7 करोड़ तक है सैलरी, डिटेल में जानें पुरुष-महिला टीम का ग्रेड

Share this on WhatsAppनयी दिल्ली क्रिकेट एक ऐसा खेल है, जिसे दुनियाभर में सबसे ज्यादा देखा जाता है और हर उम्र के लोग इसे देखना पसंद करते हैं. वहीं भारतीय क्रिकेटर्स की बात की जाए तो देश में ही नहीं बल्कि दुनियाभर में उनके बहुत से प्रशंसक हैं. भारतीय पुरुष क्रिकेटर्स और महिला क्रिकेटर्स दोनों […]

नयी दिल्ली

क्रिकेट एक ऐसा खेल है, जिसे दुनियाभर में सबसे ज्यादा देखा जाता है और हर उम्र के लोग इसे देखना पसंद करते हैं. वहीं भारतीय क्रिकेटर्स की बात की जाए तो देश में ही नहीं बल्कि दुनियाभर में उनके बहुत से प्रशंसक हैं. भारतीय पुरुष क्रिकेटर्स और महिला क्रिकेटर्स दोनों ही अपना बेहतरीन प्रदर्शन दिखाते हुए ज्यादातर इवेंट्स में देश को गौरवान्वित कर रहे हैं.

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) दुनिया का सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड है, जो कि अपने खिलाड़ियों को सबसे ज्यादा सैलरी देता है. इतना ही नहीं लोग यह भी मानते हैं कि भारतीय क्रिकेट टीम सबसे व्यस्त क्रिकेट टीम है, जो हमेशा किसी न किसी टूर्नामेंट में भाग लेती रहती है. 2018 अनुबंध के अनुसार, बीसीसीआई द्वारा पुरुष क्रिकेट टीम और महिला क्रिकेट टीम के लिए श्रेणियां रखी गई हैं. बीसीसीआई ने पुरुष टीम के लिए चार श्रेणी रखी हैं, तो वहीं महिला क्रिकेट टीम के लिए तीन श्रेणी रखी गई हैं. महिला क्रिकेटर्स और पुरुष क्रिकेटर्स की सैलरी की तुलना की जाए तो उसमें जमीन आसमान का फर्क नजर आएगा. हालांकि दोनों ही टीम देश के लिए खेलती हैं लेकिन जितना सम्मान और सैलरी महिला खिलाड़ियों को मिलनी चाहिए उतनी उन्हें नहीं मिल पा रही है.

7 से 3 करोड़ तक पुरुष क्रिकेट टीम को

सबसे पहले हम पुरुष क्रिकेट टीम की बात करते हैं. पहली श्रेणी A+ है, जिसमें वे खिलाड़ी आते हैं जो कि खेल के तीनों फॉर्मेट (टेस्ट, वनडे इंटरनेशनल और टी20 इंटरनेशनल) में खेलते हैं. इन खिलाड़ियों के लिए जो सालाना सैलरी बीसीसीआई ने रखी है वो है 7 करोड़ रुपए. इस श्रेणी में कप्तान विराट कोहली, रोहित शर्मा, शिखर धवन, भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह जैसे खिलाड़ी आते हैं. इसके बाद दूसरी श्रेणी है A. इस श्रेणी के खिलाड़ियों को 5 करोड़ रुपए सालाना सैलरी दी जाती है. इसके बाद तीसरी श्रेणी है B. इस श्रेणी में खिलाड़ियों को 3 करोड़ रुपए सालाना सैलरी दी जाती है और इसके बाद आती है श्रेणी C. इस श्रेणी में आने वाले खिलाड़ियों को एक करोड़ रुपए सालाना सैलरी दी जाती है.

50 से 10 लाख तक महिला क्रिकेटर्स को

हम महिला क्रिकेटर्स की सैलरी पर आएं तो आप यह जानकर हैरान रह जाएंगे कि उनकी सालाना आय C श्रेणी में आने वाले पुरुष क्रिकेटर्स से भी बहुत कम है. पुरुष क्रिकेटर्स की ही तरह महिला क्रिकेटर्स में भी श्रेणियां बांटी गई हैं. सबसे पहले बात करते हैं A श्रेणी की क्योंकि महिलाओं के लिए बीसीसीआई ने A+ श्रेणी रखी ही नहीं है. A श्रेणी में आने वाली महिला खिलाड़ियों को 50 लाख रुपए सालाना सैलरी दी जाती है. इस श्रेणी में मिताली राज, झुलन गोस्वामी, हरमनप्रीत कौर, स्मृति मंधाना जैसी खिलाड़ी शामिल हैं. B श्रेणी वाली महिला खिलाड़ियों को 30 लाख रुपए और C श्रेणी में आने वाली महिला खिलाड़ियों को 10 लाख रुपए सालाना सैलरी दी जाती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *