कैसे मिली वो कामयाबी जो दीपक चाहर ने सपने में भी नहीं सोची थी?

दीपक चाहर ने टी-20 क्रिकेट में कैसे वो कारनामा किया, जिसके बारे में वो सपने में भी नहीं सोचे थे. मैच के 18वें ओवर और अपने स्पेल के तीसरे ओवर की आखिरी गेंद पर चाहर ने सैफीउल इस्लाम को पवेलियन भेज. मैच का 18वां ओवर करने के बाद, चाहर को कप्तान रोहित शर्मा ने आखिरी ओवर में गेंद थमाई.

दीपक चाहर, टीम इंडिया के नए सितारे हैं. बांग्लादेश के खिलाफ तीसरे टी-20 में चाहर ने ऐसा कहर बरपाया कि बांग्लादेश के सीरीज जीतने के अरमानों पर पानी फिर गया. चाहर ने इस मैच न सिर्फ हैट्रिक ली, बल्कि टी-20 में सबसे किफायती गेंदबाज बन गए. पूरी सीरीज में शानदार प्रदर्शन के दम चाहर ‘मैन ऑफ द मैच’ के साथ ‘मैन ऑफ द सीरीज’ भी चुने गए.

दीपक चाहर के लिए 10 नवंबर की तारीख हमेशा यादगार रहेगी. 10 नंवबर की रात ने चाहर के भविष्य को नई दिशा दे दी है. टीम इंडिया की मजबूत गेंदबाजी लाइन-अप में एक और हथियार, चाहर के रुप में जुड़ गया है. नागपुर में बांग्लादेश के खिलाफ टी-20 सीरीज के आखिरी मुकाबले में चाहर, बांग्लादेश को अकेले चबा गए. जिस पिच पर गेंद स्विंग नहीं हो रही थी, उस पिच पर चाहर ने बांग्लादेश के बल्लेबाजों को खूब नचाया.

पहले देखिए कि दीपक चाहर ने टी-20 क्रिकेट में कैसे वो कारनामा किया, जिसके बारे में वो सपने में भी नहीं सोचे थे. मैच के 18वें ओवर और अपने स्पेल के तीसरे ओवर की आखिरी गेंद पर चाहर ने सैफीउल इस्लाम को पवेलियन भेज. मैच का 18वां ओवर करने के बाद, चाहर को कप्तान रोहित शर्मा ने आखिरी ओवर में गेंद थमाई. इस ओवर की पहली और दूसरी ही गेंद पर चाहर ने मुस्तफिजुर रहमान और अमीनुल इस्लाम को आउट कर हैट्रिक पूरी कर ली.

इस हैट्रिक के साथ टीम इंडिया ने मैच के साथ सीरीज भी अपने नाम कर लिया. दीपक चाहर ने कहा, ‘उन्होंने सपने में भी नहीं सोचा था कि वो हैट्रिक ले पाएंगे. वो बचपन से ही कड़ी मेहनत करने से पीछे नहीं हटे.’

बांग्लादेश पर चाहर कहर बनकर टूटे
तीसरे टी-20 मैच में उनके लिए कप्तान रोहित शर्मा ने खास प्लानिंग की थी, रोहित ने चाहर से अहम मौके पर गेंदबाजी कराई. पहले उन्हें मैच के तीसरे ओवर में गेंद थमाई गई फिर मैच के 13वें ओवर में गेंदबाजी कराई गई ,इसके बाद उन्हें मैच के 18 वें और मैच के आखिरी ओवर में गेंद दी गई.

टी-20 में दीपक चाहर हैट्रिक लेने वाले पहले भारतीय पुरुष गेंदबाज बन गए हैं. इसके साथ टी-20 में दुनिया के सबसे किफायती गेंदबाज बन गए हैं. दीपक ने 3.2 ओवर में 7 रन देकर 6 विकेट लिए इससे पहले श्रीलंका अंजता मेंडिस के नाम सबसे किफायती गेंदबाज का रिकॉर्ड था. मेंडिस ने साल 2012 में जिम्बाब्वे के खिलाफ 8 रन देकर 6 विकेट लिए थे.

बांग्लादेश के खिलाफ तीसरे टी-20 मैच में रोहित शर्मा ने दीपक चाहर का इस्तेमाल नई रणनीति के साथ किया. सबसे पहले चाहर को मैच के तीसरे ओवर में पहली बार रोहित ने गेंद थमाई. अपने पहले ही ओवर में चाहर ने दो लगातार गेंद पर लिटन दास और सौम्य सरकार को पवेलियन भेज दिया. चाहर ने सीरीज के 3 मैचों में 7 की औसत 8 विकेट लिए. अभी तक खेले 7 टी-20 मैचों में चाहर कुल 14 विकेट झटक चुके हैं.

इस साल चाहर हैट्रिक लेने वाले तीसरे भारतीय गेंदबाज हैं, इसी साल विश्व कप में मोहम्मद शमी ने अफगानिस्तान के खिलाफ हैट्रिक ली थी, जसप्रीत बुमराह ने भी इसी साल टेस्ट में वेस्टइंडीज के खिलाफ हैट्रिक ली थी.

दीपक चाहर स्विंग गेंदबाज हैं. वो गेंद को दोनों तरफ स्विंग कराने की काबिलियत रखते हैं. चाहर ने आईपीएल के साथ घरेलू क्रिकेट में अपने प्रदर्शन के दम पर टीम इंडिया में जगह बनाई है. पिछले साल ही उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ टी-20 में टीम इंडिया के लिए खेलने का मौका मिला था. चाहर ने अपनी गेंदबाजी में वेरिएशन से सबको प्रभावित किया है.

टी-20 विश्व कप के लिए टीम इंडिया का प्लान युवा गेंदबाजों का नया बिग्रेड तैयार करने का है..इस योजना में दीपक चाहर अपनी जगह पक्की करते दिख रहे हैं. टीम इंडिया के लिए भी ये अच्छी खबर ये भी है कि अगर टीम के दूसरे गेंदबाज फिटनेस और या फॉर्म लेकर चिंता का सबब बने तो , टीम के पास विकल्पों की कमी न रहे.