मोहाली में टीम इंडिया के सामने कौन होगा सबसे बड़ी चुनौती?

आईपीएल में अपनी आक्रामक बल्लेबाजी के लिए किंग्स इलेवन पंजाब की ओर से खेलने वाले डेविड मिलर को मिलर द किलर का तमगा यूं ही नहीं मिला है. मिलर ने 2013 में मोहाली के पीसीए स्टेडियम में आईपीएल का दूसरा सबसे तेज शतक जड़ा था.

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहला टी-20 मैच बारिश में धुलने के बाद अब टीम इंडिया मोहाली में होने वाले सीरीज के दूसरे मैच को लेकर अपनी तैयारियों को पुख्ता करने में जुटी है. यूं तो मोहाली का मैदान टीम इंडिया के लिए भाग्यशाली रहा है. लेकिन विरोधी टीम के तुरुप के इक्के यानी डेविड मिलर के लिए कप्तान कोहली को खास रणनीति बनानी होगी.

मिलर द किलर
आईपीएल में अपनी आक्रामक बल्लेबाजी के लिए किंग्स इलेवन पंजाब की ओर से खेलने वाले डेविड मिलर को मिलर द किलर का तमगा यूं ही नहीं मिला है. मिलर ने 2013 में मोहाली के पीसीए स्टेडियम में आईपीएल का दूसरा सबसे तेज शतक जड़ा था. उन्होंने आरसीबी के खिलाफ 38 गेंद पर 101 रन की नाबाद पारी खेलकर अपनी टीम को जीत दिलाई थी.

मोहाली मिलर का दूसरा होम ग्राउंड
दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी डेविड मिलर 2012 से लेकर अब तक किंग्स इलेवन पंजाब टीम का हिस्सा हैं. पंजाब का होम ग्राउंड मोहाली रहा है. इसी वजह से इस मैदान पर सबसे ज्यादा खेलने का अनुभव भी डेविड मिलर के पास है. मिलर के लिए मोहाली उनका दूसरा होम ग्राउंड रहा है.

इंटरनेशनल टी20 क्रिकेट में भी मिलर हैं घातक बल्लेबाज
मिलर का जलवा सिर्फ आईपीएल में ही देखने को नहीं मिला, बल्कि इंटरनेशनल टी20 क्रिकेट में भी डेविड मिलर गेंदबाजों के लिए किसी खौफ से कम नहीं है. मिलर ने अब तक कुल 70 टी-20 मैच में 1271 रन बनाए हैं. जिसमें उनका स्ट्राइक रेट 140 से ऊपर का रहा है. उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय टी20 क्रिकेट में भी 1 शतक जड़ा है.

भारत के खिलाफ शांत रहा मिलर का बल्ला
इन आंकड़ों के खेल में दिलचस्प बात ये हैं कि मिलर का बल्ला टीम इंडिया के खिलाफ ज्यादातर मुकाबलों में शांत रहा है. मिलर ने भारत के खिलाफ 7 मैच में 20.25 के खराब औसत के साथ कुल 81 रन जोड़े. जिसमें एक अर्धशतक तक वो नहीं लगा सके हैं. हालांकि ये सभी मैच भारत के बाहर खेले गए थे. अब तक भारतीय कंडिशन्स में टीम इंडिया के खिलाफ डेविड मिलर का टेस्ट होना बाकी है.

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच होने वाले मोहाली टी-20 में मिलर एक खतरनाक खिलाड़ी साबित हो सकते हैं. ऐसे में टीम इंडिया के गेंदबाजों को उनके खिलाफ सतर्क रहना होगा.