तमाम एहतियात के साथ खेले जाएंगे IPL के मैच, जानिए खिलाड़ियों को मानने होंगे कौन-कौन से नियम

IPL 2020 का आयोजन सितंबर में UAE में होना है. ‘बायो सिक्योर एनवायरमेंट प्रोटोकॉल’ को तोड़ने वाले खिलाड़ियों और सपोर्ट स्टाफ़ को IPL के कोड ऑफ़ कंडक्ट के मुताबिक़ सज़ा मिलेगी. इसके साथ ही और भी नियम तय किए गए हैं.
IPL 2020 SOP, तमाम एहतियात के साथ खेले जाएंगे IPL के मैच, जानिए खिलाड़ियों को मानने होंगे कौन-कौन से नियम
IPL

इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के आयोजन के लिए ज़रूरी स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर (SOP) तय कर दिए गए हैं. सभी टीमों को ये दस्तावेज़ दे भी दिया गया है.

इस SOP के मुताबिक़ सभी 8 टीमों के लिए अलग अलग होटल, सभी खिलाड़ियों के लिए UAE रवाना होने से पहले दो बार कोरोना का निगेटिव टेस्ट और बायो सिक्योर प्रोटोकॉल को तोड़ने पर सज़ा के बारे में जानकारी दे दी गई है.

इसके अलावा ये भी कहा गया है कि सभी फ़्रेंचाइज़ी के साथ जो मेडिकल टीम होगी वो सभी खिलाड़ियों और सपोर्ट स्टाफ़ के 1 मार्च से अब तक की ‘ट्रैवल हिस्ट्री’ की जानकारी रखेगी. आईपीएल का आयोजन सितंबर में यूएई में होना है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

हर पांचवे दिन होगा खिलाड़ियों का कोरोना टेस्ट

SOP के मुताबिक़ सभी भारतीय खिलाड़ियों और सपोर्ट स्टाफ़ को UAE पहुंचने के एक हफ़्ते पहले कोरोना टेस्ट दो बार कराना होगा. इसका मक़सद ये है कि जितने भी खिलाड़ी उड़ान भर रहे हैं उसमें आपस में किसी भी तरह के संक्रमण के फैलने का ख़तरा ना रहे.

‘बायो सिक्योर एनवायरमेंट प्रोटोकॉल’ को तोड़ने वाले खिलाड़ियों और सपोर्ट स्टाफ़ को IPL के कोड ऑफ़ कंडक्ट के मुताबिक़ सज़ा मिलेगी. अगर कोई खिलाड़ी कोरोना पॉज़िटिव पाया जाता है तो उसे 14 दिन के लिए क्वारंटीन किया जाएगा.

इसके बाद वो टीम से उसी सूरत में जुड़ पाएगा जब उसके दो टेस्ट निगेटिव आए. विदेशी खिलाड़ियों और सपोर्ट स्टाफ़ पर भी यही नियम लागू होंगे. इसके अलावा UAE पहुंचने पर पहले, तीसरे और छठे दिन कोरोना का टेस्ट किया जाएगा. इसके अलावा टूर्नामेंट के दौरान सभी खिलाड़ियों का हर पांचवें दिन टेस्ट होगा.

खिलाड़ियों के लिए ज़रूरी दिशा निर्देश

टीम के खिलाड़ियों को होटल में अलग-अलग ‘विंग’ में कमरा लेने की सलाह दी गई है. दो बार कोरोना टेस्ट निगेटिव आने के बाद खिलाड़ी एक दूसरे से बायो सिक्योर एनवायरमेंट में मिल सकते हैं. लेकिन उस दौरान भी चेहरे पर मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना ज़रूरी होगा.

एक साथ खाना खाने से भी बचने की सलाह खिलाड़ियों को दी गई है. इसके अलावा स्टेडियम में ट्रेलिंग रूम के पास जो ख़ाली कुर्सियां होंगी उसे ड्रेसिंग रूम के विस्तार के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है.

SOP में ये भी कहा गया है कि खिलाड़ी अपने परिवार के साथ जा सकते हैं लेकिन उन्हें टीम बस में यात्रा की सुविधा नहीं होगी. और वो बायो बबल से बाहर नहीं निकल सकते. टॉस के वक्त टीम के प्लेइंग-11 के लिए जानकारी कागज़ पर साझा करने की बजाए इलेक्ट्रॉनिक शीट्स के इस्तेमाल की बात कही गई है.

Related Posts