आधुनिक दौर के सबसे बड़े खिलाड़ी हैं धोनी, संन्यास पर नहीं चाहिए किसी की सलाह

महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) भारतीय क्रिकेट टीम से करीब 11 महीने से दूर हैं. बार-बार उनका हर सीरीज के चयन से पहले खुद की उपलब्धता से इंकार करना लगातार उनके संन्यास की ओर इशारा कर रहा था.
Mahendra Singh Dhoni, आधुनिक दौर के सबसे बड़े खिलाड़ी हैं धोनी, संन्यास पर नहीं चाहिए किसी की सलाह

भारतीय टीम (Indian Cricket Team) को 2011 विश्व कप (World Cup) जिताने में एक जोड़ी की सबसे बड़ी भूमिका थी. वो जोड़ी थी कप्तान और कोच की. महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) और गैरी कर्स्टन (Gary Kirsten) की सुपरहिट जोड़ी. इन दोनों की समझ और सोच का ही नतीजा था कि भारतीय टीम ने 28 साल बाद विश्व कप जीतकर करोड़ों हिंदुस्तानियों के सपने पूरे किए थे. अब टीम इंडिया में ना गैरी कर्स्टन हैं और ना ही धोनी की मौजूदगी. लेकिन आज इस जोड़ी की चर्चा के पीछे एक खास वजह है. गैरी कर्स्टन ने धोनी के बारे में बोलते हुए कई बड़ी बातें की. गैरी ने कहा कि धोनी आधुनिक दौर के महान खिलाड़ी हैं.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

धोनी के संन्यास पर गैरी का बड़ा बयान

2011 विश्व कप का आगाज भारत ने बांग्लादेश के खिलाफ मीरपुर से किया था. मैच से एक दिन पहले टीम ने प्रैक्टिस की. प्रैक्टिस के बाद सभी खिलाड़ी अपने होटल लौट गए. लेकिन गैरी वहीं मैदान पर अकेले बैठे रहे. जब उनसे पूछा कि आप यहां अकेले क्यों बैठे हैं तो गैरी ने जवाब दिया कि मैं ये देखना चाहता हूं कि ड्यू यानी ओस का कितना असर खेल पर पड़ सकता है. ये वो कुछ इनपुट्स होते थे जो कप्तान धोनी को गैरी मैच के दौरान फैसले लेने के लिए देते थे. बांग्लादेश के खिलाफ ये मैच इस लिहाज से बेहद अहम था क्योंकि 2007 में बांग्लादेश ने भारत को बाहर का रास्ता दिखाया था. हालांकि 2011 में ऐसा कुछ नहीं हुआ. भारत ने ना सिर्फ बांग्लादेश के खिलाफ अपने विश्व कप का आगाज जीत से किया बल्कि विश्व चैंपियन भी बना.

अब गैरी कर्स्टन ने धोनी के संन्यान के बारे में चल रही चर्चा से लेकर और उनके व्यक्तित्व के बारे में कई बयान दिए हैं. गैरी ने कहा कि धोनी ने वो हक कमाया है कि वो खुद अपनी शर्तों पर अपना फैसला लें कि उन्हें कब संन्यास लेना है. किसी को उन्हें बोलने की जरूरत नहीं होनी चाहिए. धोनी एक शानदार क्रिकेटर हैं. उनकी समझदारी, शांत स्वभाव, ताकत, एथलेटिक, गति और मैच विनिंग जैसी खासियत उन्हें बाकियों से अलग करती है. और उन्हें आधुनिक दौर का महान खिलाड़ी बनाती हैं.

धोनी से बिल्कुल अगल है विराट की कप्तानी

अब टीम इंडिया (Team India) की कमान विराट कोहली (Virat Kohli) के हाथों में है. हेड कोच की जिम्मेदारी रवि शास्त्री (Ravi Shastri ) निभा रहे हैं. गैरी की कोचिंग में विराट भी टीम का हिस्सा रहे थे. गैरी से जब पूछा गया कि विराट और धोनी की कप्तानी में उन्हें क्या फर्क दिखता है. गैरी ने जवाब दिया कि विराट और धोनी दोनों की कप्तानी का तरीका एक दूसरे से बिल्कुल अलग है. लेकिन उतना ही टीम इंडिया के लिए प्रभावशाली भी है.

महेंद्र सिंह धोनी भारतीय क्रिकेट टीम से करीब 11 महीने से दूर हैं. बार-बार उनका हर सीरीज के चयन से पहले खुद की उपलब्धता से इंकार करना लगातार उनके संन्यास की ओर इशारा कर रहा था. उसके बाद आईपीएल से धोनी की मैदान पर वापसी की बात कही जा रही थी. लेकिन कोरोना की वजह से आईपीएल भी स्थगित हो गया. इसके बाद आए दिन कोई ना कोई धोनी के क्रिकेट भविष्य पर टिप्पणी कर रहा है. वहीं गैरी कर्स्टन का मानना है कि धोनी ने अपने खेल से वो मुकाम हासिल किया है कि वो खुद अपना भविष्य तय करने का अधिकार रखते हैं. उन्हें ही तय करना है कि वो कब क्रिकेट को अलविदा कहेंगे. किसी और को उन्हें ये बताने कि जरूरत नहीं है कि उन्हें कब क्या करना है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts