नाम चौकाएंगे लेकिन ये दो खिलाड़ी हैं ‘प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट’ के सबसे बड़े दावेदार

न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियम्सन ने यहां ऐतिहासिक लॉर्डस मैदान पर आईसीसी विश्व कप-2019 के फाइनल में इंग्लैंड के खिलाफ टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का निर्णय लिया है.
जोफ्रा आर्चर, नाम चौकाएंगे लेकिन ये दो खिलाड़ी हैं ‘प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट’ के सबसे बड़े दावेदार

लंदन. सर्वाधिक रन देखें या सर्वाधिक विकेट देखें तो इंग्लैंड के सलामी बल्लेबाज जेसन रॉय और इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर टॉप पर नहीं हैं. लेकिन ये वो दो खिलाड़ी हैं, जिनका इस टूर्नामेंट में अपनी टीम को फाइनल तक पहुंचाने में बहुत बड़ा योगदान रहा है. सर्वाधिक रन की बात करें तो टीम इंडिया के रोहित शर्मा टॉप पर हैं और सर्वाधिक विकेट के मामले में ऑस्ट्रेलिया मिचेल स्टार्क टॉप पर हैं. टूर्नामेंट में सर्वाधिक ‘इम्पैक्ट’ की बात की जाए तो रॉय और आर्चर टॉप पर आते हैं, वहीं न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन इस मामले में तीसरे नंबर पर आते दिखाई दे रहे हैं.

हालांकि, अभी फाइनल मुकाबला बाकी है और इन तीनों खिलाड़ियों में किसे ‘प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट’ चुना जाएगा ये उनके फाइनल के प्रदर्शन पर भी निर्भर करेगा. जानते हैं आर्चर और रॉय को क्यों चुना जा सकता हैं प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट-

जेसन रॉय 

इंग्लैंड के लिए ओपनिंग करने वाले जेसन रॉय ने इस टूर्नामेंट में सिर्फ 6 मुकाबले खेले हैं और इन मुकाबलों में उन्होंने मजबूत टीमों के खिलाफ महत्वपूर्ण पारियां खेली हैं. रॉय ने 6 पारियों में 71.00 की औसत और 117.03 की स्ट्राइक रेट से 426 रन बनाए हैं. वह सिर्फ एक मुकाबले में फिफ्टी से कम के स्कोर पर आउट हुए. उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 54, पाकिस्तान के खिलाफ 8, बांग्लादेश के खिलाफ 153, भारत के खिलाफ 66, न्यूजीलैंड के खिलाफ 60 और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 85 रन की पारी खेली है.

रॉय ने सेमीफाइनल में अपनी टीम के लिए 85 रन की शानदार पारी खेली. उनकी इस पारी की बदौलत इंग्लैंड आसानी से फाइनल में पहुंचा. रॉय 4 मैचों के लिए इंग्लैंड टीम से बाहर रहे थे, इनमे से 2 मैच इंग्लैंड ने गंवा दिए थे. एक समय ऐसा लगा था कि इंग्लैंड के लिए सेमीफाइनल में पहुंचना मुश्किल हो जाएगा, लेकिन रॉय की वापसी के साथ टीम ने फिर जीत की राह पकड़ी और फाइनल में पहुंचने में कामयाब रही. लगभग इन सभी मैचों में रॉय ने टीम को अच्छी शुरुआत दिलाई.

अगर रॉय फाइनल मुकाबले में एक अच्छी पारी खेलने में कामयाब रहते हैं तो उनको ‘प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट’ चुना जाना लगभग पक्का हो जाएगा.

जोफ्रा आर्चर 

आर्चर इस टूर्नामेंट में विकेट लेने के मामले में 19 विकेट के साथ तीसरे नंबर पर हैं. आर्चर का विकेट लेने का औसत 22.05 का रहा है और उन्होंने 4.61 इकॉनमी से रन खर्चे हैं. आर्चर ने सेमीफाइनल मुकाबले में 10 ओवर में 32 रन देकर 2 विकेट झटके थे. वह इंग्लैंड के सबसे सफल गेंदबाज रहे हैं और सर्वाधिक विकेट लेने के मामले में तीसरे नंबर पर हैं. पहले नंबर पर 27 विकेट के साथ ऑस्ट्रेलिया के मिचेल स्टार्क रहे हैं और दूसरे पर बांग्लादेश के मुस्तफिजुर रहमान 20 विकेट के साथ हैं.

अगर फाइनल मुकाबले में वह अच्छी गेंदबाजी करती है तो उनको भी प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट चुना जा सकता है.

विलियमसन या रूट भी हो सकते हैं 

न्यूजीलैंड के लिए सबसे अहम खिलाड़ी केन विलियमसन हैं. वह उनके कप्तान हैं और उन्होंने इस टूर्नामेंट में 548 रन भी बनाए हैं. उन्होंने ये रन 91.33 की औसत से बनाए हैं. इसके साथ ही उनके 2 शतक और 2 अर्धशतक भी हैं. ज्यादातर मौकों पर वह टीम के खेवनहार रहे हैं. उन्होंने सेमीफाइनल में भारत के खिलाफ भी शानदार पारी खेली थी. उन्होंने 67 रन बनाए थे. वह टीम के सबसे प्रमुख बल्लेबाज हैं. अगर वह फाइनल में अच्छी पारी खेलने में कामयाब रहते हैं तो उनको भी टूर्नामेंट का बेस्ट प्लेयर चुना जा सकता है.

इंग्लैंड के जो रूट सर्वाधिक रन बनाने के मामले में इस टूर्नामेंट में 549 रन के साथ चौथे स्थान पर हैं. अच्छी पारी खेलने और टीम को जीत दिलाने पर उनको भी प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट चुना जा सकता है.

ये भी पढ़ें: England vs New zealand Live Updates: न्यूजीलैंड ने जीता टॉस, बल्लेबाजी करने का लिया फैसला

Related Posts