INDvsNZ: भारतीय गेंदबाजों ने सीरीज के पहले वनडे मैच में फेंके 54 ओवर!, देखना पड़ा हार का मुंह, Video

खबर का टाइटल थोड़ा हैरान कर रहा होगा लेकिन ये सही है. आज भारतीय गेंदबाजों ने 24 गेंदे यानी 4 ओवर ज्यादा फेंके.
India vs New Zealand, INDvsNZ: भारतीय गेंदबाजों ने सीरीज के पहले वनडे मैच में फेंके 54 ओवर!, देखना पड़ा हार का मुंह, Video

हैमिल्टन: भारत बनाम न्यूजीलैंड के बीच पहला मुकाबला बुधवार को खेला गया. भारत के अच्छा टारगेट देने के बाद भी टीम इंडिया को हार का मुंह देखना पड़ा. दरअसल, बुमराह को छोड़कर बाकी सभी गेंदबाज खासे महंगे साबित हुए है. सभी ने 7, 8 की एवरेज से गेंदबाजी की. वहीं न्यूजीलैंड टीम के बल्लेबाजों ने बेहतरीन बल्लेबाजी की जिससे ये कठिन स्कोर भी चेज किया गया.

खबर का टाइटल थोड़ा हैरान कर रहा होगा लेकिन ये सही है. आज भारतीय गेंदबाजों ने 24 गेंदे यानी 4 ओवर ज्यादा फेंके. दरअसल, भारतीय गेंदबाजों ने आज 29 रन एक्सट्रा दिए. न्यूजीलैंड ने भी 27 रन ज्यादा दिए. लेकिन भारतीय गेंदबाजों ने 24 गेंदे वाइड फेंकी. न्यूजीलैंड ने 19 गेंदे वाइड फेंकी.

न्यूजीलैंड के सबसे अनुभवी बल्लेबाज रॉस टेलर ने टी-20 की असफलता और पारी खत्म करने की कमी को दूर करते हुए बुधवार को बेहतरीन शतकीय पारी खेल अपनी टीम को भारत के खिलाफ खेले गए पहले वनडे मैच में चार विकेट से जीत दिलाई. भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए कीवी टीम के सामने 348 रनों की विशाल चुनौती रखी. न्यूजीलैंड ने टेलर (नाबाद 109) के 21वें शतक के दम पर इस लक्ष्य को संघर्ष करते हुए 48.1 ओवरों में छह विकेट खोकर हासिल कर लिया.

टेलर के अलावा हेनरी निकोलस ने 78 और कार्यवाहक कप्तान टॉम लाथम ने 69 रनों की पारी खेल टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई. यह न्यूजीलैंड द्वारा हासिल किया गया अभी तक का सबसे बड़ा लक्ष्य है. इससे पहले उसने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 2007 में इसी मैदान पर 347 रनों का लक्ष्य हासिल किया था.

भारत ने श्रेयस अय्यर के 103 रन, लोकेश राहुल के नाबाद 88 रन और कप्तान विराट कोहली की 51 रनों की पारियों के कारण 50 ओवरों में चार विकेट के नुकसान पर 347 रन बनाए. लगा था कि टी-20 की तरह भारत वनडे में भी न्यूजीलैंड को आसानी से हरा देगा. टेलर, निकोलस और लाथम की जोड़ी इसमें रोड़ा बन गई और न्यूजीलैंड ने तीन मैचों की वनडे सीरीज में 1-0 की बढ़त ले ली.

भारत ने न्यूजीलैंड को पांच मैचों की टी-20 सीरीज में 5-0 से रौंदा था. मेजबान टीम का आत्मविश्वास हिला हुआ था और ऊपर से भारत ने विशाल स्कोर कर उसके संकट को और बढ़ा दिया.

348 रनों के लक्ष्य के सामने कीवी टीम को मजबूत शुरुआत चाहिए थी जो उसे मिली. निकोलस और मार्टिन गुप्टिल (32) ने पहले विकेट के लिए 85 रन जोड़े. शार्दूल ठाकुर ने केदार जाधव के हाथों गुप्टिल को कैच करा उनकी पारी का अंत किया. अपना पहला वनडे खेल रहे टॉम ब्लंडल सिर्फ नौ रन बना सके. उन्हें कुलदीप यादव ने विकेटकीपर राहुल के हाथों 109 के कुल स्कोर पर स्टम्प कराया.

यहां अब टेलर ने कदम रखा. टी-20 सीरीज में दो बार टीम को जीत के करीब ले जाकर मझधार में छोड़ने वाले टेलर ने निकोलस के साथ धीरे-धीरे पारी बुनी. निकोलस और टेलर टीम के स्कोरबोर्ड को अच्छे से चला रहे थे. एक-दो रन के साथ टीम के लिए बाउंड्री भी ले रहे थे. इसी बीच निकोलस रन लेने के प्रयास में कोहली की बेहतरीन फील्डिंग का शिकार हो गए. निकोलस ने अपनी पारी में 82 गेंदों का सामना किया और 11 चौके मारे.

