संजू सैमसन के कोच ने बताया आखिर पंत को क्यों मिले ज्यादा मौके

काफी बार ये बात कही गई कि ऋषभ पंत (Rishabh Pant) को संजू सैमसन (Sanju Samson) से ज्यादा मौके क्यों दिए गए. इसके पीछे की वजह संजू सैमसन के कोच बीजू जॉर्ज (Biju George) ने साफ की है.
Sanju Samson coach Biju George on Rishabh Pant, संजू सैमसन के कोच ने बताया आखिर पंत को क्यों मिले ज्यादा मौके

भारतीय क्रिकेट टीम में महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) का उत्तराधिकारी कौन होगा? इस सवाल का जवाब कुछ वक्त पहले तक ऋषभ पंत (Rishabh Pant) को बताया जा रहा था. लेकिन पंत के फ्लॉप होने के बाद अब तक इस सवाल का सही जवाब नहीं मिल पाया.

हालांकि लिमिटेड ओवर में केएल राहुल ने विकेटकीपर बल्लेबाज की जिम्मेदारी संभाली जरूर है. लेकिन वो ‘रेग्यूलर’ विकेटकीपर नहीं हैं. ऐसे में संजू सैमसन (Sanju Samson) को भी आजमाया गया. लेकिन सैमसन भी मौका चूक गए.

सवाल उठे कि सैमसन को पंत जितने मौका क्यों नहीं दिए गए. अब संजू सैमसन के कोच बीजू जॉर्ज (Biju George) ने उस सवाल का जबाव दिया है. उन्होंने कहा कि पंत को बाएं हाथ का बल्लेबाज होने की वजह से ज्यादा मौके दिए गए. ऐसा नहीं है कि सैमसन को जान बूझकर कम मौके दिए गए हों.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

‘टीम इंडिया के वर्ल्ड कप प्लान में थे पंत’

काफी बार ये बात कही गई कि ऋषभ पंत को संजू सैमसन से ज्यादा मौके क्यों दिए गए. आखिर क्यों पंत मैनेजमैंट और कप्तान कोहली के पसंदीदा खिलाड़ी हैं. लेकिन इसके पीछे की वजह संजू सैमसन के कोच बीजू जॉर्ज (Biju George) ने साफ की है.

उन्होंने कहा, ”अगर आप संजू के करीबी के तौर पर मुझसे पूछें, तो मैं कहूंगा कि संजू को ज्यादा मौके मिलने चाहिए थे. लेकिन अगर आप भारतीय टीम के नजरिए से देखें, तो ये समझना जरूरी है कि उन्होंने क्यों ऋषभ पंत को ज्यादा मौके दिए.

 

”पहली बात, ऋषभ पंत बाएं हाथ के बल्लेबाज हैं. दूसरी बात, भारतीय टीम की रणनीति. उनके जहन में विश्व कप था, जहां हो सकता था कि अच्छे लेफ्ट ऑर्म स्पिनर या लेग स्पिनर और बाएं हाथ के तेज गेंदबाज के खिलाफ पंत फायदेमंद होते. ये मेरा विचार है.”

”ये कप्तान और कोच के फैसले पर निर्भर करता था. ये चीफ सेलेक्टर को तय करना चाहिए था कि कौन विरोधी के खिलाफ ज्यादा उपयुक्त था-संजू या पंत? मुझे नहीं लगता कि जान बूझकर ऐसा होता है कि किसी को मौका नहीं दिया जाता”.

ऋषभ पंत और संजू सैमसन को कितने मौके मिले?

अब बात इन दोनों खिलाड़ियों के प्रदर्शन की. वैसे पंत को संजू की तुलना में काफी मौके मिले हैं. और वो ज्यादातर कप्तान के भरोसे पर खरे नहीं उतर पाए. लेकिन आंकड़े क्या कहते हैं वो भी समझ लेते हैं. 25 साल के संजू को सिर्फ अब तक चार टी20 मैच में ही आजमाया गया है.

Sanju Samson coach Biju George on Rishabh Pant, संजू सैमसन के कोच ने बताया आखिर पंत को क्यों मिले ज्यादा मौके
फाइल फोटो- संजू सैमसन

उन्हें पहला मौका 2015 में जिम्बाव्वे में मिला था और आखिरी मौका इस साल न्यूजीलैंड के खिलाफ. संजू सैमसन ने चार टी20 मैच में कुल 35 रन बनाए. वहीं पंत ने 13 टेस्ट में दो शतक लगाते हुए 814 रन बनाए. तो वनडे में 16 मैच में 374 रन उनके नाम हैं और 28 टी20 में 410 रन पंत ने अपने नाम किए हैं.

Sanju Samson coach Biju George on Rishabh Pant, संजू सैमसन के कोच ने बताया आखिर पंत को क्यों मिले ज्यादा मौके
फाइल फोटो- ऋषभ पंत

Related Posts