सालाना करार को लेकर सरफराज अहमद ने तोड़ी चुप्पी लेकिन वही कहा जिससे बात न बिगड़े

अपनी कप्तानी में पाकिस्तान (Pakistan) को चैंपियंस ट्रॉफी दिलाने वाले सरफराज अहमद की लगातार अनदेखी की जा रही थी. पहले उन्हें टीम से बाहर किया गया. उनकी कप्तानी चली गई. फिर पिछले हफ्ते जारी किए गए सालाना करार में उन्हें ‘ए’ ग्रेड से डीग्रेड करके ‘बी’ में डाल दिया गया था.
Sarfaraz Ahmed broke the silence about the annual agreement, सालाना करार को लेकर सरफराज अहमद ने तोड़ी चुप्पी लेकिन वही कहा जिससे बात न बिगड़े

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान सरफराज अहमद (Sarfaraz Ahmed) ने सालाना करार को लेकर अपनी चुप्पी तोड़ी है. उन्होंने कहा है कि ‘बी’ ग्रेड भी अच्छा ग्रेड होता है, लिहाजा उन्हें इससे कोई शिकायत नहीं है. उन्होंने ये भी कहा कि फिलहाल वो अपनी ग्रेडिंग से ज्यादा मैदान में वापसी का इंतजार कर रहे हैं.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

आपको बता दें कि अपनी कप्तानी में पाकिस्तान (Pakistan) को चैंपियंस ट्रॉफी दिलाने वाले सरफराज अहमद की लगातार अनदेखी की जा रही थी. पहले उन्हें टीम से बाहर किया गया. उनकी कप्तानी चली गई. फिर पिछले हफ्ते जारी किए गए सालाना करार में उन्हें ‘ए’ ग्रेड से डीग्रेड करके ‘बी’ में डाल दिया गया था. इसके बाद पाकिस्तान के कई पूर्व खिलाड़ियों ने इस मुद्दे पर PCB और मिस्बाह उल हक की सोच को कटघरे में खड़ा किया था.

क्यों सोच समझ कर बोल रहे हैं सरफराज अहमद

दरअसल, सरफराज अहमद को दिख रहा है कि ये वक्त उनके लिए बहुत ‘क्रूशियल’ है. इस वक्त उनका एक भी बयान उन्हें नुकसान पहुंचा सकता है. बड़ी मुश्किल से उन्हें इंग्लैंड दौरे के लिए जाने की हरी झंडी मिलती दिख रही है. पाकिस्तान की टीम इंग्लैंड में तीन टेस्ट मैच और तीन टी-20 मैच खेलने के लिए जाने वाली है.

इस दौरे के लिए मिस्बाह उल हक ने सरफराज अहमद को टीम में शामिल करने की बात कही है. सरफराज अहमद बतौर सेकेंड विकेटकीपर टीम के साथ जाएंगे. पिछले काफी समय से पाकिस्तान में ये चर्चा गर्म थी कि सरफराज अहमद की अनदेखी के पीछे मिस्बाह उल हक का ही हाथ है. ऐसी चर्चा थी कि सरफराज अहमद को मिस्बाह पसंद नहीं करते.

2019 विश्व कप के कुछ समय बाद ही गई थी कप्तानी

2019 विश्व कप में सरफराज अहमद की बहुत आलोचना हुई थी. उनकी कप्तानी के साथ-साथ बल्ले से भी वो बिल्कुल फ्लॉप साबित हुए थे. उनकी ‘बॉडी लैंग्वेज’ पर भी पाकिस्तानी फैंस ने काफी बवाल किया था. यहां तक की उनका मजाक उड़ाने वाला वीडियो काफी वायरल हुआ था. विश्व कप में इंग्लैंड के खिलाफ एक अर्धशतक के अलावा पूरे टूर्नामेंट में उनका बल्ला नहीं चला था.

भारत के खिलाफ हाई प्रोफाइल मैच में वो सिर्फ 12 रन बना पाए थे. इसके बाद श्रीलंका की टीम जब पाकिस्तान के दौरे पर आई तो भी उन्हें टीम में रखा गया था, लेकिन फिर उनकी टीम से छुट्टी कर दी गई थी. हाल ही में वनडे और टी-20 टीम की कमान भी बाबर आजम को सौंप दी गई थी. आपको बता दें कि सरफराज अहमद की कप्तानी में पाकिस्तान की टीम कई महीने तक दुनिया की नंबर एक टी-20 टीम थी.

Related Posts