INDvsWI: रविंद्र जडेजा रन आउट मामले में बोले कोहली, बाहर बैठे लोग मैच नहीं चला सकते

भारतीय कप्तान ने कहा, 'यह बात साफ है जब फील्डर ने पूछा, 'हाउ इज देड' और अंपायर ने कह दिया 'नॉट आउट' तो बात खत्म हो जाती है. बाहर बैठे लोग मैच नहीं चला सकते.
Virat Kohli, INDvsWI: रविंद्र जडेजा रन आउट मामले में बोले कोहली, बाहर बैठे लोग मैच नहीं चला सकते

वेस्ट इंडीज ने भारत को पहले वनडे मैच में 8 विकेट से हरा दिया. वेस्टइंडीज ने टॉस जीतकर भारत को पहले बल्लेबाजी का न्यौता दिया था. पहले बल्लेबाजी का न्योता मिलने पर श्रेयस अय्यर (70) और ऋषभ पंत (71) के बदौलत 8 विकेट पर 287 रन बनाए. पहले मैच में भारत के दोनों स्टार बल्लेबाज रोहित शर्मा और विराट कोहली बल्ले से कोई खास प्रदर्शन नहीं कर पाए.

जवाब में वेस्ट इंडीज ने शिमरॉन हेटमायर 139 और शे होप के नाबाद 102 रनों की बदौलत 2 विकेट पर 291 रन बनाकर मैच जीत लिया. मैच के दौरान रविंद्र जडेजा का रन आउट सुर्खियों में रहा. इस मामले में कप्तान कोहली ने भी गुस्सा जाहिर किया है.

भारतीय कप्तान ने कहा, ‘यह बात साफ है जब फील्डर ने पूछा, ‘हाउ इज देड’ और अंपायर ने कह दिया ‘नॉट आउट’ तो बात खत्म हो जाती है. बाहर बैठे लोग मैच नहीं चला सकते. बाहर बैठे लोग टीवी देखकर फील्डर्स को नहीं कह सकते कि अंपायर के फैसले को दोबारा रिव्यू किया जाए. मैंने क्रिकेट में ऐसा होते कभी नहीं देखा.’

कप्तान कोहली ने कहा, ‘मैं नहीं जानता कि नियम क्या हैं, कहीं न कहीं तो लाइन खींचनी पड़ेगी. मुझे लगता है कि रेफरी और अंपायर्स को इस बात को ध्यान देना चाहिए. हमें देखना चाहिए कि क्रिकेट में सही चीज होनी चाहिए. बाहर बैठे लोग मैच निर्धारित नहीं कर सकते और यहां ऐसा ही हुआ.’

हालांकि वेस्ट इंडीज के कप्तान किरेन पोलार्ड ने कहा कि अंत में सही फैसला हुआ. मैच प्रजेंटेशन के दौरान उन्होंने कहा, ‘मेरे लिए अहम बात यह है कि अंत में सही फैसला हुआ जो कि काफी अहम है. वहां अंपायर ने समय पर फैसला नहीं लिया लेकिन आखिर में सही निर्णय लिया गया.’

चेन्नई के एमए चिदंबरम स्टेडियम में भारतीय पारी के 48वें ओवर में जडेजा ने तेजी से एक रन चुराने की कोशिश की लेकिन फील्डर ने तेजी दिखाते नॉन-स्ट्राइकर जोन पर विकेट पर सीधा थ्रो मारा. अंपायर शॉन जॉर्ज ने शुरुआत में उन्हें आउट नहीं दिया लेकिन रिव्यू में देखा गया कि जडेजा अपनी क्रीज तक नहीं पहुंच पाए थे. हालांकि वेस्ट इंडीज के खिलाड़ियों ने कोई जोरदार अपील नहीं की थी.

मैदान पर मौजूद अंपायर ने काफी देर से तीसरे अंपायर से निर्णय पूछा. हालांकि तब तक स्क्रीन पर पूरा घटनाक्रम दिखाया जा चुका था. रोस्टन चेज ने मिड-विकेट से सीधा थ्रो विकेट में मारा था, उन्होंने अंपायर से अपील भी की थी लेकिन अंपायर ने आउट नहीं दिया था.

Related Posts