विरोधी टीम का एक भी बल्लेबाज नहीं खोल सका खाता…फिर 754 रनों से जीती रोहित शर्मा की ये टीम

टीम के सभी 10 विकेट बिना रन बनाए गिर गए और एक बल्लेबाज जो नाबाद रहा वह भी अपना खाता नहीं खोल सका.

क्रिकेट में एक टीम के सभी बल्लेबाजों का 0 पर आउट हो जाना मुमकिन है लेकिन फिर भी अगर कोई यह सुनता है तो हैरानी से खुली उसकी आंखें बिना स्कोर कार्ड देखे इसपर हरगिज भी यकीन नहीं करेगा. हालांकि ऐसा ही एक मैच सामने आया है, जिसमें टीम का एक भी बल्लेबाज अपना खाता नहीं खोल सका और एक्स्ट्रा रनों के बूते टीम महज 7 के स्कोर पर ऑल आउट हो गई.

अंडर-16 हैरिस शील्ड टूर्नामेंट में स्वामी विवेकानंद स्कूल (SVIS) की टीम के खिलाफ चिल्ड्रन वेलफेयर सेंटर स्कूल टीम का एक भी बल्लेबाज खाता भी नहीं खोल सका. 762 रनों का पीछा करने उतरी चिल्ड्रन वेलफेयर सेंटर स्कूल की पूरी टीम सात रन ही बना सकी, लेकिन यह सात रन अतिरिक्त रनों के रूप में टीम के खाते में जुड़े. टीम के सभी 10 विकेट बिना रन बनाए गिर गए और एक बल्लेबाज जो नाबाद रहा वह भी अपना खाता नहीं खोल सका.

महज 7 रन पर ऑल आउट होने के साथ ही टीम को 754 रनों की करारी हार का सामना करना पड़ा. SVIS ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 45 ओवरों में चार विकेट के नुकसान पर 761 रन बनाए थे. उसके लिए मीट मयेकर ने 338 रनों की नाबाद पारी खेली. उनकी 134 गेंदों की पारी में सात छक्के और 56 चौके शामिल रहे.

मयेकर के अलावा कृष्णा पार्टे ने 95 और ईशान रॉय ने 67 रन बनाए. SVIS ने 39 ओवरों में चार विकेट के नुकसान पर 605 रन बनाए थे, लेकिन चिल्ड्रन वेलफेयर सेंटर स्कूल ने अपने 45 ओवर समय पर पूरे नहीं किए तो उन पर 156 रनों की पेनाल्टी लगी.

मालूम हो कि टीम इंडिया के धाकड़ सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा भी कभी इसी विवेकानंद इंटरनेशनल स्कूल की टीम से खेला करते थे. अपनी बल्लेबाजी के दम पर तमाम गेंदबाजों की आंखों में डर पैदा कर देने वाले रोहित का उनकी शानदार बल्लेबाजी के बूते ही इस स्कूल में एडमिशन मिला था.

ये भी पढ़ें: शहादत ने साथी खिलाड़ी को बीच मैदान मारा थप्पड़ और लात, BCB ने पांच साल के लिए किया बैन