क्या 2015 की तरह ही धर्मशाला में फिर होगी रनों की बारिश?

2015 में खेले गए उस मुकाबले में कुल 399 रन बने थे. साउथ अफ्रीका ने 200 रन के लक्ष्य को हासिल किया था और मैच जीता था.
धर्मशाला, क्या 2015 की तरह ही धर्मशाला में फिर होगी रनों की बारिश?

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच टी-20 सीरीज का इंतजार अब खत्म होने को है. पहला मैच पहाड़ों के बीच बने धर्मशाला के खूबसूरत मैदान पर खेला जाएगा. इस मैदान पर दोनों टीम पहले भी टकरा चुकी हैं. जिसमें साउथ अफ्रीका ने टीम इंडिया को 7 विकेट से शिकस्त दी थी. जाहिर है दक्षिण अफ्रीका के लिए धर्मशाला की अच्छी यादें हैं.

आपको याद दिला दें कि 2015 में खेले गए उस मुकाबले में कुल 399 रन बने थे. साउथ अफ्रीका ने 200 रन के लक्ष्य को हासिल किया था और मैच जीता था. उस मैच को भले ही चार साल का वक्त बीत गया है लेकिन टी-20 का फॉर्मेट और दोनों टीमों के बल्लेबाज ऐसे हैं कि रविवार को होने वाले मैच में भी रनों की बरसात की उम्मीद लगाए हर कोई बैठा है.

सबसे पहले बात टीम इंडिया की. भारतीय टीम में इस फटाफट फॉर्मेट के कई स्पेशलिस्ट बल्लेबाज मौजूद हैं. जिसमें सबसे पहला नाम टीम के उपकप्तान रोहित शर्मा का आता है. रोहित शर्मा ने अब तक 96 इंटनेशनल टी-20 मैच खेले हैं जिसमें उन्होंने 4 सेंचुरी और 17 हॉफ सेंचुरी जड़ते हुए कुल 2422 रन बनाए हैं. उनका स्ट्राइक रेट 136.97 का है।धर्मशाला के इसी मैदान में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ ही उनकी एक तूफानी पारी भी है. जब उन्होंने 160 के शानदार स्ट्राइक रेट से 106 रन की शतकीय पारी खेली थी.

टी-20 में रोहित शर्मा का प्रदर्शन वैसे भी जबरदस्त रहा है. बात आईपीएल की कर लेते हैं. आईपीएल में रोहित के नाम एक शतक शामिल है. अब बात विराट कोहली की कर लेते हैं. विराट कोहली ने भले ही अंतर्राष्ट्रीय टी-20 मैच में शतक नहीं लगाया है लेकिन आईपीएल में वो धमाल कर चुके हैं. आईपीएल में 5 सेंचुरी अपने नाम कर चुके कप्तान विराट कोहली के इंटरनेशनल टी20 क्रिकेट में भी आंकड़े गेंदबाजों को परेशान करने वाले हैं. विराट ने 70 मुकाबलों में 2369 रन बनाए जिसमें उनका स्ट्राइक रेट 135.83 का रहा. विराट एक बार 90 रन बनाकर नाबाद भी लौटे.

टी-20 फॉर्मेट में टीम इंडिया के पास तीसरा बड़ा नाम केएल राहुल का है. केएल राहुल टी20 फॉर्मेट में अपनी छाप छोड़ चुके हैं. राहुल ने कुल 28 मैच में 148.10 के जबरदस्त स्ट्राइक रेट से 899 रन जोड़े हैं. जिसमें 2 शतक और 5 अर्धशतक भी उनके नाम हैं. इस साल आईपीएल में भी केएल राहुल की धूम देखने को मिली थी उन्होंने 14 मैच में 593 रन बनाते हुए 1 शतक भी लगाया था.

इन तीन स्पेशलिस्ट बल्लेबाजों के साथ साथ टीम इंडिया के पास दो ऐसे हरफनमौला खिलाड़ी टीम इंडिया के पास मौजूद हैं जिनके क्रीज पर खड़े होने का मतलब ही ताबड़तोड़ बल्लेबाजी का सुपरहिट शो होता है. ये दोनों खिलाड़ी हैं ऋषभ पंत और हार्दिक पांड्या. ये दोनों ही बल्लेबाज विश्व क्रिकेट में अपनी आक्रामकता के लिए जाने जाते हैं.

मेजबानों के बाद बात मेहमानों की. दक्षिण अफ्रीका टीम में कप्तान क्विंटन डी कॉक टीम इंडिया को चुनौती देते हुए दिख रहे हैं. क्विंटन डी कॉक ने अब तक कुल 36 टी-20 मैच में 887 रन बनाए हैं जिसमें उनका स्ट्राइक रेट 127.07 का रहा. आईपीएल के इस सीजन में डी उनके बल्ले से खूब रन निकले. उन्होंने 132.91 के स्ट्राइक रेट से 529 रन बनाते हुए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाजों की फेहरिस्त में तीसरी पायदान पर कब्जा किया था. ये आंकड़े इस बात की गवाही देने के लिए काफी हैं कि क्विंटन डी कॉक को भारतीय कंडिशन्स कितनी रास आती हैं.

वहीं अनुभवी डेविड मिलर अपनी आक्रामक बल्लेबाजी के लिए द किलर के नाम से जाने जाते हैं. मिलर का इंटरनेशनल टी20 में स्ट्राइक रेट 140 से ज्यादा का है और टी20 में उन्होंने एक शतक भी जड़ा है.

भारतीय गेंदबाजों को दक्षिण अफ्रीका के उपकप्तान से भी बचकर रहना होगा. 7 टी20 मैचों का अनुभव लिए टीम के उपकप्तान रेसी वैन डेर डूसन ने 133.15 की स्ट्राइक रेट से 253 रन बनाए हैं. इनके अलावा इंडिया ए के खिलाफ शानदार प्रदर्शन करने वाले रीजा हेंडरिक्स भी साउथ अफ्रीका टीम की बल्लेबाजी को ताकत देते हैं. रविवार को स्टेडियम पहुंचने वाले क्रिकेट फैंस का पैसा यही बल्लेबाज वसूल कराएंगे. इन बल्लेबाजों में आक्रामकता और दम-खम का शानदार मेल है. ध्यान बस इस बात का रखना होगा कि शुरूआती कुछ गेंदों पर नजर जमाने के बाद ही हमला बोला जाए.

Related Posts