फाइनल में ठंडे पड़ जाते हैं पीवी सिंधु के पांव, रियो ओलंपिक के बाद गंवाए 11 खिताबी मुकाबले

ओलंपिक रजत पदक विजेता भारत की स्टार महिला बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधू का इस साल पहला खिताब जीतने का सपना एक बार फिर चकनाचूर हो गया.

pv sindhu

नई दिल्ली. स्टार भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी व रियो ओलंपिक रजत पदक विजेता पीवी सिंधु का इस साल पहला खिताब जीतने का सपना एक बार फिर टूट गया. उन्हें जापान की अकाने यामागुची से इंडोनेशिया ओपन में 15-21, 16-21 से हार मिली.

सिंधु रविवार को इंडोनेशिया ओपन का फाइनल खेलने उतरीं तो उम्मीद थी कि वह साल का पहला खिताब जीत लेंगी. टूर्नामेंट में वह शानदार फॉर्म में थी लेकिन जापान की अकाने यामागुची ने उन्हें सीधे गेम में हराते हुए उनका खिताब जीतने का सपना तोड़ दिया. यामागुची ने ये मुकाबला 51 मिनट में 21-15, 21-15 से जीता.

मैच की बात करें तो पहले गेम में सिंधु की शुरुआत अच्छी रही और एक समय स्कोर 8-8 से बराबर था. इसके बाद, सिंधु ने 11-8 से बढ़त बना ली. चौथी सीड की जापानी खिलाड़ी यामागुची ने दमदार वापसी की और सिंधु को कोई मौका न देते हुए 21-15 से गेम जीत लिया. दूसरे गेम में भी सिंधु ने यामागुची को टक्कर दी, लेकिन जीत दर्ज नहीं कर पाईं.

मैच गंवाने के बाद उन्होंने कहा, “जहां मुझे पॉइंट्स बनाने चाहिए थे, वहां मैंने गलतियां कीं. मेरे ख्याल से यह अलग खेल था. रैलियां काफी फास्ट रहीं.” साथ ही उन्होंने कहा कि “खिलाड़ियों में बहुत अंतर नहीं है. टॉप-10 एक ही लेवल की खिलाड़ी हैं. मैच में जो अच्छा खेलता है उसी की जीत होती है. यह मेरा दिन नहीं था.”

सिंधु रियो ओलंपिक के बाद से अब तक 11 फाइनल हार चुकी हैं. रियो ओलंपिक 2016 में सिल्वर मेडल जीतने वाली पहली भारतीय शटलर सिंधु ने तब से अब तक 16 खिताबी मुकाबले खेले हैं, लेकिन सिर्फ 5 में ही जीत दर्ज कर सकी हैं, जबकि 11 बार उन्हें फाइनल में हार मिली है. आंकड़े-

अगस्त, 2016: vs कैरोलिना मारिन (ओलंपिक फाइनल)
नवंबर, 2016: vs ताई जू यिंग (हॉन्ग कॉन्ग ओपन)
अगस्त, 2017: vs नाजोमी ओकुहारा (वर्ल्ड चैंपियनशिप)
नवंबर, 2017: vs ताई जू यिंग (हॉन्ग कॉन्ग ओपन)
दिसंबर, 2017: vs अकाने यामागुची (वर्ल्ड सुपर सीरीज फाइनल्स, दुबई)
फरवरी, 2018: vs बेईवेन झांग (इंडिया ओपन)
अप्रैल, 2018: vs साइना नेहवाल (कॉमनवेल्थ गेम्स, गोल्ड कोस्ट)
जुलाई, 2018: vs नाजोमी ओकुहारा ( थाइलैंड ओपन)
अगस्त, 2018: vs कैरोलिना मारिन (वर्ल्ड चैंपियनशिप, चीन)
अगस्त, 2018: vs ताई जू यिंग (एशियन गेम्स, जकार्ता)
जुलाई, 2019: vs अकाने यामागुची (इंडोनेशिया ओपन)

ये भी पढ़ें: ‘देश को सम्मान दिलाने के लिए खूब मेहनत करूंगी’, पीएम मोदी से बोलीं हिमा दास

ये भी पढ़ें: वर्ल्ड कप फाइनल में ओवरथ्रो की गलती पर अंपायर धर्मसेना ने कहा- कोई मलाल नहीं

Related Posts