लीवरपूल ने नहीं दोहराई पिछले साल की गलती, छठी बार चैंपियंस लीग पर जमाया कब्ज़ा

दुनिया भर की नज़रें इस मुकाबले पर थीं. आखिरकार 2-0 के साथ लीवरपूल ने चैंपियंस लीग जीतने का ख्वाब पूरा कर ही लिया.
champions league, लीवरपूल ने नहीं दोहराई पिछले साल की गलती, छठी बार चैंपियंस लीग पर जमाया कब्ज़ा

मेड्रिड. मोहम्मद सालाह और डिवोक ओरीगी के गोलों की मदद से लीवरपूल ने शनिवार को चैंपिंयस लीग का खिताब अपने नाम कर लिया. मेड्रिड के वांदा मेट्रोपोलिटन स्टेडियम में हजारों दर्शकों के सामने खेले गए चैंपियंस लीग फाइनल मुकाबले में टाटेनहम हाट्सपर को 2-0 से मात मिली. लीवरपूल ने छठी बार फुटबाल की इस प्रतिष्ठित ट्राफी पर कब्जा जमाया है जो खुद में ऐतिहासिक है. इस यादगार लम्हे का साक्षी बनने के लिए लीवरपूल के फैन्स इंग्लैंड से भारी संख्या में यहां पहुंचे थे.

चैम्पियंस लीग के इतिहास में यह दूसरा मौका था जब इंग्लैंड के दो क्लबों के बीच फाइनल खेला गया. टाटेनहम जहां पहली बार यूरोप के इस सबसे प्रतिष्ठित क्लब खिताब के लिए प्रयासरत था, वहीं लीवरपूल को छठे खिताब का इंतजार था.

champions league, लीवरपूल ने नहीं दोहराई पिछले साल की गलती, छठी बार चैंपियंस लीग पर जमाया कब्ज़ा

आखिरकार कामयाबी लीवरपूल को मिली क्योंकि उसके सबसे करिश्माई खिलाड़ी मोहम्मद सालाह ने दूसरे मिनट में ही हासिल पेनाल्टी को गोल में तब्दील कर अपनी टीम को 1-0 से आगे कर दिया. टाटेनहम ने हाफ टाइम तक गोल बराबरी की कोशिश की लेकिन नाकामयाब रहा. अधिकांश वक्त तक गेंद भी टाटेनहम के खिलाड़ियों के पास रही लेकिन लीवरपूल का डिफेंस दीवार की तरह मजबूत बना रहा.

हाफ टाइम के बाद भी टाटेनहम ने बराबरी का गोल करने की पुरजोर कोशिश की लेकिन उसे सफलता नहीं मिली. इस क्रम में उसने लीवरपूल को भी गोल करने से रोके रखा लेकिन रेगुलेशन टाइम से तीन मिनट पहले ओरीगी टाटेनहम की रक्षापंक्ति में सेंध लगाने में सफल रहे और शानदार गोल दाग दिया.

champions league, लीवरपूल ने नहीं दोहराई पिछले साल की गलती, छठी बार चैंपियंस लीग पर जमाया कब्ज़ा
जोएल माटिप की मदद से 87वें मिनट में गोल कर ओरीगी ने टाटेनहम की वापसी की उम्मीदों पर पानी फेर दिया और अपनी टीम की जीत पक्की कर दी. इसके बाद का खेल सिर्फ औपचारिकता ही रह गया.

जुर्गेन क्लाप की टीम लगातार दूसरे साल फाइनल में पहुंची थी. बीते साल कीव के मेट्रोपोलिटन स्टेडियम में उसे रियल मेड्रिड के हाथों 1-3 से हार का सामना करना पड़ा था. उस मैच में सालाह रियल के कप्तान सर्गियो रामोस के हाथों गलत तरीके से टैकल किए गए थे और चोटिल होकर आगे खेल नहीं सके.

हालांकि इस साल सालाह ने मैदान पर आते ही गोल कर अपनी टीम को छठी बार चैम्पियन बनाने की कहानी लिख डाली. लीवरपूल ने 2005 के बाद यह खिताब जीता है. इससे पहले उसने 1977, 1978, 1981, 1984, और 2005 में चैम्पियन बनने का गौरव हासिल किया था.

रियल ने चैम्पियंस लीग खिताब सबसे ज़्यादा बार 13 बार जीता है. इटली के क्लब एसी मिलान ने इसे सात बार जीता जबकि तीसरे नम्बर पर लीवरपूल आ गया है जो छह खिताबी जीत दर्ज कर चुका है. इस जीत के साथ लीवरपूल ने बायर्न म्यूनिख और एफसी बार्सिलोना को पीछे छोड़ दिया है जिन्होंने पांच- पांच बार ये कप उठाया है.

Related Posts