मिलकर पारी को संभाला. विराट कोहली (72) और महेंद्र सिंह धोनी (नाबाद 56) की शानदार पारी खेली. धोनी और कोहली के अलावा केएल राहुल और हार्दिक पंड्या ने भी 48 और 46 रनों की दमदार पारी खेलीं.

धीमी विकेट पर 50 ओवरों में सात विकेट के नुकसान पर भारत ने 268 रन बनाए. टारगेट चेज करने उतरी वेस्‍टइंडीज शुरुआत से संघर्ष करती नजर आई और आखिरकार लड़खड़ा ही गई.

मोहम्मद शमी ने सबसे ज्‍यादा 4 विकेट लिए, जबकि जसप्रीत बुमराह ने भी लगातार दो गेंदों पर दो विकेट लेकर वेस्‍टइंडीज की कमर तोड़ दी. भारत ने वेस्‍टइंडीज टीम को 34.2 ओवरों में 143 रनों पर ढेर कर शानदार जीत हासिल की.

इस मैच में बेशक भारत की बल्लेबाजी का संघर्ष जारी रहा, लेकिन गेंदबाजों ने बेहतरीन प्रदर्शन किया. शमी ने चार विकेट लिए. जसप्रीत बुमराह और युजवेंद्र चहल को दो-दो विकेट मिले. हार्दिक पांड्या और कुलदीप यादव एक-एक विकेट लेने में सफल रहे.

मुश्किल विकेट पर 269 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी विंडीज की क्रिस गेल और सुनील एम्ब्रिस की सलामी जोड़ी को शमी और बुमराह ने स्विंग से परेशान किया. शमी ने आखिरकर पांचवें ओवर की पांचवीं गेंद पर गेल (6) को 10 के कुल स्कोर पर पैवेलियन भेज दिया.

शमी ने ही शाई होप (5) को बोल्ड कर विंडीज को दूसरा झटका दिया। यहां सुनील और निकोलस पूरन ने टीम को संभाला. दोनों ने टीम का स्कोर 71 तक पहुंचा दिया, लेकिन इस बार पंड्या वेस्टइंडीज के लिए मुसीबत बन गए. उन्होंने सुनील की 31 रनों की पारी का अंत किया. नौ रनों के बाद पूरन को चाइनामैन कुलदीप ने शिकार बनाया. पूरन ने 28 रन बनाए.

विंडीज कप्तान जेसन होल्डर विकेट को समझ कर कुछ कर पाते उससे पहले ही चहल ने उनकी छह रनों की पारी का अंत कर विंडीज का स्कोर पांच विकेट पर 98 रन कर दिया.

यहां से फिर भारत को जीत हासिल करने में परेशानी नहीं आई. कार्लोस ब्रैथवेट (1), फाबियन ऐलेन (0), शिमरन हेटमायर (18), शेल्डन कॉटरेल (10) और ओशाने थॉमस (6) जल्दी-जल्दी पवेलियन लौट लिए.

विंडीज के गेंदबाजों ने हालांकि भारतीय बल्लेबाजों की परीक्षा ली. भारत की हालत नाजुक थी और धोनी इस मैच में भी धीमी बल्लेबाजी कर रहे थे, लेकिन कोहली के जाने के बाद पूर्व कप्तान ने जिम्मेदारी निभाई और स्थिति के हिसाब से खेलते हुए अपनी टीम को सम्मानजनक स्कोर दिया. धोनी ने आखिरी ओवर में दो छक्के और एक चौके की मदद से 16 रन बोटरे. अपनी नाबाद पारी में धोनी ने 61 गेंदों का सामना किया और तीन चौके तथा दो छक्के मारे.

सलामी बल्लेबाज लोकेश राहुल ने भी 48 रन बनाए. इस मैदान की पिच धीमे गेंदबाजों और कटर डालने वालों के लिए उपयुक्त है. होल्डर ने इसी का फायदा उठा कटर फेंकी जो बड़ी खूबसूरती से राहुल के बल्ले और पैड के बीच से घुस विकेटों पर गई.

राहुल से पहले रोहित शर्मा (18) केमर रोच की गेंद पर विवादास्पद तरीके से आउट दे दिए. रोच की गेंद रोहित के बल्ले/पैड से टकरा कर शाई होप के दस्तानों में गई लेकिन मैदानी अंपायर में आउट नहीं दिया. होल्डर ने रिव्यू की मांग की जिसमें साफ स्थिति न होने के बाद भी रोहित को आउट दे दिया गया. रोहित का विकेट छठे ओवर की आखिरी गेंद पर 29 के कुल स्कोर पर गिरा. रोहित के जाने के बाद कोहली और राहुल ने 67 रन जोड़े थे लेकिन राहुल अपने पचास रन पूरे नहीं कर सके. उन्होंने 64 गेंदों की पारी में छह चौके लगाए.

नंबर-4 के लिए खोजे गए विजय शंकर ने फिर निराश किया। रोच ने शंकर को भी होप के हाथों कैच कराया. शंकर ने 14 रन बनाए.

दो अहम कैच पकड़ने के बाद होप ने वो काम किया जिसकी उम्मीद क्लब स्तर के विकेटकीपर से भी नहीं की जाती. इस मैच में अंतिम-11 में शामिल किए गए स्पिनर ऐलन 34वां ओवर फेंकने आए और धोनी ने उन्हें निकल कर मारने का प्रयास किया. धोनी चूके और तकरबीन दो फुट बाहर थे, लेकिन होप ने बच्चों सी गलती की और धोनी को जीवनदान दिया. धोनी ने इसका फायदा उठाया. हालांकि वह इस समय काफी धीमी बल्लेबाजी कर रहे थे जिसके कारण अर्धशतक पूरा कर चुके कप्तान ने सोचा की वह एक्सीलेटर पर पांव रखें.

कोशिश की गई और होल्डर की बेहद छोटी गेंद पर कोहली ने दमभर के शॉट खेला जो शॉर्ट मिडविकेट पर डारेन ब्रावो के सीधा हाथों में गया. कप्तान ने 82 गेंदों का सामना किया और आठ चौके मारे.

पंड्या से भी बड़े शॉट नहीं लगे. वह भी एक-एक, दो-दो रन लेते रहे. उन्होंने 38 गेंदों पर पांच चौकों की मदद से 46 रन बनाए. पांड्या और धोनी के बीच 70 रनों की साझेदारी हुई. विंडीज के लिए रोच ने तीन विकेट लिए. कॉटरेल और होल्डर को दो-दो सफलताएं मिलीं.