भारतीय खिलाड़ी मनोज तिवारी ने सेलेक्शन पर उठाए सवाल, कहा – लाइव हो टीम इंडिया का चयन

34 साल के मनोज तिवारी पिछले पांच साल से टीम इंडिया से पूरी तरह बाहर हैं. उन्होंने आखिरी इंटरनेशनल मैच 2015 में जिम्बाब्वे के खिलाफ खेला था. लेकिन अब मनोज तिवारी टीम इंडिया के सेलेक्शन को लेकर दिए अपने एक बयान की वजह से सुर्खियों में हैं.
Indian player Manoj Tiwari, भारतीय खिलाड़ी मनोज तिवारी ने सेलेक्शन पर उठाए सवाल, कहा – लाइव हो टीम इंडिया का चयन

पिछले काफी वक्त से टीम इंडिया के सेलेक्शन को लेकर सवाल उठ रहे हैं. कई पूर्व खिलाड़ी और कई ऐसे खिलाड़ी जो टीम से काफी वक्त से बाहर हैं, उन्होंने सेलेक्टर्स पर कई बार निशाना साधा है. अब इस कड़ी में भारतीय क्रिकेट टीम से करीब 6 साल से बाहर बैठे मनोज तिवारी का नाम भी जुड़ गया है. मनोज तिवारी ने सेलेक्शन पर सवाल उठाते हुए कहा कि लाइव होनी चाहिए चयन प्रक्रिया ताकि खिलाड़ियों को पता चले क्यों नहीं हुआ सेलेक्शन.

‘खिलाड़ियों को पता चले क्यों नहीं हुआ चयन’

34 साल के मनोज तिवारी पिछले पांच साल से टीम इंडिया से पूरी तरह बाहर हैं. उन्होंने आखिरी इंटरनेशनल मैच 2015 में जिम्बाब्वे के खिलाफ खेला था. लेकिन अब मनोज तिवारी टीम इंडिया के सेलेक्शन को लेकर दिए अपने एक बयान की वजह से सुर्खियों में हैं. एक लाइव चैट करते हुए मनोज तिवारी ने कहा कि ‘टीम का चयन टीवी पर लाइव आना चाहिए, जिससे हम देख सकें कि कौन से सेलेक्टर किस खिलाड़ी के बारे में क्या कह रहे हैं. इससे हमें पता चलेगा कि खिलाड़ी का चयन सही था या नहीं.’

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

मनीष ने आगे कहा, ‘हम जब भी चयनकर्ताओं से पूछते हैं कि हमें टीम में क्यों नहीं चुना गया तो वो एक-दूसरे पर दोष मढ़ते रहते हैं. इसलिए चीजें साफ करने के लिए चयनकर्ताओं की बैठक लाइव होनी चाहिए. हमने कई मामले ऐसे देखे हैं जब खिलाड़ी को टीम में जगह नहीं मिलती तो सेलेक्टर्स उन्हें इसकी वजह तक नहीं बताते. अगर आप ऐसा नहीं करेंगे तो खिलाड़ी जरूर सवाल करेंगे. हमने मुरली विजय, करुण नायर, श्रेयस अय्यर को कहते सुना है कि उन्हें टीम से बाहर करने से पहले किसी सेलेक्टर ने बात नहीं की.

चार साल तक तय नहीं कर पाए नंबर-4 बल्लेबाज

इसके साथ ही मनोज तिवारी ने टीम इंडिया की सबसे बड़ी कमजोरी नंबर-4 बल्लेबाज का मुद्दा भी उठाया. उन्होंने कहा कि ‘सेलेक्टर्स के पास नंबर-4 बल्लेबाज ढूंढने के लिए पूरे चार साल का वक्त था. लेकिन वो ये तय नहीं कर पाए कि कौन नंबर चार के लिए सही विकल्प होगा. इस गलती की वजह से हम विश्व कप 2019 के सेमीफाइनल में हार गए. जब उनके पास नंबर 4 के बल्लेबाज के लिए इतना समय था तो ऐसी गलती नहीं होनी चाहिए थी. इससे पता चलता है कि सेलेक्शन में परेशानी है.’

मनोज तिवारी का क्रिकेट करियर

मनोज तिवारी ने अपने अब तक के करियर में 12 वनडे मैच खेले हैं. इसमें उन्होंने 26.09 की औसत से 287 रन बनाए थे. इस दौरान उनके बल्ले से एक शतक और एक अर्धशतक निकला था. मनोज तिवारी ने इसके अलावा तीन टी-20 मैच भी खेले जिसमें वो सिर्फ 15 रन ही जोड़ पाए.

Related Posts