Coronavirus से जुड़ा राहुल द्रविड़ का वो सवाल जिसका नहीं है किसी के पास जवाब

द्रविड़ नेशनल क्रिकेट एकेडमी के हेड हैं और उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग और सरकार के साथ बातचीत करके एक ऐसा रास्ता निकालना होगा कि अगर किसी सीरीज में एक खिलाड़ी संक्रमित पाया भी जाए तो पूरी सीरीज पर असर न पड़े.
Rahul Dravid, Coronavirus से जुड़ा राहुल द्रविड़ का वो सवाल जिसका नहीं है किसी के पास जवाब

भारत के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ ने कोरोना काल में क्रिकेट की बहाली को लेकर बहुत बड़ा और वाजिब सवाल किया है. स्थिति ऐसी है कि इस सवाल का जवाब अभी कोई दे भी नहीं सकता है. राहुल द्रविड़ ने पूछा कि अगर टेस्ट मैच के दूसरे दिन किसी खिलाड़ी को संक्रमित पाया गया तो क्या टेस्ट मैच को खत्म कर दिया जाएगा? ऐसा इसलिए क्योंकि स्वास्थ्य विभाग के नियमों के मुताबिक अगर किसी खिलाड़ी को कोरोना से संक्रमित पाया गया तो बाकी खिलाड़ियों को भी ‘आइसोलेशन’ में भेज दिया जाएगा.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

राहुल द्रविड़ का ये सवाल इसलिए प्रासंगिक है क्योंकि इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड क्रिकेट की बहाली की दिशा में काम कर रहा है. फिलहाल वेस्टइंडीज और पाकिस्तान के खिलाफ उसकी सीरीज की रूपरेखा लगभग तैयार है. ECB ने ‘बायो-सेक्योर इन्वायरमेंट’ में क्रिकेट की बहाली की बात कही थी. इसके अलावा दक्षिण अफ्रीका ने भी भारत की मेजबानी के लिए यही आइडिया दिया था.

एक खिलाड़ी संक्रमित हो तो भी न रद्द करनी पड़े सीरीज

एक वेबिनार के दौरान राहुल द्रविड़ ने कहा कि क्रिकेट की बहाली के लिए इंग्लैंड की बेताबी समझी जा सकती है क्योंकि उनके पास किसी तरह की कमी नहीं है. लेकिन ‘बायो-सेक्योर इन्वायरमेंट’ का आइडिया ‘रियलिस्टिक’ नहीं है. द्रविड़ ने चिंता जताई कि ‘बायो-सेक्योर इन्वायरमेंट’ के अलावा खिलाड़ियों के आने-जाने-ठहरने और खाने पीने के बारे में भी तो सोचना होगा.

द्रविड़ नेशनल क्रिकेट एकेडमी के हेड हैं और उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग और सरकार के साथ बातचीत करके एक ऐसा रास्ता निकालना होगा कि अगर किसी सीरीज में एक खिलाड़ी संक्रमित पाया भी जाए तो पूरी सीरीज पर असर न पड़े.

फिलहाल सिर्फ वो सोचें जो अपने वश में है

राहुल द्रविड़ ने कहा कि इस पूरे मामले का एक और पहलू है. खिलाड़ी दर्शकों के सामने प्रदर्शन करना पसंद करते हैं. फैंस के साथ उनका एक रिश्ता होता है. फैंस की भीड़ में अच्छे प्रदर्शन का संतोष खिलाड़ी के लिए अलग ही होता है. द्रविड़ ने कहा कि फिलहाल मौजूदा स्थिति में खिलाड़ियों को केवल उन्हीं बातों के बारे में सोचना चाहिए जो उनके वश में है.

द्राविड़ ने आगे कहा कि एक खिलाड़ी के तौर पर हम अपने करियर में तमाम अनिश्चितताओं से गुजरते हैं. इस वक्त में खिलाड़ियों को सिर्फ अपनी तैयारी, प्रैक्टिस और भावनात्मक बातों के बारे में सोचना चाहिए. फिलहाल रिजल्ट के बारे में सोचने का कोई मतलब नहीं है. स्किल लेवल को पाने में थोड़ा वक्त लगेगा लेकिन इसके अलावा कोई रास्ता नहीं.

Related Posts