मोहम्मद शमी : 2019 में बल्लेबाजों के लिए बने अबूझ पहेली

मोहम्मद शमी ने इस साल 8 टेस्ट मैचों में सबसे ज्यादा 33 विकेट लिए. उन्‍होंने 21 वन डे में 42 विकेट और 1 टी-20 मैचों में 2 विकेट लिए.

साल 2019 खत्म होने वाला है. ये साल भारतीय क्रिकेट की सफलताओं की कई कहानियों के लिए याद किया जाएगा. भारतीय क्रिकेट की बदली तस्वीर में एक तस्वीर भारतीय तेज गेंदबाजों के दबदबे की भी है. इस साल भारतीय तेज गेंदबाजों ने पूरी दुनिया में अपना लोहा मनवाया. भारतीय तेज गेंदबाजों में एक नाम मोहम्मद शमी का भी है. शमी की स्विंग और उनके शिकारों की संख्या ने उन्हें इस साल भारत के सबसे सफल गेंदबाज बनाया. शमी ऐसे हथियार के रूप में स्थापित हुए हैं, जिनके बिना टीम इंडिया मैदान में विपक्षी टीम को धाराशाही नहीं कर सकती.

मोहम्मद शमी, स्विंग का सुल्तान, रिवर्स स्विंग, इन स्विंग ,आउट स्विंग और सीधे विकेट पर गेंद. इनमें से रिवर्स स्विंग शमी का सबसे घातक हथियार है. पिछले एक-दो सालों में मोहम्मद शमी का नया रूप देख विपक्षी बल्लेबाज, हैरान-परेशान हैं. शमी की गेंद पर बल्लेबाजों को विकेट बचाना अब आसान नहीं होता.

पिछले एक साल में भारतीय तेज गेंदबाजों की यूनिट ने अपनी गेंदबाजी के दम पर टीम इंडिया को जीत का स्वाद चखाती आ रही है. इस साल कोलकाता में बांग्लादेश के खिलाफ खेले गुलाबी गेंद से खेले गए टेस्ट मैच में भारतीय तेज गेंदबाजों ने 20 में से 19 विकेट झटके. ये आकंड़े बताते हैं कि टीम इंडिया अब अपनी गेंदबाजी के दम पर मैदान मारने का दम-खम रखती है.

भारत के लिए शमी ने लिए सबसे ज्‍यादा विकेट

मोहम्मद शमी के लिए साल 2019 कई मायनों में यादगार रहा है. विश्व कप में शमी ने अफगानिस्तान के खिलाफ हैट्रिक ली, ये लम्हा उनके लिए हमेशा यादगार रहेगा. मोहम्मद शमी ने इस साल विकेटों की झड़ी लगा दी. आंकड़े साफ-साफ बताते हैं कि इस साल टीम इंडिया की जीत में शमी का कितना बड़ा रोल रहा है. शमी ने साल 2019 में तीनों फॉर्मेट को मिलाकर 30 मैच खेले , जिसमें उन्होंने 19.81 की औसत से कुल 77 विकेट लिए. भारत की ओर से साल 2019 में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज बने. शमी दुनिया में इस साल सबसे ज्यादा विकेट लेने में दूसरे नंबर पर रहे. ऑस्ट्रेलिया पैट कमिंस 34 मैचों में 94 विकेट लेकर सबसे आगे हैं, जबकि ऑस्ट्रेलिया के मिचेल स्टार्क 22 मैचों में 75 विकेट लेकर तीसरे नंबर पर हैं.

इस साल शमी शानदार फॉर्म में रहे, शमी ने इस साल अपनी गेंदबाजी में नई वेरियएशन लेकर आए, सीधी विकेट टू विकेट गेंद फेंकी. ऐसी गेंदबाजी पर अपनी विकेट बचाने की सारी जुगत बल्लेबाजों की फेस हो जाती है. शमी ने इस साल लिए अपने कुल 77 विकेट में से 27 विकेट बल्लेबाजों को बोल्ड कर लिया, जबकि 7 बार बल्लेबाज LBW आउट हुए.

इन आंकड़ों से साफ है कि शमी का सामना करना बल्लेबाजों को कितना मुश्किल होता है. दक्षिण अफ्रीका और बांग्लादेश के खिलाफ टेस्ट सीरीज में शमी ने बल्लेबाजों को पानी पिला कर रख दिया था.

मोहम्मद शमी ने इस साल 8 टेस्ट मैचों में सबसे ज्यादा 33 विकेट लिए. उन्‍होंने 21 वन डे में 42 विकेट और 1 टी-20 मैचों में 2 विकेट लिए.

विदेशी पिचों पर आग उगलते हैं शमी

उमेश यादव और ईशांत शर्मा मोहम्मद शमी से विकेट की गिल्लियां उड़ाने का राज पूछते हैं. रोहित शर्मा कह चुके हैं कि शमी का रिवर्स स्विंग में महारत हासिल करना,भारतीय पिचों पर टीम इंडिया के लिए काफी मददगार साबित हो रहा है लेकिन ऐसा नहीं है कि शमी सिर्फ भारतीय पिचों पर विकेट ले रहे हैं. शमी ने भारतीय पिचों से ज्यादा विदेशी पिचों पर विकेट लिए हैं. इस साल शमी तीनों फॉर्मेट को मिलाकर भारत में खेले 13 मैचों में 34 विकेट लिए हैं, जबकि विदेशी पिचों पर खेले 17 मैचों में 43 विकेट लिए हैं.

सुनील गावस्कर भी शमी की गेंदबाजी के मुरीद हैं . कुछ दिन पहले सुनील गावस्कर ने कहा था- मोहम्मद शमी कई बार उन्हें वेस्टइंडीज के मैल्कम मार्शल की याद दिलाते हैं. शमी की सफलता बताती है कि टीम इंडिया की जीत के लिए वो कितने जरूरी हैं.

ये भी पढ़ें

ICC ने पूछा- दशक का सर्वश्रेष्ठ कप्तान कौन?, फैंस ने इस नाम पर लगाई मुहर

सौरव गांगुली ने 40 मिनट में ऐसे जीता था पाकिस्तानी क्रिकेटर सकलैन मुश्ताक का दिल