केएल राहुल के लिए विराट का बयान बढ़ा सकता है शिखर की मुश्किलें

कप्तान विराट कोहली ने कहा, ‘शिखर अनुभवी हैं लेकिन केएल राहुल बहुत अच्छा खेल रहे हैं. हमें फैसला लेना होगा कि बेस्ट इलेवन कौन होंगे.’
india vs sri lanka, केएल राहुल के लिए विराट का बयान बढ़ा सकता है शिखर की मुश्किलें

श्रीलंका के खिलाफ टी-20 सीरीज में रोहित शर्मा की गैर मौजूदगी में केएल राहुल को टीम इंडिया के लिए बड़ी जिम्मेदारी निभानी होगी. पिछले साल केएल राहुल का एक अलग अंदाज देखने को मिला. नए साल में राहुल का धमाल एक बार फिर देखने को मिल सकता है. वैसे केएल राहुल ने नए साल का जश्न और दोस्तों के साथ छुट्टियां भी मना ली हैं. अब मैदान पर छक्के चौके लगाने का वक्त है और केएल राहुल इसके लिए तैयार हैं. पिछले साल राहुल ने जहां अपनी पारी खत्म की थी, वहीं से वो इस साल शुरुआत करना चाहेंगे.

पिछले 4 मैच में 3 अर्धशतक

52…62…11…91 रन. ये टी-20 में केएल राहुल की पिछली 4 पारियां हैं जो उनकी कंसिस्टेंट परफॉर्मेंस और कमाल की बल्लेबाजी की गवाह हैं. केएल राहुल वो बल्लेबाज हैं जिन्होंने टीम इंडिया में अपनी जगह बनाई नहीं बल्कि कमाई है.

चुनौती पर खरे उतरे

खिलाड़ी वही जो चुनौतियां स्वीकार करे. राहुल ने भी की और नतीजा सामने है. पिछले 4 टी-20 में राहुल ने करीब 150 के स्ट्राइक रेट से रन बनाए हैं. वेस्टइंडीज के खिलाफ मुंबई टी-20 में तो राहुल ने 162 की स्ट्राइक रेट से 56 गेंद पर 91 रन जोड़े. वो मुंबई में अपने शतक के लिए नहीं बल्कि टीम के लिए ज्यादा से ज्यादा रन बनाने के लिए खेले और मैन ऑफ द मैच चुने गए. हैदराबाद टी-20 में भी राहुल ने दमदार पारी खेली उन्होंने 62 रन बनाए. ये भी बता दें कि पिछले साल राहुल ने 9 मैच में 44.5 की औसत से 356 रन जोड़े. राहुल को हर मैच में मौका नहीं मिला लेकिन जो मौका मिला उसमें उन्होंने चौका लगाया.

राहुल ने कहा था कि, ‘टीम से बाहर होने के बाद टीम में वापसी करना आसान नहीं होता. टीम से बाहर रहना किसी भी खिलाड़ी के लिए आसान नहीं होता. वापसी के बाद मैदान में जाकर किसी भी टीम के खिलाफ रन करना आसान नहीं होता. ऐसा नहीं हो सकता है कि मैं टीम से बाहर हूं तो बैठा रहूं मैं हर समय वापसी की तैयारी कर रहा होता हूं. इसीलिए मैंने कई फर्स्ट क्लास मैच भी खेले. मेरी कोशिश होती है कि मैदान में जाकर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करूं.’

केएल राहुल ने जो कहा वो कर दिखाया और अब तो वो टीम इंडिया में अपनी जगह बहुत मजबूत कर चुके हैं. राहुल की कामयाबी का अंदाजा इस बात से लग जाता है कि वो ICC की टी-20 रैंकिंग में विराट और रोहित शर्मा से आगे हैं. टी-20 के टॉप बल्लेबाजों की फेहरिस्त में राहुल छठे नंबर पर हैं जबकि रोहित 9वें और विराट 10वें रैंक पर.

शिखर के लिए चुनौती

एक कप्तान को अपने बल्लेबाज से भरोसा चाहिए होता है कि वो हर मुश्किल परिस्थिति में रन बना सकता है. राहुल वो भरोसा जीत चुके हैं लेकिन इसी के साथ राहुल ने शिखर के लिए चुनौती भी खड़ी कर दी है. पिछले साल टी-20 में राहुल ने जहां 44 की औसत से रन बनाए, वहीं शिखर ने 22 की औसत से रन जोड़े. श्रीलंका के खिलाफ दोनों खिलाड़ी एक साथ मैदान पर टीम इंडिया को जीत दिलाने के लिए उतरेंगे लेकिन एक लड़ाई इनकी आपस में भी होगी और वो होगी टी-20 वर्ल्ड कप में जगह की. राहुल ने अपने प्रदर्शन से टीम में इतनी मजबूत नीव रख दी है कि वो अगले साल होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप के लिए लगभग पक्के हो चुके हैं.

खुद कप्तान विराट कोहली कह चुके हैं कि रोहित शर्मा की टीम में वापसी के बाद उनके लिए ये तय करना मुश्किल होगा कि कौन से दो खिलाड़ी उनके सलामी बल्लेबाज होंगे.

विराट ने कहा, ‘राहुल बेहतरीन प्रदर्शन कर रहे हैं और टीम को इसका फायदा हो रहा है. हम जानते हैं कि वो टॉप ऑर्डर में कितनी शानदार बल्लेबाजी कर सकते हैं. हम उनके लिए खुश हैं. ऐसा होता है, जब कोई खिलाड़ी इंजरी की वजह से बाहर हो और उनके विकल्प के तौर पर आया खिलाड़ी टीम के लिए रन बनाए. आप ये देखते हैं कि किसी टूर्नामेंट में कौन कितना अच्छा कर रहा ताकि सबसे मजबूत प्लेइंग इलेवन बनाई जा सके. शिखर को इंजरी का सामना करना पड़ा, लेकिन वो अनुभवी खिलाड़ी हैं. टीम ऐसे ही काम करती है, सभी 15 खिलाड़ियों को खेलने का मौका नहीं मिलता. रोहित की वापसी के बाद फैसला लेना मुश्किल होगा. शिखर अनुभवी हैं लेकिन केएल राहुल बहुत अच्छा खेल रहे हैं. हमें फैसला लेना होगा कि बेस्ट इलेवन कौन होंगे.’

विराट का इशारा साफ है कि केएल राहुल बतौर ओपनर शिखर पर भारी पड़ रहे हैं लेकिन टी-20 वर्ल्ड से पहले टीम इंडिया को अभी भी करीब 19 मैच खेलने हैं. ऐसे में शिखर धवन और केएल राहुल के बीच इन 20 मैच में खुद को साबित करने का काफी मौका होगा.

Related Posts