मोहम्‍मद शमी के पचड़े में अभी नहीं पड़ेगा BCCI, अरेस्‍ट वारंट पर दिया यह बयान

मोहम्‍मद शमी के पास 15 दिन हैं. इस बीच उन्‍हें या तो अदालत में गुहार लगाकर जमानत के लिए अप्‍लाई करना होगा या सरेंडर करना होगा.

क्रिकेटर मोहम्‍मद शमी के खिलाफ कोलकाता की अलीपुर कोर्ट ने अरेस्‍ट वारंट जारी किया है. पत्‍नी हसीन जहां द्वारा पिछले साल दर्ज कराए गए घरेलू हिंसा के केस में शमी को पेश होने को कहा गया है. शमी के पास 15 दिन हैं, उन्‍हें या तो जमानत के लिए अप्‍लाई करना होगा या सरेंडर करना होगा. हालांकि BCCI ने शमी के मामले में फिलहाल कोई एक्‍शन लेने से इनकार कर दिया है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, BCCI के एक अधिकारी ने कहा कि अभी इस मामले में फैसला करना जल्‍दबाजी होगी और चार्जशीट आने के बाद ही कुछ किया जा सकता है. अधिकारी ने कथित रूप से कहा, “हां, हमें पता है कि एक अरेस्‍ट वारंट जारी हुआ है लेकिन हम अभी इस मामले में नहीं पड़ना चाहते. एक बार हम चार्जशीट देख लेंगे फिर तय करेंगे कि BCCI संविधान में किसी कार्रवाई की जगह है या नहीं. लेकिन इस समय मैं यही कहूंगा कि कुछ फैसला करना जल्‍दबाजी होगी.”

2018 में प्रशासकों की समिति (CoA) ने शमी का सेंट्रल कॉन्‍ट्रैक्‍ट रोक लिया था. हालांकि अब BCCI का कहना है कि ऐसा शमी की पत्‍नी द्वारा उनपर मैच फिक्सिंग के आरोप लगाने की वजह से किया गया. एंटी करप्‍शन यूनिट की जांच के बाद शमी को उनका कॉन्‍ट्रैक्‍ट वापस मिला था.

हसीन जहां ने मोहम्‍मद शमी के खिलाफ मारपीट, रेप, हत्या की कोशिश और घरेलू हिंसा जैसे कई गंभीर आरोप लगाए थे. हसीन जहां ने शमी के खिलाफ केस भी दर्ज करवाया हुआ है. शमी के तलाक का केस कोर्ट में चल रहा है. शमी 15 दिनों से अदालत में हाजिर नहीं हुए थे. इसी के चलते उनके खिलाफ वारंट जारी किया गया है.

ये भी पढ़ें

टेस्‍ट में बेस्‍ट हैं कप्‍तान विराट कोहली, बना डाला नया रिकॉर्ड

हैट्रिक बॉल पर कोहली ने चिल्लाकर कही थी ये बात, तब मिला तीसरा विकेट, खुद बुमराह ने किया खुलासा