आजकल के तेज गेंदबाज बल्लेबाज को चकमा देने में कमजोर- वसीम अकरम

वसीम अकरम (Wasim Akram) ने तेज गेंदबाजों पर बात करने के साथ-साथ आज के दौर के क्रिकेट पर भी अपनी राय रखी. अकरम ने कहा कि आज जितना क्रिकेट खेला जा रहा है उससे सब कुछ बदल गया है.
cricketer Wasim Akram, आजकल के तेज गेंदबाज बल्लेबाज को चकमा देने में कमजोर- वसीम अकरम

पाकिस्तान (Pakistan) के पूर्व कप्तान और दिग्गज तेज गेंदबाज वसीम अकरम (Wasim Akram) ने तेज गेंदबाजों को लेकर एक बड़ी टिप्पणी की है. वसीम अकरम का कहना है कि आजकल के तेज गेंजबाज बल्लेबाजों को सोच में डालने में नाकाम हैं. वो कुछ नया करने की कोशिश नहीं करते. एक ही लाइन और लेंथ पर गेंदबाजी करते हैं. इसकी वजह से वो बल्लेबाजों पर हावी होने में नाकाम होते हैं. उनके पास वेरिएशन की कमी दिखती है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

‘तेज गेंदबाजों के पास वेरिएशन की कमी’

पाकिस्तान को 1992 में विश्व कप (World Cup) जीताने में अहम रोल निभाने वाले वसीम अकरम इन दिनों काफी चर्चा में हैं. उनके ऊपर कई तरह के आरोप भी लग रहे हैं लेकिन अब अकरम इन मुद्दों से आगे बढ़कर आज के गेंदबाजों पर ध्यान दे रहे हैं. उन्होंने पूर्व भारतीय क्रिकेटर आकाश चोपड़ा से सोशल मीडिया (Social Media) पर कई मुद्दों पर बात की. इसमें उन्होंने कहा कि आज कल मैंने कई तेज गेंजबाजों को देखा है. वो पूरा दिन दौड़ते हैं. एक ही रन-अप के साथ गेंदबाजी करते हैं, बिना अपनी स्पीड में बदलाव किए. उनके पास कोई वेरिएशन नहीं है. वो बल्लेबाज को सोचने पर मजबूर नहीं कर पा रहे हैं. एक गेंदबाज को बल्लेबाज को ये सोचने पर मजबूर करते रहना चाहिए कि वो अगली गेंद क्या डालेगा. बहुत सारी छोटी-छोटी चीजें होती है जिससे गेंदबाज किसी भी बल्लेबाज को परेशानी में डाल सकता है. जब मैंने खेलना शुरू किया था उस वक्त बहुत कम लेफ्ट आर्म बॉलर थे जो राउंड द विकेट गेंदबाजी करते थे. एक युवा खिलाड़ी के तौर पर मैंने अपनी गेंदबाजी में काफी वेरिएशन किए थे. जिससे बल्लेबाजों को परेशानी होती थी.

टी-20 क्रिकेट से नहीं बनते गेंदबाज – वसीम अकरम

वसीम अकरम ने तेज गेंदबाजों पर बात करने के साथ-साथ आज के दौर के क्रिकेट पर भी अपनी राय रखी. अकरम ने कहा कि आज जितना क्रिकेट खेला जा रहा है उससे सब कुछ बदल गया है. टी-20 क्रिकेट गेंदबाज नहीं बनाता. युवा खिलाड़ियों को गेंदबाजी सीखने के लिए ज्यादा फर्स्ट क्लास क्रिकेट खेलना चाहिए. उन्होंने कहा कि टी-20 मनोरंजन के लिए शानदार है. इसमें काफी पैसा भी है. लेकिन मैं खिलाड़ियों को उनके टी-20 परफॉर्मेंस के आधार पर जज नहीं करता. मैं ये देखता हूं कि क्रिकेट के बड़े फॉर्मेट में खिलाड़ी कैसा प्रदर्शन करते हैं.

वसीम अकरम अपने वक्त के विश्म में सबसे सफल गेंदबाजों में गिने जाते थे. आज भी अकरम की गेंदबाजी के लोग फैन हैं. लेकिन पिछले काफी वक्त से खासकर पाकिस्तान टीम में तेज गेंदबाजों का वैसा बोलबाला नहीं रहा जो एक वक्त पर वसीम अकरम और शोएब अख्तर के दौर में था.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts