सालों बाद रिकी पोंटिंग ने किया खुलासा, किसने और क्यों दिया उन्हें ‘पंटर’ का नाम

रिकी पोंटिंग ने लिखा, "1990 में जब हम क्रिकेट अकादमी में रह रहे थे तब हमें प्रति महीने 40 डालर मिलते थे. मैं तब टीएबी में कुत्तों पर पैसा लगाने जाता था."

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग ने कहा है कि उनके पूर्व साथी लेग स्पिनर शेन वार्न ने उन्हें पंटर नाम दिया था. पूरे क्रिकेट जगत में पोटिंग का यह नाम प्रचलित है और कई खिलाड़ी उन्हें इसी नाम से पुकारते हैं. अब पोंटिंग ने ट्विटर पर एक प्रशंसक के सवाल का जवाब देते हुए बताया है कि यह नाम उन्हें वार्न ने दिया था.

पोंटिंग ने लिखा, “1990 में जब हम क्रिकेट अकादमी में रह रहे थे तब हमें प्रति महीने 40 डालर मिलते थे. मैं तब टीएबी में कुत्तों पर पैसा लगाने जाता था और तब शेन वार्न ने मुझे पंटर नाम दिया.”

ऑस्ट्रेलिया में शब्द पंट का संबंध घोड़ों या कुत्तों की रेस में उन पर शर्त लगाने से माना जाता है.


पोटिंग ने ऑस्ट्रेलिया को दो बार अपनी कप्तानी में विश्व विजेता बनाया था. उन्हीं के मार्गदर्शन में दिल्ली कैपिटल्स आईपीएल के बीते सीजन में लंबे अरसे बाद प्लेऑफ में पहुंची.

दिल्ली की टीम का हिस्सा युवा विकेटकीपर ऋषभ पंत इस समय बुरे दौर से गुजर रहे हैं और भारतीय टीम की अंतिम-11 से बाहर हैं. पोंटिंग ने युवा खिलाड़ी का समर्थन किया है और कहा है कि पंत अंतिम-11 में जरूर वापसी करेंगे.

एक प्रशंसक द्वारा ट्विटर पर पंत के ऊपर पूछे गए सवाल के जवाब में पोंटिंग ने लिखा, “पंत युवा खिलाड़ी हैं और उनमें बेहतरीन प्रतिभा है. मैं आईपीएल में दोबारा उनके साथ काम करने को तैयार हूं. मुझे पूरी उम्मीद है कि वह कभी न कभी टीम में वापसी जरूर करेंगे.”

ये भी पढ़ें-

क्या 29 जनवरी को ही टी-20 सीरीज जीतने जा रही है टीम इंडिया?

केएल राहुल और श्रेयस अय्यर की वजह से सुलझी टीम इंडिया की 2 सबसे बड़ी टेंशन