आज ही के दिन पाकिस्तान ने विश्व कप जीतकर रचा था इतिहास

25 मार्च की ये तारीख पाकिस्तान (Pakistan) क्रिकेट फैंस के लिए ईद से कम नहीं है. ये दिन पाकिस्तान के इतिहास में सुनहरे पन्नों पर एक शानदार जीत के रूप में दर्ज है.
Cricket World Cup 1992, आज ही के दिन पाकिस्तान ने विश्व कप जीतकर रचा था इतिहास

25 मार्च की ये तारीख, पाकिस्तान के क्रिकेट इतिहास में बहुत खास है. 1992 में, ठीक 28 साल पहले आज ही दिन पाकिस्तान क्रिकेट टीम ने विश्व कप जीता था. पाकिस्तान में आज जिनकी हुकुमत है वही इमरान खान उस वक्त पाकिस्तान टीम के कप्तान थे. इमरान खान की कप्तानी में पाकिस्तान पहली बार वर्ल्ड चैंपियन बना था. विश्व कप की वो ट्रॉफी बेशक पाकिस्तान गई. लेकिन विश्व क्रिकेट में इस जीत ने एशियन टीम के बढ़ते दबदबे को मजबूत किया था.

1992 विश्व कप में पाकिस्तान ने पलट दिया था पासा

1992 विश्व कप में पाकिस्तान टीम की शुरूआत बेहद खराब हुई. पहला मैच पाकिस्तान का वेस्टइंडीज के साथ हुआ था. इस मैच में वेस्टइंडीज ने पाकिस्तान को 10 विकेट से बुरी तरह हराया था. अगले मैच में बाजी पाकिस्तान ने मारी. पाकिस्तान ने जिमबाब्वे को 53 रन से मात दी. पाकिस्तान को अपने तीसरे मैच में इंग्लैंड का सामना करना था. लेकिन बारिश की वजह से मैच रद्द हो गया.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

इसके बाद टूर्नामेंट का सबसे रोमांचक मैच हुआ. भारत और पाकिस्तान आमने-सामने थे. हर बार की तरह इस बार भी विश्व कप में पाकिस्तान को भारत के हाथों हार झेलनी पड़ी. भारतीय टीम ने पाकिस्तान को 43 रन से हराया. भारत के हारने के बाद पाकिस्तान को साउथ अफ्रीका के खिलाफ भी हार झेलनी पड़ी. पाकिस्तान की टीम अब तक इस टूर्नामेंट में कोई खास कमाल नहीं कर पाई थी.

किसी को पाकिस्तान क्रिकेट टीम से कोई उम्मीद नहीं थी. लेकिन इसके बाद इस टूर्नामेंट में पाकिस्तान ने मुड़कर नहीं देखा. पाकिस्तान ने फाइनल से पहले जीत की हैट्रिक लगा दी. पहले ऑस्ट्रेलिया जैसी दमदार टीम को हराया. फिर श्रीलंका को मात दी और बाद में न्यूजीलैंड को हराकर जीत की हैट्रिक पूरी की. इसके बाद पाकिस्तान ने फाइनल में एंट्री की.

विश्व कप फाइनल में पाकिस्तान ने इंग्लैंड को दी थी मात

आज तक विश्व कप के कुल 12 आयोजन हुए हैं. इसमें पाकिस्तान सिर्फ एक बार ही विश्व चैंपियन बना था. 1992 विश्व कप में पाकिस्तान ने अपना लोहा मनवाया था. विश्व कप का फाइनल मैच 25 मार्च को मेलबर्न में पाकिस्तान और इंग्लैंड के बीच खेला गया था. पाकिस्तान ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया था. पाकिस्तान की शुरूआत अच्छी नहीं हुई. पाकिस्तान की ओर से ओपनिंग करने आए आमिर सौहेल और रमीज राजा के बीच अच्छी साझेदारी नहीं हुई.

देखिए #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

पाकिस्तान का पहला विकेट 20 रन के स्कोर पर आमिल सौहेल के रूप मे गिर गया. तो रमीज राजा भी अगले 4 रन के भीतर ही आउट हो गए. 24 रन के स्कोर पर पाकिस्तान अपने दो विकेट खो चुका था. इसके बाद पाकिस्तान की पारी को कप्तान इमरान खान ने संभाला. इमरान खान और जावेद मियांदाद ने इंग्लैंड को खुद पर हावी होने से रोका. इसके बाद दोनों के बीच तीसरे विकेट के लिए 139 रन की साझेदारी हुई. इस साझेदारी को इंग्लैंड के रिचर्ड लिंगवर्थ ने तोड़ा और जावेद मियांदाद 58 रन बनाकर आउट हो गए.

इसके बाद इमरान खान का साथ देने पाकिस्तान का वो खिलाड़ी आया जिसने टीम में शामिल होने के साथ ही अपने दमदार बल्लेबाजी से तहलका मचा दिया था. जी हां, हम इंजमाम उल हक की ही बात कर रहे हैं. इंजमाम ने इमरान खान के साथ मिलकर स्कोरबोर्ड को आगे बढ़ाया. इसके बाद इमरान खान 72 रन की कप्तानी पारी खेलकर इयान बॉथम के हाथों आउट हो गए. तो इंजमाम भी 42 रन जोड़ पाए. पाकिस्तान ने 50 ओवर में 6 विकेट के नुकसान पर 249 रन का स्कोर बनाया.

देखिए फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

इसमें वसीम खान ने भी रन आउट होने से पहले 33 रन का योगदान दिया था. इंग्लैंड के सामने जीत के लिए 250 रन का लक्ष्य था. उस वक्त पाकिस्तान की गेंदबाजी यूनिट विश्व की सबसे घातक गेंदबाजी मानी जाती थी. और ऐसा ही विश्व कप के फाइनल मैच में भी देखने को मिला. पाकिस्तान के दिग्गज गेंदबाज वसीम अकरम उस वक्त अपनी शानदार फॉर्म में थे. उन्होंने इयान बॉथम को बिना खाता खोले ही आउट कर पाकिस्तान को पहली सफलता दिलाई.

पाकिस्तान की ओर से वसीम अकरम, आकिब जावेद, मुश्ताक अहमद और इमरान खान ने इंग्लैंड को लक्ष्य हासिल करने से रोक दिया. इंग्लैंड की टीम 227 रन पर ऑल आउट हो गई. इसमें वसीम अकरम और मुश्ताक अहमद को 3-3 विकेट मिले थे. आकिब जावेद को 2 विकेट और इमरान खान को 1 विकेट मिला. पाकिस्तान ने फाइनल मैच में इंग्लैंड को 22 रन से हराकर इतिहास रच दिया. 1992 विश्व कप से पहले पाकिस्तान कभी भी फाइनल तक नहीं पहुंचा था. इस ऐतिहासिक जीत के बाद पाकिस्तान में कई दिनों तक जश्न मनाया गया.

देखिए परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

1992 विश्व कप जीतने के बाद पिछले 28 साल से पाकिस्तान विश्व चैंपियन बनने के सपने देख रहा है. लेकिन उसका सपना सिर्फ सपना ही बना हुआ है. 1992 विश्व कप के बाद सिर्फ 1999 में पाकिस्तान विश्व कप के फाइनल में पहुंचा था. जहां उसे फाइनल में ऑस्ट्रेलिया ने 8 विकेट से हराकर उसका विश्व चैंपियन बनने का ख्वाब तोड़ दिया था. लेकिन 25 मार्च की ये तारीख पाकिस्तान क्रिकेट फैंस के लिए ईद से कम नहीं है. ये दिन पाकिस्तान के इतिहास में सुनहरे पन्नों पर एक शानदार जीत के रूप में दर्ज है.

Related Posts