पाकिस्तान के PM इमरान खान का बड़ा बयान- मौजूदा हालात में भारत-पाक सीरीज संभव नहीं

भारत के साथ क्रिकेट (India-Pakistan Cricket) रिश्तों की बहाली की वकालत पिछले कुछ समय में कई पाकिस्तानी खिलाड़ियों ने की है. इसमें पाकिस्तान के मौजूदा बॉलिंग कोच वकार यूनुस (Waqar Younis) और पूर्व तेज गेंदबाज़ शोएब अख़्तर (Shoaib Akhtar) भी शामिल हैं.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने भारत-पाकिस्तान क्रिकेट (India-Pakistan Cricket) रिश्तों को लेकर बहुत बड़ा बयान दिया है. इमरान ख़ान ने कहा कि मौजूदा परिस्थिति में इन दोनों देशों के बीच क्रिकेट संभव नहीं है. एक डॉक्यूमेंट्री के लिए दिए गए इंटरव्यू में इमरान ख़ान (Imran Khan) ने कहा- “इस वक़्त अगर भारत और पाकिस्तान की टीमें मैदान में उतरती हैं, तो माहौल भयावह होगा.”

उन्होंने ये भी कहा- “भारत और पाकिस्तान के बीच संबंध इस वक़्त अपने सबसे बुरे दौर से गुज़र रहे हैं.” आपको याद दिला दें कि 2007 के बाद से भारत और पाकिस्तान की टीम ने कोई भी ‘बायलेट्रल’ सीरीज़ नहीं खेली है. इस दौरान इन टीमों ने ICC के टूर्नामेंट्स में एक दूसरे का सामना किया है या फिर एशिया कप में.

ऐसे में भारत-पाकिस्तान के बीच क्रिकेट रिश्तों की बहाली को लेकर लगातार चर्चाएं होती रही हैं. पाकिस्तान के कई खिलाड़ी इस सीरीज़ की पुरज़ोर वकालत कर चुके हैं. लेकिन इमरान ख़ान ने ऐसे किसी भी संभावना से इनकार किया. हालांकि सच ये
है कि इमरान अगर हां कर भी दें तो भारत सरकार अभी पाकिस्तान के साथ क्रिकेट रिश्तों की बहाली के लिए तैयार नहीं होगी.

इमरान खान ने अपने भारत के दौरों को किया याद

इस इंटरव्यू में इमरान ख़ान ने भारत के अपने किए दो दौरों को ख़ास तौर पर याद किया है. उन्होंने कहा- “मैंने भारत में दो सीरीज़ खेली हैं. पहली बार 1979 में मैं भारत गया था. तब दोनों सरकारें रिश्तों में बेहतरी की कोशिश कर रही थीं. मैं बता ही नहीं सकता हूं कि क्रिकेट के मैदान में क्या शानदार माहौल था. लेकिन इसके बाद जब मैं अगली बार 1987 में गया तब दोनों सरकारों के बीच तनाव था. मैदान में जिस तरह का माहौल था, वैसा मैंने पहले कभी नहीं देखा. हमारे खिलाड़ियों को बाउंड्री पर हेलमेट लगाकर फ़ील्डिंग करनी पड़ी थी. वो माहौल अच्छा नहीं था.”

आपको बता दें कि भारत और पाकिस्तान के बीच रिश्तों की बहाली के लिए कई बार क्रिकेट एक मज़बूत ज़रिया बना है. इसे ‘क्रिकेट डिप्लोमेसी’ का नाम दिया गया. दोनों देशों के बीच बनते-बिगड़ते रिश्तों का असर इस खेल पर भी हर बार पड़ा है.

पाकिस्तानी खिलाड़ियों ने की थी सिफ़ारिश

भारत के साथ क्रिकेट रिश्तों की बहाली की वकालत पिछले कुछ समय में कई पाकिस्तानी खिलाड़ियों ने की है. इसमें पाकिस्तान के मौजूदा बॉलिंग कोच वकार यूनुस और पूर्व तेज गेंदबाज़ शोएब अख़्तर भी शामिल हैं. वकार यूनुस ने तो इस सीरीज़ का नाम इमरान-कपिल सीरीज़ भी प्रस्तावित किया था. लेकिन भारतीय सरकार का पक्ष एकदम साफ़ है.

भारत का कहना है कि जब तक देश में सीमा पार से समर्थित आतंकवाद पर लगाम नहीं लगेगी, तब तक क्रिकेट का खेल संभव नहीं है. बतौर प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ऐसा करने में अब तक पूरी तरह नाकाम रहे हैं.

Related Posts