मास्टर ब्लास्टर सचिन के नाम गेंदबाजी में ऐसा रिकॉर्ड दर्ज, जिसे शेन वॉर्न भी नहीं तोड़ सके

हम आज एक ऐसे रिकॉर्ड की चर्चा कर रहे हैं. जो सचिन ने ठीक 22 साल पहले आज ही के दिन अपने नाम किया था. ये रिकॉर्ड उन्होंने बतौर बल्लेबाज नहीं बल्कि एक गेंदबाज के तौर पर अपना नाम किया था.
Sachin Tendulkar records in bowling, मास्टर ब्लास्टर सचिन के नाम गेंदबाजी में ऐसा रिकॉर्ड दर्ज, जिसे शेन वॉर्न भी नहीं तोड़ सके

सचिन तेंदुलकर, क्रिकेट की दुनिया का वो नाम जिसने 24 साल तक मैदान पर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया. हर विरोधी को घुटने टेकने पर मजबूर किया. सचिन क्रिकेट का वो नाम बना जिसे भारत में भगवान का दर्जा दिया गया. उन्होंने रिकॉर्ड्स की झड़ी लगाई. हम आज एक ऐसे रिकॉर्ड की चर्चा कर रहे हैं. जो सचिन ने ठीक 22 साल पहले आज ही के दिन अपने नाम किया था. ये रिकॉर्ड उन्होंने बतौर बल्लेबाज नहीं बल्कि एक गेंदबाज के तौर पर अपना नाम किया था.

1998 में सचिन ने वनडे मैच में लिए 5 विकेट

1 अप्रैल 1998 यानी ठीक 22 साल पहले आज ही के दिन सचिन तेंदुलकर ने वनडे क्रिकेट में अपने नाम 5 विकेट हॉल लेकर सनसनी मचाई थी. ये मैच भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच कोच्चि में खेला गया था. ये ट्राइएंगुलर सीरीज का पहला मैच था. भारतीय टीम ने पहले बल्लेबाजी कर 50 ओवर में 5 विकेट के नुकसान पर 309 रन का स्कोर किया. इस मैच में अजय जडेजा ने शतक लगाया था. लेकिन मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर का बल्ला कोई कमाल नहीं कर पाया था. सचिन ने महज 8 रन बनाए थे.

उस वक्त ऑस्ट्रेलिया की टीम का विश्व क्रिकेट में बोल बाला था. मार्क वॉ, एडम गिलक्रिस्ट, रिकी पॉन्टिंग जैसे ताकतवर बल्लेबाज ऑस्ट्रेलिया टीम का हिस्सा थे. 310 रन का टारगेट भी ऑस्ट्रेलिया के सामने छोटा लग रहा था. ऑस्ट्रेलिया ने अच्छी शुरूआत की. पहले 10 ओवर में भारतीय गेंदबाज विकेट के लिए संघर्ष करते रहे. लेकिन उन्हें कोई सफलता नहीं मिली. पहले विकेट के लिए मार्क वॉ और गिलक्रिस्ट के बीच 102 रन की साझेदारी हुई. इसके बाद श्रीनाथ ने मार्क वॉ को चलता किया. 20 ओवर तक ऑस्ट्रेलिया के तीन विकेट गिर चुके थे.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

इसके बाद स्टीव वॉ और माइकल बेवन के बीच अच्छी साझेदारी हो गई थी. इसके बाद शुरू हुआ सचिन तेंदुलकर की गेंदबाजी का कोहराम. सचिन ने स्टीव वॉ को 26 रन के निजी स्कोर पर कॉट एंड बोल्ड किया. स्टीव वॉ के बाद सचिन ने डैरन लेहमन को एलबीडब्ल्यू आउट कर पवेलियन पहुंचाया. फिर सचिन का शिकार हुए माईकल बेवन जो 65 रन जोड़ चुके थे.

सचिन ने ऑस्ट्रेलिया का मिडिल ऑर्डर धवस्त करते हुए भारत की जीत की उम्मीदों को बढ़ा दिया था. लेकिन इसके बाद भी सचिन का काम खत्म नहीं हुआ था. इसके बाद सचिन ने वो कर दिखाया जिसकी कल्पना शायद सचिन ने भी नहीं की होगी. उन्होंने टॉम मूडी और डेमियन मार्टिन को भी अपनी गेंदों में फंसाकर वनडे क्रिकेट में पहली बार अपने नाम पांच विकेट हॉल का रिकॉर्ड दर्ज किया. भारत ये मैच 41 रन से जीता था.

शेन वॉर्न से आगे सचिन

बतौर बल्लेबाज तो सचिन के नाम बहुत से रिकॉर्ड्स हैं. लेकिन सचिन एक पार्ट टाइम गेंदबाज की भूमिका में भी दिखाई देते थे. उनकी गेंदबाजी की खासियत यही थी कि वो टीम के को ब्रेक थ्रू दिलाने में कामयाब होते थे. सचिन के नाम इंटरनेशनल वनडे क्रिकेट में 2 पांच विकेट हॉल हैं. सचिन की ये उपलब्धि बेहद खास है. ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज गेंदबाज शेन वॉर्न के नाम भी वनडे क्रिकेट में सिर्फ एक पांच विकेट हॉल है. लेकिन सचिन ने ऐसा दो बार किया है. पहले 1998 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ किया था. दूसरी बार सचिन का शिकार बना था पाकिस्तान.

सचिन ने कोच्चि के ही मैदान पर ये कारनामा दोहराया था. इस बार विरोधी की शक्ल में पाकिस्तान था. अप्रैल का ही महीना था तारीख थी 2 अप्रैल 2005. भारत और पाकिस्तान के बीच सीरीज का पहला वनडे मैच था. इस बार भी भारत ने पहले ही बल्लेबाजी की थी. और सचिन का बल्ला शांत रहा था. सचिन सिर्फ 4 रन पर आउट हो गए थे. इसके बाद सचिन ने अपनी गेंदबादी से कहर बरपाया था और पाकिस्तान के पांच बल्लेबाजों को आउट कर पवेलियन भेज दिया था.

इस मैच को भारत ने 87 रन से जीता था. इस मैच में सचिन ने 10 ओवर में 50 रन देकर 5 विकेट लिए थे. क्रिकेट के महान खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर ने आज ही के दिन 22 साल पहले पहली बार वनडे क्रिकेट में पांच विकेट लेकर टीम इंडिया को जीत दिलाने के साथ-साथ अपने नाम एक खास उपलब्धि दर्ज की थी. ये रिकॉर्ड सचिन की गेंदबाजी क्षमता का परिचय देने के लिए काफी था. इसके बाद भी सचिन ने अपनी गेंदबाजी से कई मौकों पर टीम इंडिया को सफलता दिलाई थी.

Related Posts