निकोलस के बाद टेलर को लाथम के रूप में अच्छा जोड़ीदार मिला. यहां लगा था कि मैच भारत की गिरफ्त में जा सकता है लेकिन इन दोनों ने आक्रामकता से पारी को आगे बढ़ाया. दोनों ने चौथे विकेट के लिए 138 रनों की साझेदारी की. लाथम को कुलदीप यादव ने 309 के कुल स्कोर पर आउट किया, लेकिन जाने से पहले वह टीम को जीत के काफी करीब ले जा चुके थे. लाथम ने 48 गेंदों की पारी में आठ चौके और दो छक्के लगाए.

लाथम के बाद कीवी टीम ने जेम्स नीशम (9) और कोलिन डी ग्रैंडहोम (1) के विकेट खोए लेकिन टेलर ने तय किया कि वो टीम को जीत दिलाकर लौटें और इस बार वह ऐसा करने में सफल रहे. टेलर ने मिशेल सैंटनर के साथ मिलकर टीम को जीत दिलाई.

टेलर ने 84 गेंदें खेलीं जिनमें से 10 पर चौके और चार पर छक्के मारे. सैंटनर नौ गेंदों पर एक चौके और एक छक्के की मदद से 12 रन बनाकर नाबाद रहे. इसी के साथ न्यूजीलैंड ने भारत के खिलाफ साल 2020 में पहली जीत हासिल की.

इससे पहले, लाथम ने टॉस जीतकर भारत को पहले बल्लेबाजी के लिए बुलाया. अय्यर ने मुश्किल समय में आते हुए कप्तान के साथ बेहतरीन साझेदारी की और 107 गेंदों पर 11 चौके तथा एक छक्के की मदद से शतकीय पारी खेली. कप्तान कोहली ने उनका अच्छा साथ दिया और फिर अंत में राहुल ने भी बेहतरीन बल्लेबाजी करते हुए भारत को 50 ओवरों में चार विकेट पर 347 रनों के स्कोर तक पहुंचाया.

भारत की ओर से नई सलामी जोड़ी पृथ्वी शॉ और मयंक अग्रवाल पदार्पण कर रहे थे. पृथ्वी ने जहां 20 रन बनाए तो मयंक ने 32 रन. दोनों ने पहले विकेट के लिए 50 रन जोड़ टीम को सधी हुई शुरूआत दी.

पृथ्वी अपने पहले वनडे में शुरुआत में गेंद को बल्ले के बीचों बीच ले नहीं पा रहे थे. विकेट पर कुछ देर टिकने के बाद उन्होंने लय हासिल करते हुए तीन शानदार चौके लगाए. इसी बीच लाथम ने विकेट लेने के लिए गेंदबाजी में बदलाव किया. कोलिन डी ग्रैंडहोम आए और अपने पहले ही ओवर में पृथ्वी का विकेट ले गए। पृथ्वी का कैच विकेटकीपर लाथम ने पकड़ा.

मयंक को टिम साउदी अपनी आउटस्विंगर से शुरू से ही परेशान कर रहे थे और ऐसी ही एक बाहर जाती छोटी गेंद पर मयंक ने कट खेला जो टॉम ब्लंडल ने पकड़ा. मयंक ने 31 गेंदों का सामना कर छह चौके लगाए. इसके बाद कप्तान कोहली और अय्यर ने कीवी गेंदबाजों के लिए मुश्किल पैदा कर दी. दोनों ने तीसरे विकेट के लिए 102 रनों की साझेदारी की.
कोहली ने अपना अर्धशतक पूरा किया. इसके तुरंत बाद वह लेग स्पिनर ईश सोढ़ी की गुगली को पढ़ नहीं पाए जो उनका विकेट ले गई. कप्तान का विकेट 156 के कुल स्कोर पर गिरा. कोहली ने अपनी पारी में 63 गेंदों का सामना करते हुए छह चौके मारे.

अय्यर पर कोहली के जाने के असर नहीं पड़ा. वह अपना खेल खेलते रहे। राहुल उनका अच्छा साथ दे रहे थे. अय्यर ने आसानी से अपने करियर का पहला अर्धशतक पूरा किया. लेकिन शतक पूरा करने के बाद वह साउदी की गेंद पर आउट हो गए. अय्यर 292 के कुल स्कोर पर आउट हुए। अय्यर और राहुल ने चौथे विकेट के लिए 136 रन जोड़े.

अय्यर के बाद राहुल और केदार जाधव ने तेजी से रन बना भारत को विशाल स्कोर तक पहुंचाया. राहुल ने अपनी नाबाद पारी में 64 गेंदों खेलीं जिनमें तीन पर चौके और चार पर छक्के लगाए. जाधव ने 15 गेंदों पर तीन चौके और एक छक्के की मदद से 25 रन बनाए. न्यूजीलैंड के लिए साउदी ने दो विकेट लिए. सोढ़ी और डी ग्रैंडहोम के हिस्से एक विकेट आया.

Related Posts