सलीम मलिक के मामले में PCB ने तोड़ी चुप्पी, कहा- जांच में मदद के बिना कैसे मिलेगी क्लीन चिट

सलीम मलिक (Saleem Malik) पाकिस्तान (Pakistan Team) के बड़े बल्लेबाजों में शुमार रहे हैं. उन्होंने पाकिस्तान की कप्तानी भी की है. पाकिस्तान के लिए उन्होंने सौ से ज़्यादा टेस्ट मैच खेले.
Saleem Malik has to respond, सलीम मलिक के मामले में PCB ने तोड़ी चुप्पी, कहा- जांच में मदद के बिना कैसे मिलेगी क्लीन चिट

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (Pakistan Cricket Board) ने पूर्व कप्तान सलीम मलिक (Saleem Malik) के बैन को लेकर बड़ा ख़ुलासा किया है. PCB ने कहा कि अगर वो जांच में सहयोग ही नहीं दे रहे हैं तो क्लीन चिट की उम्मीद कैसे कर रहे हैं? PCB ने कहा कि साल 2000 की जाँच प्रक्रिया को लेकर सलीम मलिक से कुछ सवाल किए गए थे, लेकिन उन्होंने उसका जवाब नहीं दिया.

PCB की तरफ़ से ये भी कहा गया कि ICC की जांच में सलीम मलिक ने ख़ुद अपनी गलती को स्वीकार किया था. दरअसल, पिछले दिनों सलीम मलिक ने क्रिकेट बोर्ड के सवालों की फ़ेहरिस्त पर जवाब देने से मना कर दिया था. सलीम मलिक ने अपने वक़ील के ज़रिए ये कहा था कि उन्हें उस मुलाक़ात का ब्यौरा याद नहीं जिससे संबंधित सवालों के जवाब PCB ने मांगे हैं.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

आपको बता दें कि PCB ने साल 2011 के आस-पास सलीम मलिक की लंदन में हुई कुछ मुलाक़ातों का ब्यौरा भी मांगा था. उस मुलाक़ात से जुड़े कुछ सवालों के जवाब मांगे थे. ऐसी ख़बर थी कि साल 2011 में लंदन में सलीम मलिक एक मीडिया हाउस के नुमाइंदे से मिले थे.

हालांकि सलीम मलिक का कहना था कि अब इस बात को इतने साल बीत चुके हैं कि उन्हें पूरी तरह कुछ याद नहीं. लिहाज़ा अगर अथॉरिटी के पास उनकी बातचीत की रिकॉर्डिंग है तो वो रिकॉर्डिंग उन्हें भी मुहैया कराई जाए. मलिक के इस बयान को पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की तरफ़ से लगातार हो रही अनदेखी पर उनके पलटवार की तरह देखा गया था. जिस पर अब PCB ने जवाब दिया है.

साल 2000 में किया था सलीम मलिक को लाइफ़ बैन

सलीम मलिक को साल 2000 में पाकिस्तान में उठे फिक्सिंग के तूफ़ान के बाद लाइफ़ बैन किया गया था. ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों ने उन पर फिक्सिंग के लिए ‘एप्रोच’ करने का आरोप लगाया था. इसके बाद पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने जस्टिस कयूम की एक कमेटी बनायी थी. उस कमेटी ने तमाम खिलाड़ियों के बयान लेने और जांच के बाद अपनी सिफ़ारिशों में सलीम मलिक पर लाइफ़ बैन लगाने की बात कही थी.

हालांकि कमेटी के अगुआ जस्टिस कयूम ने ये भी कहा था कि इंजमाम उल हक़ और वसीम अकरम जैसे खिलाड़ियों को भविष्य में कोई बड़ी ज़िम्मेदारी न दी जाए. लेकिन ये दोनों ही खिलाड़ी बाद में पाकिस्तान के कप्तान बनाए गए. सलीम मलिक हमेशा इस बात पर आपत्ति करते रहे और अफ़सोस करते रहे कि असरदार लोग बच गए जबकि वो कमज़ोर थे, इसलिए फंस गए. हाल में उनकी इस बात को और बल मिला है, क्योंकि पिछले दिनों वसीम अकरम पर और भी खिलाड़ियों ने आरोप लगाए थे.

पाकिस्तान के बड़े खिलाड़ियों में शुमार थे सलीम मलिक

सलीम मलिक पाकिस्तान के बड़े बल्लेबाजों में शुमार रहे हैं. उन्होंने पाकिस्तान की कप्तानी भी की है. पाकिस्तान के लिए उन्होंने सौ से ज़्यादा टेस्ट मैच खेले. जिसमें उन्होंने 5 हज़ार से ज़्यादा रन बनाए. वनडे क्रिकेट में भी उन्होंने 7 हज़ार से ज़्यादा रन बनाए हैं. इन दोनों फार्मेट को मिलाकर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में उनके बीस शतक है. सलीम मलिक को पाकिस्तान की लोअर कोर्ट ने क्लीन चिट दे दी थी. उसके बाद से वो लगातार PCB से ये अपील कर रहे हैं कि उन्हें क्रिकेट में वापसी का मौक़ा दिया जाए. जिससे वह अपना कोचिंग करियर शुरू कर सकें.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts