खौफ के साये में ही सही लेकिन पाकिस्तान में खेलेगी श्रीलंकाई टीम?

सवाल किसी एक देश के खिलाड़ियों की सुरक्षा का नहीं बल्कि पाकिस्तान में क्रिकेट की मौत का है. अगर इस बार छोटी सी भी गड़बड़ हुई तो फिर पाकिस्तान में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट का नामोनिशां खत्म हो जाएगा.

पाकिस्तान का कराची शहर छावनी में तब्दील हो गया है. श्रीलंकाई टीम की सुरक्षा को लेकर जरा सी भी लापरवाहीका क्या मतलब होगा, ये बात लगता है पाकिस्तान को समझ आ रही है. सवाल किसी एक देश के खिलाड़ियों की सुरक्षा का नहीं बल्कि पाकिस्तान में क्रिकेट की मौत का है. अगर इस बार छोटी सी भी गड़बड़ हुई तो फिर पाकिस्तान में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट का नामोनिशां खत्म हो जाएगा.

श्रीलंका की टीम पर ही करीब 10 साल पहले पाकिस्तान में आतंकी हमला हुआ था. लाहौर में टीम की बस पर हमला हुआ. श्रीलंकाई खिलाड़ी घायल हुए. आईसीसी के अंपायर घायल हुए. बीच मैदान में जहाज उतारकर टीम के खिलाड़ियों को वहां से वापस निकालना पड़ा.

यही वजह है कि पिछले करीब 10 साल में कोई भी बड़ी अंतर्राष्ट्रीय टीम ने पाकिस्तान का दौरा नहीं किया. पिछले10 साल में जिम्बाब्वे और वेस्टइंडीज की टीम ही पाकिस्तान जाने के लिए तैयार हुई. साल 2017 में श्रीलंका की टीम ने भी एक मैच लाहौर में खेला था, लेकिन पिछले 10 साल में पाकिस्तान में 12 मैच खेले गए हैं.

इस बार भी श्रीलंका की टीम के स्टार खिलाड़ी पाकिस्तान जाने को तैयार नहीं हुए. उन्हें दस साल पहले की घटना अच्छी तरह याद है. जिन खिलाड़ियों ने पाकिस्तान के दौरे पर जाने से इनकार कर दिया है उनमें दिमुथ करुणारत्ने, लसिथ मलिंगा, एंजोलो मैथ्यूज, निरोशान डिकवेला, कुसल परेरा, धनंजय डिसिल्वा, तिसारा परेरा, अकीला धनंजय, सुरंगा लकमल और दिनेश चांदीमल शामिल हैं.

इस पूरे घटनाक्रम के बाद पाकिस्तानी मीडिया ने ये हो-हल्ला भी मचाया कि बीसीसीआई और आईपीएल मालिकों ने श्रीलंकाई खिलाड़ियों पर पाकिस्तान में ना खेलने का दबाव बनाया है, हालांकि ये बात कोरी बकवास निकली. चलिए अब आपको श्रीलंका की टीम का कार्यक्रम बता देते हैं. श्रीलंका की टीम पहले कराची में 3 वनडे मैचों की सीरीज खेलेगी और इसके बाद 5 अक्टूबर से टी-20 सीरीज खेली जाएगी.

दुनिया भर के क्रिकेट फैंस कतई नहीं चाहेंगे कि इस बार पाकिस्तानी आतंकी फिर किसी वारदात को अंजाम देने के बारे में सोचें, लेकिन इस बात की तस्दीक पाकिस्तान की सरकार को ही करनी होगी कि वो अपनी जमीन पर इन खिलाड़ियों को बेफिक्री के साथ खेल के मैदान में उतरने दे.

ये भी पढ़ें- मां बनने के बाद सानिया मिर्जा ने 4 महीने में घटाया 26 किलो वजन, वायरल हुआ वीडियो